होम /न्यूज /राजस्थान /World Heart Day 2022: दिल की सुनें, उसकी प्राब्लम को समझें, कम हो जाएंगी आपकी समस्याएं

World Heart Day 2022: दिल की सुनें, उसकी प्राब्लम को समझें, कम हो जाएंगी आपकी समस्याएं

चिकित्सकों की सलाह है कि हार्ट संबंधी छोटी-मोटी समस्याओं को भी हल्के में नहीं लें और तत्काल चैक करवाएं.

चिकित्सकों की सलाह है कि हार्ट संबंधी छोटी-मोटी समस्याओं को भी हल्के में नहीं लें और तत्काल चैक करवाएं.

Jaipur News: आज (29 सितंबर) वर्ल्ड हार्ट डे है. चिंता की बात यह है कि न सिर्फ हृदय रोगियों की संख्या निरंतर बढ़ रही है, ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

वर्ल्ड हार्ट डे आज...इस बार की थीम है यूज हार्ट फॉर एवरी हार्ट
राजस्थान में अब तक 24 हार्ट हुए ट्रांसप्लांट, 4 एसएमएस और पांच निजी अस्पताल में किए गए

जयपुर. वर्तमान समय में खराब जीवनशैली (Life Style) और खानपान के चलते हृदय रोगियों (Heart patients) की संख्या में बेतहाशा वृद्धि हो रही है. दरअसल, कई बार दिल से संबंधित समस्या (Heart disease) होने पर भी लोग इसे नज़रअंदाज करते हैं. चिकित्सकों के अनुसार दिल से संबंधित ऐसे लक्षणों की लगातार अनदेखी से हार्ट अटैक (Heart attack), ऑर्गन फैल्युअर, स्ट्रोक, पैरालिसिस जैसी स्थिति उत्पन्न हो सकती है. हृदय रोगियों पर नए रिसर्च बता रहे हैं कि कम आयु के लोगों में ना सिर्फ हृदय संबंधी रोग हो रहे हैं, बल्कि कम आयु में हार्ट अटैक से मौतों का आंकडा भी बढ़ रहा है.

बेहतर जीवनशैली के जरिए ही हार्ट को स्वस्थ रखा जा सकता है. एसएमएस अस्पताल के वरिष्ठ चिकित्सक डॉ.दीपक महेश्वरी और डॉ.रविन्द्र राव ने बताया कि हार्ट की बीमारियों से बचने के लिए विभिन्न एहतियात बरतने के साथ फिजिकल और मैंटल हैल्थ की बहुत आवश्यकता है. हार्ट डोनेशन को लेकर जागरुकता की कमी के चलते राजस्थान में फिलहाल 150 से अधिक लोगों को किसी के हार्ट डोनेशन का इंतजार है.

शंकर सिंह वाघेला बोले- गहलोत ने ‘मैडम’ का विश्वास खोया, अब कांग्रेस में उनका कोई ‘अस्तित्व’ नहीं रहेगा

राजस्थान में अब तक 24 हार्ट डोनेट हुए हैं
राजस्थान में साल 2015 में ऑर्गन ट्रांसप्लाट का कार्यक्रम लागू किया गया था. 2019 में नेशनल ऑर्गन टिश्यू ऑर्गनाईजेशन ने प्रदेश में सोटो यानि स्टेट ऑर्गन टिश्यू ऑर्गनाईजेशन की स्थापना की. अब तक प्रदेश में 24 हार्ट डोनेट किए गए हैं. इनमें से चार हार्ट एसएमएस अस्पताल में, चार हार्ट ईएचसीसी में और एक महात्मा गांधी अस्पताल में हार्ट ट्रांसप्लांट किया जा चुका है. जबकी 15 हार्ट अलग अलग राज्यों में ट्रांसप्लांट किए जा चुके हैं. लेकिन आज 150 से अधिक लोग हार्ट ट्रांसप्लांट के लिए वेटिंग लिस्ट में हैं.

देश में 50 हजार लोगों को हार्ट ट्रांसप्लांट का इंतजार
वर्ल्ड हार्ट डे के मौके पर देश की बात करें तो 50 हजार लोग हार्ट ट्रांसप्लांट के लिए वेटिंग लिस्ट में हैं. सोटो के नोडल अधिकारी डॉ. मनीष शर्मा के मुताबिक जागरुकता की कमी से आज भी लोग अंगदान करने में हिचकते हैं. उन्होंने बताया कि हार्ट ऐसे ऑर्गन हैं, जो कैडेवर से ही लिया जा सकता है. हार्ट शेयरेबल ऑर्गन नहीं हैं. उन्होंने बताया कि किडनी, लिवर शेयर की जा सकती है, लेकिन हार्ट कैडेवर से ही लिया जा सकता है. उन्होंने बताया कि केरल और तमिलनाडू को छोडकर दूसरे राज्यों की तुलना में अब भी राजस्थान में ऑर्गन डोनेशन की स्थिति बेहतर है.

Tags: Heart attack, Heart Disease, International Heart Day, Jaipur news, Rajasthan news in hindi, World Heart Day

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें