जैसलमेर: कांगो फीवर से हुई एक युवक की मौत, चिकित्सा विभाग ने लिए 21 लोगों के सैंपल

जैसलमेर जिले के हटार गांव में एक युवक की कांगो फीवर से मौत हो गई. मृतक की पहचान लोकेश के रूप में हुई है.

News18 Rajasthan
Updated: September 13, 2019, 3:58 PM IST
जैसलमेर: कांगो फीवर से हुई एक युवक की मौत, चिकित्सा विभाग ने लिए 21 लोगों के सैंपल
जैसलमेर में कांगो फीवर की पुष्टि होने के बाद हरकत में आया चिकित्सा विभाग (सांकेतिक तस्वीर)
News18 Rajasthan
Updated: September 13, 2019, 3:58 PM IST
जैसलमेर. राजस्थान के जैसलमेर (jaislmer) जिले के हटार गांव में एक युवक की कांगो फीवर (Congo Fever) से मौत हो गई. मृतक की पहचान लोकेश के रूप में हुई है. कांगो फीवर से मौत होने के बाद चिकित्सा विभाग पूरी तरह से हरकत में आ गया है, जिसके बाद चिकित्सा विभाग (Medical Department) की टीम हटार गांव पहुंची और युवक के परिजनों के सैंपल (Blood sample)लिए.

जोधपुर में भर्ती होने के बाद कांगो फीवर की हुई पुष्टि

चिकित्सा विभाग की टीम के मुताबिक 12वीं कक्षा में पढ़ने वाला मृतक लोकेश हार्ट का मरीज था, जिसे कई महीनों से ही बुखार और शरीर टूटने की समस्या थी. इस पर उसने जैसलमेर और बाहरी अन्य जिलों के विभिन्न अस्पतालों में इलाज (Treatment in hospital) भी करवाया, लेकिन उसे आराम नहीं हुआ. इसके बाद जोधपुर(Jodhpur) में भर्ती होने के बाद शाम को उसे कांगो फीवर होने की पुष्टि हुई, जिसके बाद रात को ही उसने दम तोड़ दिया. चिकित्सा विभाग की टीम ने जब मृतक की मां और नाना की जांच की तो वे दोनों भी बुखार से ग्रस्त मिले. डॉक्टरों ने तुरंत ही दोनों के सैंपल लेने के साथ ही जवाहर अस्पताल में भर्ती करा दिया. इसके बाद चिकित्सा विभाग की टीम हटार गांव पहुंची और गांव के पशुओं के सैंपल लिए. जांच के बाद चिकित्सा विभाग ने गांव के लोगों से सावधानी बरतने की अपील की.

चिकित्सा विभाग ने गांव में 21 लोगों के लिए सैंपल 

हालांकि अभी तक हटार गांव में किसी अन्य को कांगो फीवर की पुष्टि नहीं हुई है. लेकिन एहतियात के तौर पर सभी ग्रामीणों को सजग रहने की बात कही गई है. अब चिकित्सा विभाग आगामी 14 दिन तक निगरानी रखेगा. अब तक चिकित्सा विभाग द्वारा हटार गांव से 21 लोगों के सैंपल लिए गए है. जिसमें अभी तक कोई इस रोग से ग्रसित नहीं पाया गया है. चिकित्सा विभाग की टीम ने ग्रामीणों को बताया कि पशुओं के पास पाए जाने वाले जौआ और चीचड़ नाम के जीवों से बुखार फैलता है. इस कारण पशुओं और बाड़ों की अच्छी तरह से सफाई जरूर कर लें. ताकि यह रोग आगे न फैले. वहीं पशुओं के पास जाते समय जूते अवश्य पहनें. चिकित्सा विभाग की टीम द्वारा हटार गांव में पशुओं के बाड़ों और पशुओं के बैठने वाली जगहों के आस-पास छिड़काव करवाया गया है.

यह भी पढ़ें- कोटा में 9वीं मंजिल से गिरी मासूम, मौके पर हुई दर्दनाक मौत

यह भी पढ़ें-अलवर के बहरोड़ थाने पर AK-47 से हमला, बदमाशों ने हार्डकोर अपराधी को छुड़ाया

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए जैसलमेर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 13, 2019, 3:52 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...