Rajasthan : बारिश को तरसे, प्रदेश के 33 में से 32 जिलों में बादल सामान्य से भी कम बरसे
Jaipur News in Hindi

Rajasthan : बारिश को तरसे, प्रदेश के 33 में से 32 जिलों में बादल सामान्य से भी कम बरसे
प्रदेश के किसी भी संभाग में अभी तक सामान्य बारिश भी दर्ज नहीं की गई है.

राजस्थान में मानसून की परफोर्मेंस इस बार बेहद निराशाजनक है. दक्षिण पश्चिम मानसून को प्रदेश में प्रवेश किये हुए करीब एक महीना पूरा होने जा रहा है, लेकिन अभी तक महज एक जिले में ही सामान्य से ज्यादा बारिश हुई है.

  • Share this:
जयपुर. राजस्थान में मानसून (Monsoon) की परफोर्मेंस इस बार बेहद निराशाजनक है. दक्षिण पश्चिम मानसून को प्रदेश में प्रवेश किये हुए करीब एक महीना पूरा होने जा रहा है, लेकिन अभी तक महज एक जिले में ही सामान्य से ज्यादा बारिश हुई है. शेष 32 जिलों में सामान्य से भी कम बारिश (Rain) दर्ज की गई है. अभी तक सबसे ज्यादा बारिश चूरू में दर्ज की गई है, जबकि सबसे कम टोंक में हुई है. आंकड़ों के अनुसार प्रदेशभर में शुरुआती एक महीने के दौरान 29 फीसदी कम बारिश दर्ज की गई है. प्रदेश में एक जून से लेकर 20 जुलाई तक 182.09 मिलीमीटर बारिश दर्ज की जाती है, लेकिन इस बार महज 129.03 फीसदी बारिश हुई है.

मानसून की कमजोर परफोर्मेंस
दक्षिण पश्चिम मानसून के तय समय पर प्रदेश में प्रवेश से प्रदेशवासियों को ये उम्मीद जगी थी कि इस बार मानसून बेहतर होगा. लेकिन शुरुआती एक महीने में मानसून की निराशाजनक परफोर्मेंस प्रदेशवासियों को चिंतित कर रही है. बारिश के आंकड़ों के अनुसार चूरू में सामान्य से ज्यादा बारिश और टोंक में सामान्य से 58 फीसदी कम बारिश हुई है. एक जून से लेकर 20 जुलाई तक के बारिश के आंकडों के अनुसार चूरू में सामान्य से 20.7 फीसदी ज्यादा बारिश दर्ज की गई है. टोंक के बाद अलवर में सामान्य से 54.8 फीसदी कम बारिश हुई है. एक जून से लेकर 20 जुलाई तक टोंक में 196.10 मिलीमीटर सामान्य बारिश होती है, लेकिन इस बार महज 80.63 मिलीमीटर बारिश ही दर्ज की गई है. इसी तरह अलवर में इस अवधि में सामान्य बारिश 275.90 मिलीमीटर होती है. लेकिन अलवर में इस बार इस दौरान महज 124.75 फीसदी बारिश हुई है.

Rajasthan Crisis Live Updates: पायलट गुट को फौरी राहत, राजस्थान हाई कोर्ट ने 24 जुलाई तक स्पीकर को कार्यवाही से रोका
अजमेर संभाग में सबसे कम बारिश


वाटर रिसोर्सेस डिपार्टमेंट के अनुसार प्रदेश के किसी भी संभाग में सामान्य बारिश भी दर्ज नहीं की गई है. अभी तक अजमेर संभाग में सबसे कम बारिश दर्ज की गई है. अजमेर संभाग में सामान्य से 43.7 फीसदी बारिश कम दर्ज की गई है. जबकि बीकानेर संभाग में 16 फीसदी, जोधपुर संभाग में 34, भरतपुर संभाग में 30, कोटा संभाग में 26 और उदयपुर संभाग में 14 फीसदी सामान्य से कम बारिश दर्ज की गई है.

20 प्लस और 20 माइनस को माना जाता है सामान्य
हालांकि सामान्य से 20 फीसदी ज्यादा हो या फिर 20 फीसदी कम उसे सामान्य ही माना जाता है. इस लिहाज से देखें तो प्रदेश में एक जिले में सामान्य से ज्यादा बारिश दर्ज की है. शेष सभी जिले सामान्य बारिश के स्तर से भी नीचे हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज