15 दिन में 2 पुलिसकर्मियों की दिनदहाड़े हत्या, पुलिस महकमा सकते में

राजस्थान पुलिस का इकबाल कमजोर होता जा रहा है. प्रदेश में महज 15 दिनों के भीतर दो पुलिसकर्मियों की सरेराह हत्या कर दी गई. इससे पहले गत वर्ष सीकर में एक थानाप्रभारी और एक कांस्टेबल की बदमाशों ने गोली मारकर हत्या कर दी थी.

News18 Rajasthan
Updated: July 27, 2019, 1:40 PM IST
15 दिन में 2 पुलिसकर्मियों की दिनदहाड़े हत्या, पुलिस महकमा सकते में
कांस्टेबल मुकेश कुमार। फाइल फोटो।
News18 Rajasthan
Updated: July 27, 2019, 1:40 PM IST
राजस्थान पुलिस का इकबाल कमजोर होता जा रहा है. प्रदेश में महज 15 दिनों के भीतर दो पुलिसकर्मियों की सरेराह हत्या कर दी गई. पुलिस महकमा करीब 13 दिन पहले राजसमंद जिले में भीम थाने के हेड कांस्टेबल की हुई हत्या से उबरा भी नहीं था कि शुक्रवार रात टोंक में फिर एक पुलिस कांस्टेबल को चाकुओं से गोदकर उसकी हत्या कर दी गई. महज 15 दिन के भीतर हुई दूसरे पुलिसकर्मी की हत्या से पुलिस महकमा सकते में है. तीन दिन पूर्व अलवर में भी पुलिस पर बदमाशों ने फायरिंग की थी.

गत वर्ष थानाप्रभारी और कांस्टेबल को मारी थी गोली
इससे पहले गत वर्ष सीकर जिले के फतेहपुर कोतवाली के थानाप्रभारी और एक कांस्टेबल की बदमाशों ने गोली मारकर हत्या कर दी थी. राजसमंद और सीकर में पुलिसकर्मियों की हत्याएं ऑन ड्यूटी हुई थी. राजसमंद में हेड कांस्टेबल अब्दुल गनी गत 13 जुलाई को मारपीट के एक मामले की तफ्तीश करके लौट रहे थे तो उन पर इसी मामले से जुड़े आरोपियों ने प्राणघातक हमला कर दिया था. बाद में उनकी अस्पताल में मौत हो गई थी. वहीं सीकर में गत वर्ष फतेहपुर कोतवाल और एक कांस्टेबल बदमाशों का पीछा कर रहे थे. उसी दौरान उन्हीं बदमाशों ने दोनों की गोली मारकर हत्या कर दी थी.

हत्या के कारणों का अभी तक नहीं हो पाया है खुलासा

टोंक में पुलिस कांस्टेबल मुकेश चौधरी (25) की हुई हत्या के कारणों का अभी तक खुलासा नहीं हो पाया है. मुकेश पर शुक्रवार रात को टोंक-देवली राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या-12 स्थित मेहंदवास बायपास पर हमला किया गया था. उसे गंभीर हालात में जिला अस्पताल लाया गया, लेकिन वहां उसने दम तोड़ दिया. हमला कितने लोगों ने किया था और इसकी वजह क्या थी ? अभी इन बातों का खुलासा नहीं हो पाया है.

टोंक में पुलिस कांस्टेबल की चाकू से गोदकर हत्या

हेड कांस्टेबल की पीट-पीटकर हत्‍या, सात आरोपियों की हुई पहचान
First published: July 27, 2019, 12:51 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...