Home /News /rajasthan /

Tokyo Paralympics: राजस्थान के 6 एथलीटों से होगी उम्मीदें, जानिए कौन हैं ये खिलाड़ी

Tokyo Paralympics: राजस्थान के 6 एथलीटों से होगी उम्मीदें, जानिए कौन हैं ये खिलाड़ी

देवेंद्र देश के लिए पैरालंपिक में दो बार गोल्ड मेडल जीत चुके हैं

देवेंद्र देश के लिए पैरालंपिक में दो बार गोल्ड मेडल जीत चुके हैं

Tokyo Paralympics : इस बार टोक्यो ओलंपिक में भारतीय खिलाड़ियों ने शानदार प्रदर्शन किया है. जेवेलियन थ्रोअर नीरज चौपड़ा समेत अन्य खिला​ड़ी ओलंपिक में मैडल लेकर आए हैं. अब ऐसी ही उम्मीदें पैरा ओलंपिक को लेकर है.

जयपुर. टोक्यो ओलंपि​​क-2020 के बाद अब बारी है पैरालंपिक की. टोक्यो में आज से 5 सितंबर तक होने वाले इन खेलों में देश के 54 एथलीट में राजस्थान के 6 खिलाड़ी भी शामिल हैं. गत दो बार के पैरालिंपिक में राजस्थान के देवेंद्र ने जैवलिन थ्रो में सोना बरसाया तो इस बार तीन खिलाड़ी जैवलिन थ्रो में राजस्थान से हैं. आर्चरी, बैडमिंटन और शूटिंग के खेल में भी राजस्थानी खिलाड़ी दावेदारी पेश करेंगे. प्रदेश के इन खिलाड़ियों पर न केवल राजस्थान बल्कि देशभर के खेलप्रेमियों की नजरें टिकी हुई हैं

राजस्थान के खिलाड़ियों की बात करें तो सबसे पहले नंबर पर हैं चूरू के देवेंद्र झाझडिया. जेवेलियन थ्रो के खेल में देवेंद्र ने इस बार अपने ही पुराने रिकॉर्ड को तोड़कर पैरालंपिक का टिकट कटाया है. देवेंद्र देश के लिए पैरालंपिक में दो बार गोल्ड मेडल जीत चुके हैं. अब तीसरे मेडल के लिए भी अपनी पूरी तैयारी कर चुके हैं. देवेंद्र ने 2004 में एथेंस में अपना पहला स्वर्ण पदक जीता. इसके बाद 2016 में रियो डी जनेरियो में भी पैरालंपिक में दूसरा गोल्ड मेडल हासिल किया.

देवेन्द्र की प्रधानमंत्री मोदी ने की थी हौंसला अफजाई
वे अर्जुन अवॉर्डी और खेल रत्न पद्मश्री पुरस्कारों से भी नवाजे जा चुके हैं. देवेंद्र का हाथ आठ साल की उम्र में पेड़ पर चढ़ते समय करंट आने से हुए हादसे के कारण काटना पड़ा था. इसके बावजूद उनका हौसला कम नहीं हुआ. हाल ही के दिनों में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उनकी हौंसला अफजाई की. उनकी प्रतियोगिता, पुरुषों का जेवलीन थ्रो F46 वर्ग में 30 अगस्त को होगी.

Congress Politics: वल्लभनगर विधानसभा उपचुनाव से पहले शक्तावत परिवार में में सामने आई दरार

सुंदर गुर्जर, एथलीट
अब बात उस खिलाड़ी की जिससे इस पैरालंपिक में बड़ी उम्मीद लगी हुई है. करौली के सुंदर गुर्जर भी भाला फेंकने की प्रतियोगिता में अव्वल दर्जे के एथलीट हैं. साल 2016 में एक हादसे में सुंदर को अपना हाथ गंवाना पड़ा था. इसके बावजूद मजबूत हौसलों ने उन्हें चैंपियन बना दिया. टोक्यो पैरालंपिक के लिए क्वालीफाई करने से पहले सुंदर वर्ल्ड पैरा एथलेटिक्स चैंपियनशिप में गोल्ड मेडल जीतकर रिकॉर्ड कायम कर चुके हैं. साल 2018 में एशियन गेम्स में भी सिल्वर और ब्रोंज मेडल जीत चुके हैं.

