Rajasthan Crisis : वेणुगोपाल का दावा, कल विधानसभा में कांग्रेस पार्टी एकजुटता से खड़ी होगी

कांग्रेस विधायक दल की बैठक के बाद सुलह की घोषणा करते संगठन महासचिव केसी वेणुगोपाल (बीच में).

केसी वेणुगोपाल (KC Venugopal) ने कहा, 'सबकुछ अच्छे से हो गया. अब कांग्रेस परिवार एक साथ है. हम मिलकर भाजपा की गंदी राजनीति के खिलाफ लड़ेंगे. कल विधानसभा में कांग्रेस पार्टी एकजुटता से खड़ी होगी.

  • Share this:
    जयपुर. राजस्थान (Rajasthan) के सियासी संकट (Political Crisis) का अंत हो चुका है. आज जयपुर में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के आवास पर कांग्रेस विधायक दल (CLP) की बैठक हुई. बैठक के बाद संगठन महासचिव केसी वेणुगोपाल (KC Venugopal) ने कहा, 'सब कुछ अच्छे से हो गया. अब कांग्रेस परिवार एकसाथ है. हम मिलकर भाजपा की गंदी राजनीति के खिलाफ लड़ेंगे. कल विधानसभा में कांग्रेस पार्टी एकजुटता से खड़ी होगी.

    महासचिव केसी वेणुगोपाल ने ट्वीट किया कि सच की गरिमा कोई विकल्प नहीं होता. दोस्ती और आदर्श की जो प्रतिबद्धता होती है वह टूट नहीं सकती. वे वक्त की परीक्षा में कामयाब होंगे और पार्टी की एकजुटता को बनाए रखेंगे. कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और राहुल गांधी के नायकत्व और निर्देश ने यह निश्चित किया है कि पार्टी की प्रतिबद्धता मजबूत बनी रहे.



    विवाद के बाद पहली बार गहलोत और पायलट की हुई मुलाकात

    राजस्थान का सियासी ड्रामा खत्म होने के बाद गुरुवार को पहली बार अपनी पार्टी से बागी हुए सचिन पायलट (Sachin Pilot) और मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) का सामना हुआ. सचिन पायलट जयपुर में सीएम आवास में हो रही बैठक में भी शामिल होने आए थे. बैठक में कांग्रेस के राष्‍ट्रीय महासचिव केसी वेणुगोपाल, राजस्‍थान पीसीसी चीफ गोविंद सिंह डोटासरा (Govind Singh Dotasara) और पार्टी के आला नेता शामिल हुए. सरकार बचने की खुशी में पार्टी नेताओं ने विक्ट्री साइन दिखाकर अपनी खुशी भी जाहिर की है. बैठक के बाद बीजेपी पर निशाना साधते हुए गोविंद सिंह डोटासरा ने कहा, अंग्रेजों की फूट डालो और राज करो की नीति बीजेपी की भी है. इसी अंग्रेजों की नीति पर बीजेपी ने राजस्थान में षडयंत्र किया, लेकिन वो विफल हो गए.

    पार्टी ने दोनों विधायकों का निलंबन रद्द कर दिया

    बागी विधायकों की घर वापसी के बाद पार्टी के तीखे तेवर नरम पड़ गए थे. कांग्रेस पार्टी ने विधायक भंवर लाल शर्मा (Bhanwar Lal Sharma) और विश्वेंद्र सिंह (Vishvendra Singh) के निलंबन को रद्द कर दिए. मालूम हो कि इन दोनों विधायकों पर अशोक गहलोत के नेतृत्व वाली राजस्थान सरकार को गिराने की साजिश में शामिल होने का आरोप लगा था. इसके बाद पायलट खेमे के इन दोनों विधायकों को पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से निलंबित कर दिया गया था. विधानसभा सत्र से पहले बड़ा फैसला लेते हुए पार्टी ने विश्वेंद्र सिंह और भंवरलाल शर्मा को वापस बहाल कर दिया है. होटल फेयरमोंट में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, केसी वेणुगोपाल और वरिष्ठ नेताओं की मौजूदगी में विधायकों का निलंबन रद्द करने का फैसला गया है. अविनाश पांडे और गोविंद सिंह डोटासरा ने ट्वीट कर दोनों विधायकों को बहाल करने की जानकारी दी है.

    मुख्यमंत्री ने ट्वीट कर वापसी का किया था स्वागत

    इससे पहले आज सुबह से ही प्रदेश में सत्ता-संघर्ष थमने के कयासों के बीच मुख्यमंत्री अशोक गहलोत लगातार सचिन पायलट और बागी विधायकों की घर-वापसी को लोकतंत्र की जीत बता रहे थे. सीएम गहलोत ने मामले को लेकर ट्वीट करते हुए कहा था कि बीती बातों को भूलकर अब आगे बढ़ने की जरूरत है. उन्होंने विधायकों से कहा कि आपसी मतभेद को भूलकर अब लोकतंत्र को बचाने की लड़ाई में जुट जाना है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.