लाइव टीवी

निजी वाहनों को टोल शुल्क की छूट वापस, आधी रात से वसूली शुरू

News18Hindi
Updated: November 1, 2019, 11:24 AM IST
निजी वाहनों को टोल शुल्क की छूट वापस, आधी रात से वसूली शुरू
गुरुवार आधी रात से टोल वसूली की प्रक्रिया शुरू हो चुकी है.

आज से स्टेट हाईवे (Rajasthan State Highway) पर निजी वाहनों को अब हर नाके पर टोल टैक्स के रूप में 30-55 रुपए चुकाने होंगे. टोल शुल्क लागू करने का नोटिफिकेशन जारी होते ही गुरुवार आधी रात से टोल वसूली की प्रक्रिया शुरू हो चुकी है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 1, 2019, 11:24 AM IST
  • Share this:
जयपुर. राजस्थान सरकार की ओर से स्टेट हाईवे (Rajasthan State Highway) पर टोल शुल्क लागू करने का नोटिफिकेशन जारी होते ही गुरुवार आधी रात से टोल वसूली की प्रक्रिया शुरू (Toll Tax Start On State Highway) हो गई. स्टेट हाईवे पर निजी वाहनों को अब हर नाके पर टोल टैक्स के रूप में 30-55 रुपए चुकाने होंगे. इधर, सरकार (Ashok Gehlot government) की ओर से कहा गया है कि राज्य में स्टेट हाईवे पर निजी वाहनों को टोल शुल्क में छूट देने के पूर्ववर्ती सरकार के बिना सोचे-समझे एवं जल्दबाजी में लिए गए फैसले से प्रदेश में सड़कों की मरम्मत और रखरखाव के कार्य प्रभावित हो रहे हैं. ऐसे में टोल शुल्क की छूट (No toll charges) वापस लेने का प्रस्ताव मंत्रीमण्डल द्वारा जनहित एवं राजकोष पर आने वाली बड़ी देनदारी को देखते हुए लिया गया है.
पिछले साल 172 करोड़ रुपए का हुआ नुकसान
गहलोत सरकार के अनुसार सड़कों पर टोल लगाने का मुख्य उद्देश्य सड़कों का सुदृढ़ीकरण एवं इसके बाद रखरखाव करना है. पूर्ववर्ती सरकार ने 1 अप्रैल, 2018 से राज्य में निजी वाहनों को 55 स्टेट हाईवे पर लगने वाले टोल शुल्क से छूट प्रदान की थी. इस कारण आधार वर्ष 2017-18 के अनुसार 172 करोड़ रुपए के टोल शुल्क का नुकसान हुआ. इसका प्रदेश में सड़कों की मरम्मत एवं निर्माण कार्यों पर विपरीत असर पड़ा. क्योंकि अनुबंध की शर्तों के उल्लंघन से सम्बन्धित अनुबंधकर्ता द्वारा मरम्मत एवं नवीनीकरण के कार्य भी नहीं कराए जा रहे हैं. साथ ही इस निर्णय से कुछ सड़क परियोजनाओं के नॉन-वाईबल होने की आशंका है, जिससे निर्माणाधीन सड़कों के कार्य भी भविष्य में प्रभावित होंगे तथा आमजन को परेशानी का सामना करना पड़ सकता है.

छूट से पहले जमा हो रहे थे 851 करोड़ रुपए सालाना

छूट से पहले पीडब्ल्यूडी, आरएसआरडीसी और रिडकोर की विभिन्न सड़कों पर सालाना टोल शुल्क संग्रहण लगभग 851 करोड़ रुपए था. जिससे सड़कों की निर्माण राशि का पुनर्भरण और मरम्मत कार्य हो रहा था.

ये भी पढ़ें- 

नगर पालिका चुनाव 2019: आज जारी होगी अधिसूचना, पांच नवंबर तक नामांकन
Loading...

TOLL TAX पर गहलोत सरकार को हनुमान बेनीवाल ने दी आंदोलन की चेतावनी

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए जयपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 1, 2019, 11:24 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...