कोविड—19 में भी अभ्यास रखा जारी
सुंदर अर्जुन अवॉर्डी हैं. एसएमएस स्टेडियम में रहकर कोविड-19 महामारी के दौरान भी खुद के अभ्यास को निरंतर जारी रखा. एक वक्त जब सभी खिलाड़ी स्टेडियम से जा चुके थे तब अकेले अपने कमरे में रहकर सुंदर अपना अभ्यास कर रहे थे. उनके कोच महावीर सैनी के मुताबिक इस बार सुंदर निराश नहीं करेंगे और अपना बेहतरीन प्रदर्शन दिखायेंगे. उनकी प्रतियोगिता
पुरुषों का जेवलीन थ्रो F46 वर्ग में 30 अगस्त को होगी.

Rajasthan News Live Updates: पंचायतीराज चुनाव को लेकर बीजेपी-कांग्रेस ने झोंकी पूरी ताकत, चरम पर प्रचार अभियान

संदीप चौधरी, एथलीट
राजस्थान के एक और जेवेलियन थ्रोअर एथलीट संदीप चौधरी ने भी टोक्यो पैरालंपिक में शामिल हैं. राजस्थान के झुंझुनू से ताल्लुक रखने वाले संदीप दुबई में खेली गई वर्ल्ड पैरा एथलेटिक्स चैंपियनशिप में गोल्ड मेडल जीत चुके हैं. एशियाई पैरा खेलों में गोल्ड मेडल जीत चुके हैं. उनकी प्रतियोगिता पुरुषों की जेवेलियन थ्रो में F64 वर्ग में 30 अगस्त को ही होगी.
कृष्णा नागर, बैडमिंटन, खिलाड़ी
पैरा खेलों में जयपुर के कृष्णा नागर बैडमिंटन में 22 साल की उम्र में क्वालीफाई कर चुके हैं. अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में कृष्णा पदक जीत चुके हैं. साल 2019 में पैरा बैडमिंटन चैंपियनशिप में कृष्णा ने सिल्वर और ब्रोंज मेडल जीता, जबकि एशियन पैरा गेम्स में उन्होंने ब्रोंज मेडल जीता है. अपने वर्ग की प्रतियोगिता में वह नंबर टू की रैंकिंग पर बने हुए हैं. दुबई पैरा बैडमिंटन अंतरराष्ट्रीय चैंपियनशिप में दो स्वर्ण पदक जीत चुके है. उनकी प्रतियोगिता, 2 सितंबर को पुरुष सिंगल्स SS6 वर्ग में होगी.

अवनी लेखरा, शूटर
अब बात करते हैं निशानेबाजी की. पैरालंपिक खिलाड़ियों में अवनी लेखरा से शूटिंग में मेडल की उम्मीदें है. अवनी राष्ट्रीय, अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में कई मेडल जीत चुकी है. विश्व कप के 10 मीटर एयर राइफल स्पर्धा में जयपुर की पैरा निशानेबाज अवनी लेखरा ने रजत पदक जीतने का गौरव हासिल किया. साल 2012 में एक एक्सीडेंट के बाद अवनी व्हील चेयर पर आ गई. उनका सपना पैरालंपिक में गोल्ड मेडल जीतकर देश का नाम रोशन करना है. उनकी निशानेबाजी प्रतियोगिता 10 मीटर एयर राइफल SH1, महिलाओं का राउंड 2 में 30 अगस्त को होगी. इसके अलावा 3 सितम्बर को निशानेबाजी, 50 मीटर राइफल 3 पोजिशन SH1 में होगी.

श्याम सुंदर, धनुर्धर
तीरंदाजी के खेल में पैरालंपिक में राजस्थान से क्वालीफाई करने वाले हैं श्याम सुंदर. बीकानेर के रहने वाले श्याम का एक पैर बचपन से खराब है, लेकिन शरीर की यह कमी उनके इरादों को नहीं डिगा सकी. तमाम विपरीत परिस्थितियों के बावजूद होनहार धनुर्धर श्याम खुद को साबित किया. वे इससे पहले नीदरलैंड में हुई 13 वर्ल्ड चैंपियनशिप में 9 वीं रैंक हासिल की. 2018 में जकार्ता में आयोजित एशियन गेम्स में और हाल ही में दुबई में आयोजित फाजा इंटरनेशनल टूर्नामेंट समेत कई अंतराष्ट्रीय मुकाबलों में देश का प्रतिनिधित्व कर चुके हैं. उनकी तीरंदाज प्रतियोगिता 27 अगस्त को पुरुषों का व्यक्तिगत कंपाउंड इवेंट में होगी.

Tags: India in Olympics, Javelin throw in Tokyo Olympics, Olympic athlete, Olympic Medal

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर