अपना शहर चुनें

States

Weather alert: राजस्थान में अगले 3-4 दिन शीतलहर और कोहरे की चेतावनी, पड़ सकती है कड़ाके की सर्दी

मौसम विभाग के अनुसार कई इलाकों के तापमान में 3 से 4 डिग्री सेल्सियस गिरने के आसार हैं. (सांकेतिक तस्वीर)
मौसम विभाग के अनुसार कई इलाकों के तापमान में 3 से 4 डिग्री सेल्सियस गिरने के आसार हैं. (सांकेतिक तस्वीर)

पश्चिमी विक्षोभ का असर समाप्त होने के बाद अब राजस्थान (Rajasthan) में कड़ाके की सर्दी का दौर शुरू होने वाला है. मौसम विभाग ने अगले तीन-चार दिन तक शीतलहर चलने और कोहरा (Cold wave and fog) पड़ने की चेतावनी दी है.

  • Share this:
जयपुर. पश्चिमी विक्षोभ (Western disturbance) का असर समाप्त होने के साथ ही अब प्रदेश में फिर कड़ाके की सर्दी (Winter) का दौर शुरू होने वाला है. मौसम विभाग (Weather department) ने अगले तीन चार दिन शीतलहर चलने और कोहरा पड़ने (Cold wave and fog) की चेतावनी दी है. मौसम विभाग के अनुसार शुक्रवार को जयपुर, कोटा, भरतपुर और बीकानेर संभाग में हल्के से मध्यम दर्जे का कोहरा छाने के आसार हैं.

वहीं 28 नवंबर से झुंझुनू, सीकर, चूरू, हनुमानगढ़ और श्रीगंगानगर जिलों में शीतलहर चलने की संभावना है. मौसम विभाग के प्रभारी निदेशक राधेश्याम शर्मा ने बताया कि कई इलाकों के 3 से 4 डिग्री सेल्सियस तापमान गिरने के आसार हैं. खासतौर पर उत्तरी राजस्थान के इलाकों में कड़ाके की सर्दी पड़ सकती है.

किसान आंदोलन: NDA गठबंधन में शामिल RLP ने दिखाई केंद्र को आंखें, हनुमान बेनीवाल ने दिया ये बड़ा बयान

प्रदेश में दो दिन तक बदला रहा था मौसम


उल्लेखनीय है कि पश्चिमी विक्षोभ की सक्रियता के कारण गत मंगलवार और बुधवार को प्रदेश में मौसम बदला हुआ रहा था. इन दो दिनों के दौरान राजधानी जयपुर समेत प्रदेश के कई जिलों में हल्की से लेकर तेज बारिश का दौर चला था. उसके बाद आज भी प्रदेश के कई इलाकों में बारिश हुई थी. इस दौरान कई जगह ठंडी हवायें भी चली थीं.

आज जयपुर, भरतपुर और करौली में हुई बारिश
आज तड़के जहां जयपुर के कई हिस्सों में हल्की बारिश हुई थी. वहीं भरतपुर और करौली में भी सुबह-सुबह मौसम का मिजाज बदल गया था. भरतपुर में सर्द हवाओं के बीच बरसात हुई. करौली में भी मौसम कुछ ऐसा ही रहा था. इस बारिश से किसान खुश भी हैं और चिंतित भी हैं. इस बारिश से रबी की फसल को फायदा होगा. चना और सरसों की फसल के लिए यह बारिश फायदेमंद है. दूसरी तरफ बुवाई में लेट हो चुके किसानों को इस बारिश से फिर बुवाई का मौका मिलेगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज