Rajasthan Crisis: अब सरकार और राजभवन के बीच शुरू हुआ टकराव, गहलोत ने राज्यपाल पर लगाया बड़ा आरोप
Jaipur News in Hindi

Rajasthan Crisis: अब सरकार और राजभवन के बीच शुरू हुआ टकराव, गहलोत ने राज्यपाल पर लगाया बड़ा आरोप
गहलोत ने आरोप लगाया कि राज्यपाल पर दबाव पड़ रहा है. किन कारणों से रोका गया गया है. समझ से परे है.

राजस्थान में लगातार गहराते जा रहे सियासी संकट के बीच अब सरकार और राजभवन के बीच भी टकराव सामने आने लग गया है. सीएम अशोक गहलोत ने शुक्रवार को हाईकोर्ट के आदेश के बाद राजभवन जाने से पहले होटल फेयरमोंट के बाहर मीडिया में बड़ा बयान दिया.

  • Share this:
जयपुर. राजस्थान में लगातार गहराते जा रहे सियासी संकट (Political crisis) के बीच अब सरकार और राजभवन (Government and Raj Bhavan) के बीच भी टकराव शुरू हो गया है. सीएम अशोक गहलोत ने शुक्रवार को हाईकोर्ट के आदेश के बाद राजभवन जाने से पहले होटल फेयरमोंट के बाहर मीडिया में बड़ा बयान दिया. सीएम ने कहा कि कल राज्यपाल से मिलकर विधानसभा सत्र बुलाने की मांग रखी थी. हमें उम्मीद थी राज्यपाल रात तक विधानसभा सत्र बुलाने की अनुमति देंगे. लेकिन हमें दुख है कि राज्यपाल ने कोई फैसला नहीं किया. ऊपर से दबाव के कारण वे सत्र बुलाने का निर्देश नहीं दे रहे हैं.

जनता राजभवन को घेरेगी तो हमारी जिम्मेदारी नहीं होगी
सीएम गहलोत ने कहा कि हम विधानसभा के फ्लोर पर दूध का दूध और पानी का पानी करना चाहते हैं. हमारे पास बहुमत है. गहलोत ने कहा कि राज्यपाल से अभी भी फोन पर बात की है. हमने जल्द सत्र बुलाए जाने की अनुमति देने की मांग की है. अगर अनुमति नहीं देते हैं तो हमारे सभी विधायक राजभवन जाकर राज्यपाल से विधानसभा सत्र बुलाने की मांग करेंगे. गहलोत ने कहा कि राज्यपाल दबाव में ना रहे. अंतरात्मा की आवाज पर फैसला लें. अन्यथा जनता राजभवन को घेरेगी तो हमारी जिम्मेदारी नहीं होगी.

Rajasthan: सचिन पायलट खेमे को फिलहाल राहत, हाईकोर्ट ने दिया यथास्थिति बरकरार रखने का आदेश
संवैधानिक पद है और गरिमा है


गहलोत ने कहा कि राजस्थान में सरकार गिराने की ऐसी परपंरा ऐसी नहीं रही है. भैरोसिंह शेखावत की सरकार उनके ही साथी गिरा रहे थे. तब मैंने साथ देने से इंकार किया था. गहलोत ने कहा कि अभी राज्यपाल से फोन पर बात की है.
उनका संवैधानिक पद है और गरिमा है. वरना हमारे साथी विधायक मिलकर मांग करेंगे. गहलोत ने कहा कि सोमवार से हम विधानसभा सत्र चाहते हैं.

Rajasthan Political Crisis Live: राजस्थान हाईकोर्ट में सुनवाई पर रोक लगाने से SC का इनकार, सोमवार तक सस्पेंस

गहलोत बोले ऐसा नंगा नाच कभी नहीं देखा
गहलोत ने आरोप लगाया कि हमारे साथी बीजेपी की देखरेख में बंधक हैं. वो भी वहां से छूटना चाहते हैं. कइयों की आंखों में आंसू आ रहे हैं. वो वापस आना चाहते हैं. पूरा खेल बीजेपी और उनके नेताओं के षड्यंत्र का है. राजस्थान में भी दूसरे प्रदेशों की तरह करना चाहते हैं. गहलोत ने कहा कि कोरोना में हमने शानदार मैनेजमेंट किया, लेकिन इस दौर में निचले स्तर पर राजनीति हो रही है. गहलोत ने कहा कि ऐसा नंगा नाच कभी नहीं देखा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading