Rajasthan: जयपुर में आधे घंटे तक जमकर बरसे बादल, ठंडी बयार से मौसम हुआ खुशनुमा
Jaipur News in Hindi

Rajasthan: जयपुर में आधे घंटे तक जमकर बरसे बादल, ठंडी बयार से मौसम हुआ खुशनुमा
इससे पहले आज तड़के प्रदेश के करौली जिले में बादल जमकर बरसे थे. सांकेतिक फोटो.

जयपुर (Jaipur) में गुरुवार को एक बार फिर बादल बरसे. करीब आधे घंटे तक हुई जोरदार बारिश (Rain) से मौसम बेहद सुहावाना (Pleasant) हो गया. इससे पहले सुबह से ही राजधानी में बादलों ने डेरा डाल दिया था.

  • Share this:
जयपुर. मानसून (Monsoon) की राजस्थान पर मेहरबानी लगातार बनी हुई है. तीन-चार दिन के अंतराल के बाद गुरुवार को एक बार फिर राजधानी जयपुर (Jaipur) पर बादल मेहरबान हुये और यहां झमाझम बारिश (Rain) का दौर चला. शहर के विभिन्न इलाकों में करीब आधे घंटे तक जोरदार बारिश हुई. बारिश से पिंकसिटी का मौसम और खुशनुमा हो गया. मौसम विभाग ने आज प्रदेश के 9 जिलों के लिये येलो अलर्ट (Yellow alert) जारी कर रखा है.

बारिश का दौर करीब आधे घंटे तक चला
गुलाबी नगरी में आज सुबह से ही आसमान में बादलों ने डेरा डाल रखा था. बादलों की आवाजाही के बीच बह रही ठंडी बयार ने मौसम को खुशनुमा कर रखा था. उसके बाद करीब 11 बजे से शहर में बारिश का दौर शुरू हो गया. इस दौरान शहर के सी-स्कीम, ज्योति नगर, वैशाली नगर और गांधी पथ समेत कई इलाकों में तेज बारिश हुई. करीब आधे घंटे तक चले बारिश के इस दौर से मौसम में और रवानगी आ गयी. लोगों ने बारिश में भीगकर इसका लुत्फ उठाया.

Rajasthan Weather Updates: बूंदी और चित्तौड़गढ़ समेत 9 जिलों में भारी बारिश की चेतावनी, येलो अलर्ट जारी
राजस्थान के आसपास एक परिसंचरण तंत्र सक्रिय हो रहा है


दरअसल मौसम विभाग के अनुसार राजस्थान के आसपास एक परिसंचरण तंत्र सक्रिय हो रहा है. इसके कारण प्रदेश के कई इलाकों के मौसम में बदलाव हुआ है. मौसम विभाग ने आज प्रदेश के अधिकांश हिस्सों में हल्के से मध्यम दर्जे की बारिश होने और कहीं कहीं पर भारी बारिश होने की संभावना जता रखी है. मौसम विभाग के पूर्वानुमान के मुताबिक कई इलाकों में बादल बरसे भी हैं.

COVID-19:गहलोत सरकार का बड़ा फैसला, सितंबर माह से फिर होगी सीएम से लेकर अधिकारियों-कर्मचारियों के वेतन में कटौती

सुबह करौली में हुई थी जमकर बारिश
इससे पहले आज तड़के प्रदेश के करौली जिले में बादल जमकर बरसे थे. करौली इलाके में हुई बारिश से वहां नदी-नालों में पानी की अच्छी आवक हुई थी. इससे लोगों को गर्मी से काफी राहत मिली. मानसून के लगातार सक्रिय रहने से प्रदेश में अब औसत बारिश का आंकड़ा पूरा हो चुका है. हालांकि अभी तक प्रदेश के आठ जिलों में बारिश वहां से औसत अनुसार नहीं हो पायी है. लेकिन प्रदेश का कोई भी कोना ऐसा नहीं बचा है जहां अभी तक ठीकठाक बारिश नहीं हुई हो.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज