Rajasthan Vaccination: राजस्थान में आज से 18 से 44 साल के लोगों को लगेगा कोरोना का टीका

चिकित्सा मंत्री ने बताया कि राज्य के 18 से 44 वर्ष की आयु वर्ग के सभी लोगों का टीकाकरण किया जा सकेगा. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

चिकित्सा मंत्री ने बताया कि राज्य के 18 से 44 वर्ष की आयु वर्ग के सभी लोगों का टीकाकरण किया जा सकेगा. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

Rajasthan Corona Vaccination: सीरम इंस्टीट्यूट ने प्रदेश को 5.44 लाख टीका देने पर सहमति जताई. राजस्थान में 18 से 44 वर्ष के आयु वाले 3.25 करोड़ लोगों को लगना है कोरोना का टीका.

  • Share this:
जयपुर. राजस्थान में कोरोना वायरस (Coronavirus) टीकाकरण का नया चरण शनिवार से शुरू होगा जिसमें 18 से 44 आयुवर्ग के लोगों का टीकाकरण होगा. राज्य के चिकित्सा व स्वास्थ्य मंत्री डॉ. रघु शर्मा ने कहा कि सीरम इंस्टीट्यूट ने शुक्रवार देर शाम 5.44 लाख टीके देने की सहमति दे दी. शर्मा ने बताया कि कंपनी ने पहले राजस्थान सरकार को तीन लाख खुराक देने की सहमति दी थी. उन्होंने कहा कि इसी के मद्देनजर शनिवार से राज्य 18 से 44 वर्ष आयु वर्ग के लोगों को टीका लगाने का काम शुरू किया जाना था. उन्होंने बताया कि शुक्रवार देर शाम कंपनी ने 5.44 लाख टीके इसी माह और मिलने की जानकारी दी है.

चिकित्सा मंत्री ने बताया कि राज्य के 18 से 44 वर्ष की आयु वर्ग के सभी लोगों का टीकाकरण किया जा सकेगा. उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार से पर्याप्त संख्या में टीके उपलब्ध कराने की मांग लगातार की जा रही है. गौरतलब है कि प्रदेश में 18 -44 वर्ष आयु वाले लोगों की संख्या 3. 25 करोड़ है. डॉ शर्मा ने कहा कि कोरोना वायरस संक्रमितों की तेजी से बढ़ती संख्या के कारण राज्य को एक मई से 15 हजार रेमडेसिविर इंजेक्शन प्रतिदिन चाहिए जबकि केन्द्र सरकार की ओर से जो आवंटन किया जा रहा है वह बेहद कम है.

67 हजार रेमडेसिविर इंजेक्शन का आवंटन

उन्होंने कहा कि अप्रैल माह में राजस्थान को 67 हजार रेमडेसिविर इंजेक्शन का आवंटन किया गया था लेकिन प्रदेश को केवल 40 हजार इंजेक्शन ही उपलब्ध हो सके. उन्होंने कहा कि राज्य में अस्पतालों या कोविड केयर सेंटर में पर्याप्त संख्या में बिस्तर उपलब्ध हैं लेकिन आक्सीजन और रेमडेसिविर का आवंटन केन्द्र सरकार के हाथ में होने के कारण चुनौती का सामना करना पड़ रहा है. दरअसल, अन्य राज्यों के साथ-साथ राजस्थान में भी कोरोना वायरस के मामले लगातार बढ़ रहे हैं. वहीं, कई मरीजों की रोज मौत भी हो रही है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज