Home /News /rajasthan /

सेंट्रल डेपुटेशन पर लगातार दिल्ली जा रहे IAS अफसर, राजस्थान में कैसे हो काम!

सेंट्रल डेपुटेशन पर लगातार दिल्ली जा रहे IAS अफसर, राजस्थान में कैसे हो काम!

फिलहाल राजस्थान के कई आएएस अधिकारी सेंट्रल डेपुटेशन पर हैं.

फिलहाल राजस्थान के कई आएएस अधिकारी सेंट्रल डेपुटेशन पर हैं.

12 आईएएस तो गहलोत सरकार के सत्ता संभालने के कुछ दिनों बाद ही सेंट्रल डेपुटेशन पर चले गए. वहीं 6 और अफसर जाने की कतार में हैं. फिलहाल 18 आईएएस अफसर केंद्र में तैनात हैं.

जयपुर. राज्यस्थान (Rajasthan) में आईएएस अफसरों (IAS officers) की लगातार केंद्रीय प्रतिनियुक्ति (central deputation) पर जाने से अफसरों की कमी साफ देखी जा रही है. शीर्ष स्तर पर अफसरों की कमी का असर राजस्थान सरकार (Rajasthan Government) की महत्त्वपूर्ण फ्लैगशिप योजनाओं के क्रियान्वयन पर दिखने लगा है. फाइलों की पेंडसी बढ़ती जा रही है. एक दर्जन से अधिक विभाग अतिरिक्त प्रभार के भरोसे से चल रहे हैं. चार्ज लेने वाले अफसर से वह इनपुट नहीं मिल पाता, जो मिलना चाहिए. तकरीबन 12 आईएएस तो गहलोत सरकार के सत्ता संभालने के कुछ दिनों बाद ही सेंट्रल डेपुटेशन पर चले गए. वहीं और 6 अफसर जाने की कतार में हैं. फिलहाल 18 आईएएस अफसर केंद्र में तैनात हैं.

12 से अधिक आईएएस अधिकारी अपने मूल विभाग के साथ-साथ अन्य विभागों के अतिरिक्त प्रभार के बोझ से दबे हैं. कार्मिक विभाग के अनुसार आईएएस राजेश कुमार यादव- प्रमुख शासन सचिव जल संसाधन विभाग , आलोक गुप्ता- निदेशक पर्यटन विभाग, वीरेंद्र सिंह - निदेशक सिविल एविएशन कॉरपोरेशन, आशुतोष एटी पेडणेकर- शासन सचिव उद्योग, अखिल अरोड़ा - प्रमुख शासन सचिव, खान एवं पेट्रोलियम विभाग, सिद्धार्थ महाजन - शासन सचिव आयुर्वेद एवं भारतीय चिकित्सा पद्धति विभाग, ओमप्रकाश - प्रबंध निदेशक राजस्थान सहकारिता डेयरी फेडरेशन लिमिटेड का अतिरिक्त प्रभार संभाल रहे हैं.

सत्ता परिवर्तन होते ये अफसर गए सेंट्रल डेपुटेशन

नीलकमल दरबारी, रजत कुमार मिश्र, तन्मय कुमार, रोहित सिंह, नरेश पाल गंगवार, संजय मल्होत्रा, आलोक, राजीव सिंह ठाकुर, अंबरीश कुमार, सुधांश पंत, आनंदी, बिष्णु चरण मल्लिक

ये अफसर जाने की कतार में

शिखर अग्रवाल, गौरव गोयल, सिद्धार्थ महाजन, भास्कर ए सावंत, प्रवीण गुप्ता, कृष्ण कुणाल, रोहित कुमार सिंह

कैडर स्ट्रेंथ के हिसाब से प्रतिनियुक्ति पर भेजे जाते हैं

राज्य में आईएएस अधिकारियों का कैडर 313 का है. लेकिन वर्तमान में प्रदेश में 247 ही हैं. कैडर के हिसाब से राज्य को जो अफसर मिलने चाहिए, नहीं मिल पा रहे हैं.

कैडर पूरा होने में समय लगेगा

अतिरिक्त चार्ज वाले अफसर उस विभाग के कामकाज को सिर्फ रूटीन कामकाज की तरह देखते है. शीर्षस्तर पर अफसरों की कमी हो तो सरकार की योजनाएं पूरी होने की रफ्तार भी धीमी हो जाती है. जवाबदेही और संवेदनशील प्रशासन के लिए सुशासन की रीढ़ माने जाने वाले ब्यूरोक्रेट्स का होना बेहद आवश्यक है.

Tags: IAS Officer, Rajasthan news

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर