Rajasthan: बिना टीम के कांग्रेस के कप्तान गोविंद सिंह डोटासरा ने पूरे किये 100 दिन, ऐसा रहा सफर

14 जुलाई को शिक्षा राज्यमंत्री गोविंद सिंह डोटासरा को प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष की कमान सौंपी गई थी.
14 जुलाई को शिक्षा राज्यमंत्री गोविंद सिंह डोटासरा को प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष की कमान सौंपी गई थी.

राजस्थान कांग्रेस के अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा (Govind Singh Dotasara) ने आज अपने कार्यकाल के 100 दिन पूरे कर लिये हैं. डोटासरा ने इस पूरी अवधि में बिना किसी टीम के अकेले ही संगठन चलाया है.

  • Share this:
जयपुर. राजस्थान कांग्रेस में पिछले कुछ समय पहले हुये सियासी घमासान (Political crisis) के बाद सचिन पायलट के स्थान पर नियुक्त किये गये नए पीसीसी चीफ गोविंद सिंह डोटासरा (Govind Singh Dotasara) ने बिना टीम के अपने कार्यकाल के 100 दिन पूरे कर लिये हैं. डोटासरा को पीसीसी चीफ बने हुये बुधवार को 100 दिन पूरे हो गये हैं. इन 100 दिनों के दौरान डोटासरा पूरे राजस्थान कांग्रेस संगठन (Congress organization) में अकेले ही एकमात्र पदाधिकारी रहे हैं. इस अवधि में ब्लॉक से लेकर प्रदेश कार्यकारिणी में एक भी पदाधिकारी की नियुक्ति नहीं हो पाई है.

सीएम अशोक गहलोत और सचिन पायलट के बीच जुलाई माह में चली सियासी जंग में गत 14 जुलाई को पायलट पीसीसी चीफ और डिप्टी सीएम दोनों पदों से हटा दिया गया था. उनकी जगह शिक्षा राज्यमंत्री गोविंद सिंह डोटासरा को प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष की कमान सौंपी गई थी. उस समय उपजे राजनीतिक हालात के चलते प्रदेश कांग्रेस संगठन की टॉप-टू-बॉटम सभी इकाइयों को तत्काल भंग कर दिया गया था.उसके बाद से डोटासरा ही एकमात्र पदाधिकारी हैं. वे अकेले ही पार्टी संगठन के कामकाज को चला रहे हैं.

Alwar: पटाखों से बारूद निकालकर दिवाली के लिए बना रहे थे बड़ा बम, हो गया धमाका, 4 झुलसे



मौखिक तौर पर जिम्मेदारियां देकर संगठन का काम चलाया जा रहा है
इस दौरान पंचायत चुनाव भी हो गये और नगर निगम चुनाव आ गये हैं. इन चुनावों में भी कांग्रेस बिना संगठन पदाधिकारियों के मैदान में उतरी है. वहीं इस अवधि में कांग्रेस ने कृषि कानूनों के खिलाफ बड़ी मुहिम शुरू की. राजधानी जयपुर में किसान सम्मेलन भी करवाया. लेकिन पदाधिकारियों के अभाव में प्रदेशभर में पुराने पदाधिकारियों और पार्टी के विधायकों को मौखिक तौर पर जिम्मेदारियां देकर संगठन का काम चलाया जा रहा है.

जल्द ही नियुक्तियों के कोई आसार नजर नहीं आ रहे हैं
संगठन में पदाधिकारियों की नियुक्ति फीडबैक कार्यक्रम के बाद एआईसीसी के दखल से होगी. लेकिन अभी तक पार्टी के प्रदेश प्रभारी अजय माकन जयपुर और अजमेर संभाग की ही फीडबैक बैठकें ले पाये हैं. पांच संभागों में जिलेवार फीडबैक प्रोग्राम अभी बाकी है. लिहाजा आगामी समय में संगठन में जल्द ही नियुक्तियों के कोई आसार नजर नहीं आ रहे हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज