राजस्थान में पेट्रोल-डीजल पर बढ़ाया उत्पाद शुल्क और सेस, अब ये है स्थिति

एक्साइज ड्यूटी और सेस को लेकर थोड़ी भ्रम की स्थिति है लेकिन तेल की कीमतों का बढ़ना लगभगत तय माना जा रहा है.

Balkrishna Sharma | News18 Rajasthan
Updated: July 5, 2019, 6:25 PM IST
राजस्थान में पेट्रोल-डीजल पर बढ़ाया उत्पाद शुल्क और सेस, अब ये है स्थिति
तेल की कीमतों का बढ़ना लगभगत तय माना जा रहा है. (प्रतिकात्मक तस्वीर)
Balkrishna Sharma | News18 Rajasthan
Updated: July 5, 2019, 6:25 PM IST
पेट्राल और डीजल की कीमतें कम होने की उम्मीद लगाए बैठे उपभोक्ताओं को बजट से बड़ी निराशा हाथ लगी है. बजट में पेट्रोल-डीजल पर 1 प्रतिशत एक्साइज ड्यूटी लगाई गई है और प्रति लीटर 1 रुपए का सेस लगाया गया है. हालांकि राजस्थान में एक्साइज ड्यूटी और सैस को लेकर थोड़ी भ्रम की स्थिति है. लेकिन तेल की कीमतों का बढ़ना लगभग तय माना जा रहा है.

बजट विशेषज्ञ अक्षय हाड़ा का कहना है कि अभी सरकार को स्पष्ट करना होगा कि उत्पाद शुल्क और उपकर के भार को कंपनियां वहन करेंगी या उपभोक्ता पर डाला जाएगा. लेकिन एक बात तय है कि यदि सरकार को कंपनियों पर ही भार डालना था तो शुल्क और सैस लगाया क्यों? हो सकता है कि तत्काल पेट्रोलियम कंपनियां पेट्रोल-डीजल के दाम न बढ़ाएं, लेकिन क्रूड के दाम घटने पर रिटेल प्राइज नहीं घटाकर इस भार की पूर्ती की जा सकती है.

ये भी पढ़ें- मोदी सरकार 2.0 बजट के केन्द्र में गांव, गरीब और किसान

इस साफ मतलब यह है कि नुकसान उपभोक्ता का ही हुआ है. दूसरी ओर राजस्थान पेट्रोलियम डीलर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष सुनीत बगई का कहना है कि उनका राष्ट्रीय संगठन पेट्रोलियम कंपनियों से बात कर बजट प्रावधानों की समीक्षा कर रहा है. इसलिए अभी तय नहीं है कि बजट में उत्पाद शुल्क और सैस बढ़ाने का पेट्रोल-डीजल की कीमतों पर क्या असर होगा?

ये भी पढ़ें- BLOG: इलेक्ट्रिक कार खरीद पर आयकर में छूट सराहनीय लेकिन राजस्व व्यय में इजाफा निराश करने वाला

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए जयपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 5, 2019, 5:01 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...