Home /News /rajasthan /

लापरवाह उपभोक्ताओं को 1 अप्रैल से नहीं मिलेगी सब्सिडी

लापरवाह उपभोक्ताओं को 1 अप्रैल से नहीं मिलेगी सब्सिडी

जिन गैस सिलेण्डर उपभोक्ताओं ने आपनी गैस एजेंसी पर अभी तक बैंक खाते या आधार कार्ड की जानकारी अपडेट नहीं कराई है उन्‍हें आगामी 1 अप्रैल से सब्सिडी नहीं मिलेगी। एक अप्रैल से सभी उपभोक्ताओं को गैर रियायती सिलेण्डर दिया जाएगा, सब्सिडी सिर्फ उनके खाते में आएगी।

जिन गैस सिलेण्डर उपभोक्ताओं ने आपनी गैस एजेंसी पर अभी तक बैंक खाते या आधार कार्ड की जानकारी अपडेट नहीं कराई है उन्‍हें आगामी 1 अप्रैल से सब्सिडी नहीं मिलेगी। एक अप्रैल से सभी उपभोक्ताओं को गैर रियायती सिलेण्डर दिया जाएगा, सब्सिडी सिर्फ उनके खाते में आएगी।

जिन गैस सिलेण्डर उपभोक्ताओं ने आपनी गैस एजेंसी पर अभी तक बैंक खाते या आधार कार्ड की जानकारी अपडेट नहीं कराई है उन्‍हें आगामी 1 अप्रैल से सब्सिडी नहीं मिलेगी। एक अप्रैल से सभी उपभोक्ताओं को गैर रियायती सिलेण्डर दिया जाएगा, सब्सिडी सिर्फ उनके खाते में आएगी।

अधिक पढ़ें ...
जिन गैस सिलेण्डर उपभोक्ताओं ने आपनी गैस एजेंसी पर अभी तक बैंक खाते या आधार कार्ड की जानकारी अपडेट नहीं कराई है उन्‍हें आगामी 1 अप्रैल से सब्सिडी नहीं मिलेगी। एक अप्रैल से सभी उपभोक्ताओं को गैर रियायती सिलेण्डर दिया जाएगा, सब्सिडी सिर्फ उनके खाते में आएगी।

गैस सिलेण्डर पर सब्सिडी का पैसा सीधे बैंक खाते में पहुंचाने के लिए शुरू की गई प्रत्यक्ष हस्तांतरित लाभ योजना (पहल) से प्रदेश में अब भी 13 लाख उपभोक्ता नहीं जुड़ पाए हैं। राजस्थान में 75 लाख उपभोक्ताओं में से 61.82 लाख ने ही एजेंसियों पर दस्तावेज जमा कराए हैं। वहीं जयपुर में 12.95 लाख उपभोक्ताओं में से 10.05 लाख ने रजिस्ट्रेशन कराया है।

अब जब 1 अप्रैल नजदीक आने को है तो तेल कम्पनियों ने सभी एजेंसियों को काम की गति बढ़ाने के निर्देश दिए हैं। 31 मार्च तक जुडऩे की छूट तेल मंत्रालय के निर्देशों के तहत देशभर में पहल योजना एक जनवरी से लागू है। योजना के तहत 31 मार्च तक उपभोक्ताओं को पहल से जुडऩे की छूट देते हुए रियायती सिलेण्डर देने की घोषणा की गई थी। अब एक अप्रैल से घर पर गैर रियायती सिलेण्डर आएगा। हालांकि, जो उपभोक्ता अगले तीन माह में पहले से जुड़ जाएंगे, उनका अप्रैल के बाद लिए गए महंगे सिलेण्डर की सब्सिडी का पैसा खाते में आ जाएगा।

आप hindi.news18.com की खबरें पढ़ने के लिए हमें फेसबुक और टि्वटर पर फॉलो कर सकते हैं.

 

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर