अपना शहर चुनें

States

आपके लिए इसका मतलब: फेसबुक पर दोस्ती कर ठगी करने वाला पकड़ा, आप सावधान रहिये

दुनिया में पैट्रिक एक ही नहीं है वो जगह-जगह है. पता नहीं कब, कोई, कहां आपको अपने जाल में फांस ले कुछ नहीं कहा जा सकता. लिहाजा सतर्क रहें. (सांकेतिक तस्वीर)
दुनिया में पैट्रिक एक ही नहीं है वो जगह-जगह है. पता नहीं कब, कोई, कहां आपको अपने जाल में फांस ले कुछ नहीं कहा जा सकता. लिहाजा सतर्क रहें. (सांकेतिक तस्वीर)

आपके लिए इसका मतलब: कुछ खबरें ऐसी होती हैं जिनका सरोकार सीधे तौर पर आम आदमी (Common man) से होता है. आज की ऐसी ही खबर है जोधपुर में विदेशी ठग यूगांडा के पैट्रिक की गिरफ्तारी की. यह खबर आपके लिये काफी महत्वपूर्ण (Important) है. यह सीधे आपसे जुड़ी है.

  • Share this:
जयपुर. प्रदेश के दूसरे सबसे बड़े शहर जोधपुर की पुलिस ने दिल्ली से एक विदेशी ठग (Foreign thugs) पैट्रिक को गिरफ्तार किया है. पैट्रिक यूगांडा (Uganda) का रहने वाला है. यह ठग फेसबुक पर पहले लोगों से दोस्ती गांठता है. बाद में उन्हें अपने झांसे में लेकर उनके बैंक खातों (Bank accounts) से रकम उड़ाकर उन्हें साफ कर देता है. यह विदेशी ठग देश की राजधानी दिल्ली में बैठकर देशभर के लोगों को ठगता (Cheat) रहा है. जोधपुर की एक महिला से भी इसने फेसबुक पर दोस्ती कर उसके बैंक खाते में सेंध लगा डाली. मित्रता गांठकर 16.30 लाख रुपए उसके बैंक एकाउंट से पार कर लिये.

क्यों होता है ऐसा
दरअसल सोशल मीडिया पर एक्टिव रहते हुये हम बहुत सी बातों को ध्यान नहीं रखते हैं. ज्यादा से ज्यादा फ्रेंड बनाने और फॉलोवर्स बढ़ाने के लिये बिना सोच समझे कुछ भी कर डालते हैं. हम ये नहीं देखते की फेसबुक और किसी अन्य सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर हम जिस किसी से चैटिंग कर रहे हैं वो कौन है ? उसका बैकग्राउंड क्या है ? वह हम से चाहता है? हम बस मजे के लिये चैटिंग या दूसरी चीजें करते रहते हैं. सामने वाला विदेशी महिला और पुरुष हो तो हमारी बांछे खिल जाती है. हम बिना कुछ सोचे-समझे उससे कोई भी बात शेयर कर लेते हैं. यहीं पर हम मात खा जाते हैं. सोशल मीडिया प्लेटफार्म का उपयोग करने के लिये पहले हमे सोशल मीडिया फ्रेंडली होना पड़ेगा. उसकी गहराई में जाकर उसका नफा नुकसान देखना होगा. तब जाकर हमें किसी से कोई जानकारी शेयर करनी चाहिये.

सावधान: यह विदेशी ठग फेसबुक पर दोस्ती कर बैंक खाता खाली कर देता है, जोधपुर पुलिस ने दिल्ली से दबोचा



अन्यथा यह हो सकता है
आजकल जितना फ्रॉड सोशल मीडिया पर होता है उतना शायद दूसरी जगह नहीं होता है. साइबर क्राइम करने वाले आम लोगों की कमजोरी को बहुत बेहतर तरीके से समझते हैं. इसके लिये वे नये-नये हथकंडे अपनाते हैं. शिकार को जाल में फंसाने के लिये चुग्गा डालते हैं और अक्सर लोग उनके झांसे में आ ही जाते हैं. सोशल मीडिया प्लेटफार्म के जरिये ठगी की शिकार होने वाली जोधपुर की महिला अकेली नहीं हैं, बल्कि इनकी तादाद हजारों में है. बैंक समेत अन्य संस्थायें समय-समय पर इस बारे में लोगों को सावचेत भी करती हैं, लेकिन हम उन्हें अनदेखा कर देते हैं. इसका परिणाम यह होता है कि हम धोखा खाते हैं और फिर पुलिस के पास गुहार लगाते हैं.

सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर इन बातों का रखिये ध्यान
किसी भी सोशल मीडिया प्लेटफार्म का उपयोग करने से पहले गहराई से उसे समझें. अगर आपको जानकारी नहीं है तो गूगल या फिर किसी जानकार से उसे संचालित करने की जानकारी लेवें. अनजान लिंक और साइट को नहीं खोलें. हर किसी चीज को फॉरवर्ड ना करें. सोशल मीडिया के विभिन्न प्लेटफार्म पर कई तरह के झांसे वाली खबरें, वीडियो और अन्य चीजें चलती रहती हैं. क्योंकि यह गॉसिप टाइम पास का बड़ा प्लेटफार्म होता है. लिहाजा किसी के इनविटेशन का जवाब देने या लाइक या डिसलाइक करने से पहले उसे ध्यानपूर्वक देखें. हर किसी से चैटिंग ना करें. अपने बैंक खातों और अन्य जरुरी सीक्रेट तथा उनके नंबर और पासवर्ड आदि किसी से शेयर ना करें. क्योंकि दुनिया में पैट्रिक एक ही नहीं है वो जगह-जगह है. पता नहीं कब कोई कहां आपको अपने जाल में फांस ले कुछ नहीं कहा जा सकता. लिहाजा सतर्क रहें.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज