जैसलमेर में बॉर्डर से 90 किलोमीटर तक के दायरे में मौजूद गांवों में अलर्ट

विपरीत परिस्थिति में खाली करने को तैयार रहने के लिए भी कहा गया है.

राजस्थान में सीमा से लगते 90 किलोमीटर के दायरे में आने वाले सभी गांवों को विपरीत परिस्थिति में खाली करने को तैयार रहने के लिए भी कहा गया है...

  • Share this:
भारत-पाक सीमा पर इन दिनों हाई अलर्ट की स्थिति है और इस तनाव को देखते हुए भी सीमावर्ती गांवों के लोग भारतीय सेना के साथ कंधे से कंधा मिलाकर खड़े नजर आ रहे हैं. सीमा पर स्थित गांवों में आर्मी पहुंची है तथा विपरीत परिस्थिति में गांवों को खाली करने के लिए तैयार रहने के लिए कहा गया है.

जैसलमेर में इन दिनों हाई अलर्ट है और बार्डर स्थित गांवों में सेना के अधिकारी जा रहे हैं. उन्होंने ग्रामीणों को हर परिस्थिति में तैयार रहने के लिए कहा है. साथ ही सीमा से लगते 90 किलोमीटर के दायरे में आने वाले सभी गांवों को विपरीत परिस्थिति में खाली करने के लिए तैयार रहने के लिए भी कहा गया है.

ये भी पढ़ें- राजस्थान बॉर्डर: घबराए पाकिस्तान ने 10-15 किमी तक के खाली कराए गांव, तैनात कर रहा सैनिक

सीमावर्ती गांव तनोट के सरपंच डॉक्टर अशोक कुमार ने बताया की सेना के अधिकारी उनके पास आए थे तथा उनसे अलर्ट पर रहने, हर संदिग्ध व्यक्ति पर नज़र रखने, अंजान की सूचना सेना को देने तथा सेना की हर संभव मदद की बात कही है. साथ ही अगर युद्ध की स्थिति बनती है तो गांव को खाली करके रामगढ़ कस्बे में चले जाने के लिए भी तैयार रहने के लिए निर्देशित किया गया है.

ये भी पढ़ें- चूरू में PM नरेंद्र मोदी, यहां पढ़ें- पीएम के भाषण की 10 अहम बातें

सरपंच कहते हैं की उन्होंने 1965 और 1971 की लड़ाई के वक्त भी ऐसी स्थिति के बारे में सुना था. हम हर परिस्थिति में सेना के साथ कंधे से कंधा मिलाकर खड़े हैं तथा हर परिस्थिति से निपटने के लिए हर ग्राम वासी अपने आपको तैयार किए हुआ खड़ा है. डॉक्टर अशोक कुमार, सरपंच, ग्राम पंचायत तनोट

ये भी पढ़ें- 

ये भी पढ़ें- Surgical Strike 2.0: राजस्थान के जैसलमेर, बाड़मेर बॉर्डर पर हाई अलर्ट

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स