ढाबे वाले से नाजायज संबंध बनने के बाद पति को उतारा मौत के घाट, आज ये मिली सजा
Jaipur News in Hindi

ढाबे वाले से नाजायज संबंध बनने के बाद पति को उतारा मौत के घाट, आज ये मिली सजा
पत्नी ने प्रेमी के साथ मिलकर युवक की हत्या कर दी थी. (फोटो-प्रतिकात्मक)

जयपुर (Jaipur) में एक युवती ने ढाबे वाले के साथ नाजायज संबंधों (Extra Marital Affair) के चलते अपने पति को मौत के घाट उतार दिया (Wife Kills Husband) था. पति, पत्नी और वो वाली इस कहानी में पति को तो मार डाला गया लेकिन जयपुर पुलिस (Jaipur Police) ने हत्यारिन पत्नी और उसके प्रेमी को भी पकड़ लिया.

  • Share this:
रजास्थान की राजधानी जयपुर (Jaipur) में करीब तीन साल पहले एक युवती ने ढाबे वाले के साथ नाजायज संबंधों (Extra Marital Affair) के चलते अपने पति को मौत के घाट उतार दिया (Wife Kills Husband) था. पति, पत्नी और वो वाली इस कहानी में पति को तो मार डाला गया लेकिन जयपुर पुलिस (Jaipur Police) ने हत्यारिन पत्नी और उसके प्रेमी को भी पकड़ लिया. साथ में प्रेमी की मदद करने वाले सह आरोपी को भी गिरफ्तार कर लिया गया. शादीशुदा खुशहाल जिंदगी में लव, सेक्स और धोखा (Love Sex aur Dhokha) वाली इस कहानी का अंत गुरुवार को कोर्ट के फैसले से हो गया. एनडीपीएस कोर्ट ने हत्यार की आरोपी पत्नी आशा देवी को आजीवन कारावास (Life Sentence) की सजा सुना दी. प्रेमी रामवतार मीणा और इस मर्डर में उसका सहयोग करने वाले हरकेश मीणा को भी उम्रकैद की सजा सुनाई गई.

ये भी पढ़ें- सोशल मीडिया पर ट्रोल हो रही राजस्थान यूनिवर्सिटी छात्रसंघ अध्यक्ष पूजा वर्मा

पति की हत्या और पत्नी को पकड़े जाने की ये थी पूरी कहानी



बजाज नगर थाना पुलिस को 2016 में जयपुर के खादी ग्रामोद्योग के पास बाइक सहित एक युवक मृत मिला. पुलिस ने जांच शुरू की ओर मामला प्रेम प्रसंग के चलते हत्या का सामने आया. मृत युवक की पहचान नानूराम गुर्जर निवासी गणेशगंज टोडारायसिंह टोंक के रूप में हुई थी. पुलिस ने उसकी ही पत्नी आशा देवी, प्रेमी और उसके एक साथी को गिरफ्तार कर लिया.
ऐसे उतारा पति को मौत के घाट

पुलिस जांच के दौरान पत्नी आशा देवी ने अपना जुर्म कबूल करते हुए पूरी कहानी बयां की. उसके अनुसार नानूराम को उसी कमरे में मारा जहां वो पत्नी के साथ रहता था. मर्डर के बाद पत्नी के प्रेमी ने अपने साथी के साथ उसका शव बाइक से खादीग्रामोद्योग के पास पटक गए. तात्कालीन पुलिस कमिश्नर संजय अग्रवाल के खुलासा किया था कि गिरफ्तार आरोपी आशादेवी, उसके प्रेमी रामअवतार मीणा और उसके साथी हरकेश मीणा जो राजगढ़ अलवर के रहने वाले हैं ने ही नानू का मर्डर किया. यह मर्डर 8 सितंबर 2016 को हुआ था और उसी रात देर रात बजे बजाज नगर थाना पुलिस को गश्ती के दौरान युवक का शव मिला था.

ऐस शुरू हुआ ढाबे वाले से प्रेम प्रसंग

पुलिस पूछताछ में सामने आया कि आशा देवी का 2013 से रामवतार से संपर्क था. रामवतार मीणा हाईवे पर ढाबा चलाता था और यूं ही एक दिन आशा देवी का फोन गलती से रामवतार के मोबाइल पर लग गया था. मिस्ड कॉल के बाद दोनों में बातचीत शुरू हुई थी और आगे चलकर 'पति-पत्नी और वो' वाले रिश्ते तक जा पहुंची. आशादेवी का पति नानू जयपुर में नौकरी करता था और सुबह से शाम तक घर पर आशादेवी अकेली रहती थी. इस वक्त प्रेमी रामवतार का आना-जाना था. पति को जब शक हुआ तो उसे मारने का प्लान बना लिया गया.

ऐसे किया मर्डर

पुलिस के अनुसार वारदात वाले दिन आशा देवी ने अपने प्रेमी और उसके साथी को कमरे पर बुलाया था. उन्होंने नींद में सो रहे नानू के सिर पर बेसबाल के डंडे से वार किए और मौत के घाट उतार दिया. हत्या के बाद शव बाइक पर रखकर सड़क पर बाइक समेत पटक आए.

ये भी पढ़ें- राजस्थान पुलिस का सब-इंस्पेक्टर ने Pre Wedding Shoot में मंगेतर से रिश्वत ली
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज