Rajasthan: मॉनसून पड़ा कमजोर, सिमटने लगी बारिश, शुरू हुई तापमान में बढ़ोतरी, बीकानेर में पारा पहुंचा 40 डिग्री
Jaipur News in Hindi

Rajasthan: मॉनसून पड़ा कमजोर, सिमटने लगी बारिश, शुरू हुई तापमान में बढ़ोतरी, बीकानेर में पारा पहुंचा 40 डिग्री
बुधवार को फलौदी, चूरू, जैसलमेर, बाड़मेर, कोटा और जयपुर में पारा 35 डिग्री सेल्सियस के पार पहुंच गया.

राजस्थान में मानसून (Monsoon) कमजोर पड़ने के साथ ही बारिश (Rain) का दौर लगभग थम सा गया है. वहीं तापमान में बढ़ोतरी (Temperature rised) शुरू हो गई है. बीकानेर में पारा 40 डिग्री तक पहुंच गया है.

  • Share this:
जयपुर. राजस्थान में मॉनसून (Monsoon) बेशक कमजोर पड़ चुका है, लेकिन इसके बावजूद प्रदेश के कुछ हिस्सों में अभी भी बारिश की संभावना बनी हुई है. खासतौर पर पूर्वी राजस्थान में बारिश (Rain) के आसार जताये जा रहे हैं. मौसम विभाग के अनुसार आज भी प्रदेश के कुछ इलाकों में हल्की बारिश हो सकती है. मॉनसून प्रदेश में अब विदाई की ओर बढ़ने लग गया है. अगले सप्ताह से प्रदेश में मानसून की विदाई की शुरुआत संभव है. ऐसे में अब प्रदेश में तापमान में बढ़ोतरी (Temperature rised) का दौर फिर से शुरू हो गया है.

जयपुर ब्‍लास्‍ट के गुनहगारों को मौत की सजा सुनाने वाले जज को सता रहा जान का खतरा, DGP को लिखी चिट्ठी

बीकानेर में पारा 40 डिग्री सेल्सियस के पास पहुंचा
बारिश की गतिविधियां कम होने के साथ ही अब सूर्यदेव ने अपने तीखे तेवर दिखाने शुरू कर दिए हैं. प्रदेश के अधिकांश हिस्सों के तापमान में बढ़ोतरी का दौर शुरू हो गया है. बीकानेर में पारा 40 डिग्री सेल्सियस के पास पहुंच चुका है. मौसम विभाग के अनुसार बीकानेर में बुधवार को तापमान 39.4 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया है. इसी तरह फलौदी, चूरू, जैसलमेर, बाड़मेर, कोटा और जयपुर में पारा 35 डिग्री सेल्सियस के पार पहुंच गया. जयपुर में भी तेज धूप और उमस लोगों को परेशान कर रही है. राजधानी जयपुर में दिन और रात का तापमान सामान्य से 2 डिग्री सेल्सियस ज्यादा बना हुआ है.
Rajasthan: कोरोना का बढ़ता खतरा और बेपरवाह नेता, स्वागत-सत्कार में उड़ा रहे नियमों की धज्जियां



17 सितंबर से शुरू हो सकती है मॉनसून की विदाई
प्रदेश में 17 सितंबर से मॉनसून की विदाई शुरू हो सकती है. सितंबर माह के आखिरी तक मॉनसून पूरे प्रदेश से विदा ले सकता है. प्रदेश में इस बार मॉनसून का प्रदर्शन बेहद सामान्य रहा है. हालांकि राजस्थान में बारिश का आंकड़ा औसत बारिश को पार कर चुका है. मेवाड़ अंचल में अच्छी बारिश हुई है, लेकिन पश्चिमी राजस्थान के कुछ जिलों समेत कई अन्य जिले इस बार प्यासे रहे गये. फिर भी उम्मीद अभी बाकी है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज