लाइव टीवी

बड़े शहरों की सरकारों में महिलाओं का होगा राज, 10 नगर निगमों में से 7 में महापौर बनेंगी

Deepak Vyas | News18 Rajasthan
Updated: October 21, 2019, 1:22 PM IST
बड़े शहरों की सरकारों में महिलाओं का होगा राज, 10 नगर निगमों में से 7 में महापौर बनेंगी
बीकानेर नगर निगम सामान्य महिला और अजमेर नगर निगम अनुसूचित जाति की महिला के लिए रिजर्व घोषित हुआ है.

प्रदेश में इस बार पहली बार 10 नगर निगमों (Municipal corporations) में से 7 में महापौर महिलाएं (Women Mayor) होंगी. स्थानीय निकाय प्रमुखों (Local body chiefs) के लिए निकाली गई आरक्षण लॉटरी (Reservation lottery) में 7 नगर निगमों के महापौर पद महिलाओं के लिए आरक्षित (Reserved) हुए हैं.

  • Share this:
जयपुर. प्रदेश में इस बार पहली बार 10 नगर निगमों (Municipal corporations) में से 7 में महापौर महिलाएं (Women Mayor) होंगी. स्थानीय निकाय प्रमुखों (Local body chiefs) के लिए निकाली गई आरक्षण लॉटरी (Reservation lottery) में 7 नगर निगमों के महापौर पद महिलाओं के लिए आरक्षित (Reserved) हुए हैं. प्रदेश के कुल 196 स्थानीय निकायों में से इस इस बार विभिन्न वर्गों की 65 महिला मेयर/सभापति/पालिकाध्यक्ष (Mayor/Chairman/President) होंगी. 196 नगरीय निकायों में 10 नगर निगम, 34 नगरपरिषद और 152 नगरपालिकाएं शामिल हैं. इनमें 30 सीट अनुसूचित जाति (SC) और 6 सीट अनुसूचित जनजाति (ST) के लिए रिजर्व रखी गई हैं.

कई बड़े नेताओं को लगा तगड़ा झटका
राजधानी जयपुर के स्वायत्त शासन भवन में रविवार को निकाली गई लॉटरी में कई बड़े नेताओं को तगड़ा झटका लगा है. लॉटरी से दो दिन पहले सरकार की ओर से जयपुर, जोधपुर और कोटा के लिए घोषित किए गए नए निगमों में महापौर बनने की उम्मीद लगाए बैठे नेताओं को उस वक्त झटका लगा जब उनमें से 5 निगम महिलाओं के लिए आरक्षित हो गए.

नगर निगमों यह रही आरक्षण की स्थिति

लॉटरी में जयपुर हेरिटेज और जयपुर ग्रेटर निगम के अन्य पिछड़ा वर्ग की महिला के लिए आरक्षित हो गए हैं. वहीं जोधपुर उत्तर और जोधपुर दक्षिण सामान्य महिला के लिए रिजर्व हो गए. जबकि कोटा उत्तर अनुसूचित जाति की महिला के लिए आरक्षित हो गया है. इनमें केवल कोटा दक्षिण सामान्य श्रेणी के लिए खुला रहा है. इसके अलावा बीकानेर नगर निगम सामान्य महिला और अजमेर नगर निगम अनुसूचित जाति की महिला के लिए रिजर्व घोषित हुआ है. वहीं उदयपुर नगर निगम अन्य पिछड़ा वर्ग और भरतपुर निगम की लॉटरी अनुसूचित जाति की श्रेणी के लिए रिजर्व हुई है.

राज्य सरकार ने हाल ही में तीन बड़े फैसले लिए थे
राज्य सरकार ने गत सप्ताह निकाय चुनाव को लेकर तीन बड़े परिवर्तन किए थे. इनमें निकाय प्रमुख का चुनाव प्रत्यक्ष की बजाय अप्रत्यक्ष प्रणाली से कराने का फैसला किया गया था. इस फैसले के अनुसार अब निकाय प्रमुख सीधे जनता नहीं चुनकर उसके द्वारा चुने गए पार्षद ही चुनेंगे. वहीं निकाय प्रमुख के लिए अब पार्षद होना जरूरी नहीं होगा. यानी बिना चुनाव लड़े भी और पार्षद का चुनाव हारा हुआ प्रत्याशी भी निकाय प्रमुख बन सकता है. इसके अलावा सरकार ने जयपुर, जोधपुर और कोटा में नगर निगमों को बांटकर यहां दो-दो नगर निगम घोषित कर दिए थे. इससे नगर निगमों की संख्या 7 से बढ़कर अब 10 हो गई है.
Loading...

निकाय प्रमुख की आरक्षण लॉटरी: जयपुर के दोनों निगमों की महापौर होंगी OBC महिला

कर्मचारियों-पेंशनर्स को आज मिलेगा दिवाली गिफ्ट! सरकार कर सकती है DA की घोषणा

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए जयपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 21, 2019, 1:17 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...