मौसम अपडेट: राजस्थान में मानसून के लिये अनुकूल बन रही हैं परिस्थितियां, जानिये क्या है वजह

राजस्थान में मानसून सामान्यतः जून के आखिरी तक प्रवेश करता है. इस बार मानसून के सामान्य रहने की संभावना है. (सांकेतिक तस्वीर)

राजस्थान में मानसून सामान्यतः जून के आखिरी तक प्रवेश करता है. इस बार मानसून के सामान्य रहने की संभावना है. (सांकेतिक तस्वीर)

Rajasthan Weather Updates: मौसम विभाग के मुताबिक आगामी 11 और 12 जून को उत्तरी बंगाल की खाड़ी में एक कम दबाव का क्षेत्र बनने की संभावना है. यह राजस्थान में मानसून की स्थितियों के लिये काफी अनुकूल होगा.

  • Share this:

जयपुर. राजस्थान में पश्चिमी विक्षोभ (Western disturbance) का असर समाप्त होने के साथ ही प्रदेश में एक बार फिर से गर्मी के तेवर तीखे होने लग गये हैं. लेकिन सुकून की बात यह है कि इस बीच बंगाल की खाड़ी में बन रहे कम दबाव के क्षेत्र के कारण राजस्थान में मानसून (Mansoon) को लेकर स्थितियां अनुकूल बनने लग गई हैं. इससे पश्चिमी राजस्थान में तेज हवा चलने के आसार हैं. ये परिस्थितियां मानसून के आगे बढ़ने के लिए अनुकूल बताई जा रही हैं.

मौसम विभाग के अनुसार 11 और 12 जून को उत्तरी बंगाल की खाड़ी में एक कम दबाव का क्षेत्र बनने की संभावना है. इससे पूर्वी भारत के कुछ राज्यों में मानसून के पहुंचने में मदद मिलेगी. मौसम विभाग के अनुसार प्रदेश में पिछले 24 घंटों में तापमान में 2-3 डिग्री सेल्सियस की बढ़ोतरी दर्ज हुई है. सर्वाधिक तापमान श्रीगंगानगर में 45.0 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया है.

पश्चिमी राजस्थान में तेज हवाएं चलने के आसार

मौसम विभाग के अनुसार पश्चिमी राजस्थान के ऊपर एक प्रेशर ग्रेडियंट फोर्स बनने के कारण जोधपुर और बीकानेर संभाग के जिलों में अगले तीन-चार दिन अपेक्षाकृत तेज हवाएं चलेंगी। इन हवाओं की गति 30 से 35 किमी प्रति घंटे रह सकती है. हवा की दिशा दक्षिण-पश्चिमी होगी. हवा की तेज गति के कारण आसमान में धूल भी छाई रहेगी. लेकिन बारिश की संभावना नहीं है.
अभी राज्य के ज्यादातर भागों में बारिश की संभावना नहीं

मौसम विभाग के अनुसार आगामी तीन चार दिनों तक राज्य के ज्यादातर भागों में बारिश की संभावना नहीं है. उदयपुर और कोटा संभाग के जिलों में आज कुछ स्थानों पर हल्की बारिश संभव है. राजस्थान में मानसून सामान्यतः जून के आखिरी तक प्रवेश करता है. इस बार मानसून के सामान्य रहने की संभावना है. लेकिन इससे पहले मानसून पूर्व की बारिश प्रदेशवासियों को राहत देगी.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज