Unique surgery: पेशेंट बात करता रहा और डॉक्टर्स ने निकाल दिया ब्रेन ट्यूमर

इस ऑपरेशन में मरीज को लकवे से बचाने के लिये तकनीक का कई स्तरों पर इस्तेमाल किया गया. (सांकेतिक तस्वीर)
इस ऑपरेशन में मरीज को लकवे से बचाने के लिये तकनीक का कई स्तरों पर इस्तेमाल किया गया. (सांकेतिक तस्वीर)

Unique surgery: राजधानी जयपुर में अवेक सर्जरी (Awake surgery) के माध्यम से एक पेशेंट की सफलतापूर्वक ब्रेन सर्जरी की गई है. इसमें सर्जरी के दौरान पेशेंट बात करता रहा और डॉक्टर्स ने उसके ब्रेन से ट्यूमर रिमूव (Tumor remove) कर दिया.

  • Share this:
जयपुर. क्या आप ठीक है ? कैसा महसूस कर रहे हैं ? हाथ पांव के मूवमेंट कर पा रहे हैं या नहीं ? आमतौर पर सर्जरी (Surgery)के बाद पेशेंट से यह सवाल किए जाते हैं लेकिन जब ये सवाल ऑपरेशन टेबल (Operation table) पर ऑपरेशन के दौरान किए जाए तो यह किसी अजूबे से कम नहीं है. लेकिन ऐसी ही एक अनोखी सर्जरी भगवान महावीर कैंसर हॉस्पिटल एंड रिसर्च सेंटर के न्यूरो ऑन्को सर्जन डॉ. नितिन द्विवेदी (Dr. Nitin Dwivedi) और उनकी टीम ओर से सफलतापूर्वक की गई है.

CISF के एक जवान की हुई सर्जरी
सर्जरी के दौरान पेशेंट ना सिर्फ होश में रहा बल्कि वह हाथ-पांव का मूवमेंट करते हुए बात करता रहा. डॉक्टर्स की टीम ने पेशेंट के ब्रेन से टयूमर निकालकर उसे कैंसर मुक्त कर दिया. डॉ. द्विवेदी ने बताया यह अवेक सर्जरी CISF के एक जवान की करी गई है. जवान को हाथ में कमजोरी महसूस होने के कारण हुई जांच में ब्रेन में ट्यूमर की पहचान हुई. यह ट्यूमर दिमाग के ऐसे महत्वपूर्ण हिस्से में था जो हाथ एवं चेहरे को नियंत्रित करता है. ऐसी स्थिति में अगर गांठ सामान्य ऑपरेशन के द्वारा निकाली जाती है तो हाथ एवं चेहरे पर कमजोरी (लकवा) की शत-प्रतिशत संभावना थी.

Jaipur: अजब-गजब केस, रावण को ले गई पुलिस, छुड़वाने के लिये कोर्ट पहुंचे लोग, जानिये क्या है पूरा मामला
कोई कमजोरी आती तो उसे तुरंत संभाला जा सकता है


जवान ने पहले कुछ डॉक्टर्स को इसका दिखाया था, लेकिन वहां हाथ का मूवमेंट बंद हो जाने की बात सामने आने पर उसने इसका उपचार नहीं कराया. करीब दो माह पहले जवान ने BMCHRC में डॉक्टर को दिखाया. यहां जवान की अवेक सर्जरी प्लान की गई. डॉ. द्विवेदी ने बताया कि मरीज का जागते हुए ऑपरेशन करने में सबसे बड़ा फायदा यह रहता है कि ट्यूमर निकालते समय अगर शरीर के किसी हिस्से में कोई कमजोरी आती तो उसे तुरंत संभाला जा सकता है. इस ऑपरेशन में मरीज को लकवे से बचाने के लिये तकनीक का कई स्तरों पर इस्तेमाल किया गया. मरीज की सर्जरी के दौरान कार्य क्षमता का आंकलन करने के लिए उससे बात करने के साथ ही हाथ-पांव और आखों का मूवमेंट करते रहने के लिए कहा गया.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज