Rajasthan : 20 अगस्त से महज 8 रुपए में मिलेगा भरपेट गर्मागर्म पौष्टिक खाना
Jaipur News in Hindi

Rajasthan : 20 अगस्त से महज 8 रुपए में मिलेगा भरपेट गर्मागर्म पौष्टिक खाना
अशोक गहलोत सरकार ने इस योजना का नाम इंदिरा रसोई रखा है, (फाइल फोटो)

सीएम अशोक गहलोत (CM Ashok Gehlot) ने अफसरों को किसी भी सूरत में 20 अगस्त से शुरू करने को कहा है. सरकार इस योजना पर सालाना 100 करोड़ रुपए की खर्च करने जा रही है. सीएम ने इसकी घोषणा 23 मई को ही की थी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 3, 2020, 11:44 PM IST
  • Share this:
जयपुर. आपने ठीक पढ़ा, केवल 8 रुपए में भरपेट गर्मागर्म पौष्टिक खाना मिलेगा. यह योजना राजस्थान (Rajasthan) में सियासी संकट (Political Crisis) के बीच सीएम अशोक गहलोत (CM Ashok Gehlot) की सरकार शुरू करने जा रही है. राजीव गांधी (Rajiv Gandhi) की जयंती (20 अगस्त) के अवसर पर इस योजना की शुरुआत की की जा रही है. इस योजना का नाम रखा जाएगा जिसे इंदिरा रसोई (Indira Rasoi). इसकी मुख्य जिम्मेदारी स्वायत्त शासन विभाग को दी गई है. इस योजना में स्थानीय एनजीओ के माध्यम से स्थाई रसोई के द्वारा गर्मागर्म भोजन परोसा जाएगा. इंदिरा रसोई योजना को लेकर सीएम अशोक गहलोत ने अफसरों को किसी भी सूरत में 20 अगस्त से शुरू करने को कहा है. सरकार इस योजना पर सालाना 100 करोड़ रुपए की खर्च करने जा रही है. सीएम ने इसकी घोषणा 23 मई को ही की थी.

पूरे राज्य में एक साथ होगी शुरू

राज्य के तमाम 213 शहरों में एकसाथ इंदिरा रसोई योजना की शुरुआत की जा रही है. 20 अगस्त से इस योजना को शुरू किया जाएगा. योजना में रसोई के स्थान का चयन, एनजीओ का चयन, रसोई स्थापना, संचालन से लेकर तमाम कार्यों संबधित जिले के कलेक्टर करेंगे, उन्हें ही नोडल अफसर बनाया गया है. कलेक्टर अपने जिले की रसोई संचालन की व्यवस्था को मॉनिटर करेंगे. यह आदेश सरकार ने सभी जिले के कलेक्टरों को दिया गया है. राजस्थान के 213 शहरों में कुल 358 स्थाई रसोइयां स्थापित की जा रही हैं.



8 रुपए की थाली में मिलेगा यह सब
सरकार की इंदिरा रसोई योजना का मेन्यू रोज चेंज होगा. मेन्यू में सरकार के निर्देशों के अनुसार प्रति थाली में 100 ग्राम दाल, 100 ग्राम सब्जी, 250 ग्राम चपाती और अचार परोसे जाएंगे. जिला कलेक्टर की मंजूरी के बाद रसोई चलाने वाले एनजीओ मेन्यू, रसोई के समय आदि व्यवस्थाओं में परिवर्तन कर सकेंगे.

अन्नपूर्णा का नया रूप

पिछली सरकार की अन्नपूर्णा योजना का भी रूप कुछ इसी तरह का था, मगर वहां वैन के माध्यम से खाना वितरित किया जाता है. जिस कार्य में सरकार को कई बार अनियमितताओं की शिकायतें मिलीं, जिसके बाद सरकार ने स्थाई रसोई के माध्यम से जरूरतमंदों की सेवा के लिए इंदिरा रसोई योजना की शुरुआत करने जा रही है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज