होम /न्यूज /राजस्थान /Maru mahotsav 2023 : देखने लायक होता है संस्कृति से लबरेज मरू महोत्सव, विदेशियों का लगा जमावड़ा

Maru mahotsav 2023 : देखने लायक होता है संस्कृति से लबरेज मरू महोत्सव, विदेशियों का लगा जमावड़ा

राजस्थान पर्यटन विभाग और जैसलमेर जिला प्रशासन द्वारा विश्व विख्यात मरु महोत्सव का आयोजन पोकरण जैसलमेर में किया जा रहा ह ...अधिक पढ़ें

रिपोर्ट-मनमोहन सेजू
जैसलमेर. साल भर तक स्वर्ण नगरी जैसलमेर की तंग गलियों से लेकर सात समंदर पार के विदेशी पर्यटकों को जिस आयोजन का इंतजार रहता है,उस आयोजन का आगाज़ शुक्रवार को भव्य शोभायात्रा के साथ हुआ. पाकिस्तान की सीमा से सटे स्वर्णनगरी जैसलमेर में विश्व विख्यात मरु महोत्सव की विधिवत शुरुआत हो गई है. मरु महोत्सव के पहले दिन पोकरण में रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रमों के साथ शोभायात्रा निकाली गई थी. वहीं कार्यक्रम के दूसरे दिन जैसलमेर के सोनार दुर्ग से शोभायात्रा निकाली गई. सबसे खास बात यह रही कि मरु महोत्सव को देखने के लिए देश ही नहीं विदेशों से भी हज़ारों लोग पहुंचे हैं. इस बार आयोजन की मेजबानी युवा आईएएस टीना डाबी कर रही हैं.
राजस्थान पर्यटन विभाग और जैसलमेर जिला प्रशासन द्वारा विश्व विख्यात मरु महोत्सव का आयोजन पोकरण- जैसलमेर में किया जा रहा है. ऐतिहासिक, आधुनिक और काल्पनिक थीम पर आधारित इस महोत्सव की दो तारीख की औपचारिक शुरुआत पोकरण से हो गई थी. वहीं आधिकारिक शुभारम्भ तीन फरवरी को जैसलमेर से की गई है. कोरोना काल के बाद आयोजित किए जा रहे इस फेस्टीवल में सेलिब्रिटी नाइट मुख्य आकर्षण का केंद्र रहेगी.
सोनार दुर्ग से शुरू हुई शोभायात्रा, बीएसएफ़ की कैमल सफारी का समापन पूनमसिंह स्टेडियम में की गई. अन्तर्राष्ट्रीय मानचित्र पर ख्याति अर्जित कर चुके जग विख्यात मरु महोत्सव – 2023 को भव्य और अधिक बेहतर बनाने के लिए जिला कलक्टर टीना डाबी ने पहली बार महोत्सव के आयोजन से एक माह पूर्व अधिक से अधिक प्रचार-प्रसार की योजना बनाई थी. शोभायात्रा में देश ही नहीं विदेशी मेहमानों ने जमकर ठुमके लगाए. जब शहर मुख्य मार्गो से होते हुए शोभायात्रा निकाली तो हर विदेशी मेहमान ठुमके लगाते नजर आए. विदेशी मेहमानों के ठुमके देखकर जिला कलेक्टर टीना डाबी खुद को तालियां बजाने से रोक नहीं पाई.
कार्यक्रम में साफा प्रतियोगिता का आयोजन किया गया, जिसमें राजस्थान सहित विदेशी मेहमानों ने भाग लिया. कार्यक्रम में जैसलमेर विधायक रूपाराम धनदे, जिला कलेक्टर टीना डाबी, पूर्व जिला प्रमुख अंजना मेघवाल सहित जनप्रतिनिधि और प्रशासनिक अधिकारी मौजद रहे.
दरअसल इस बार महोत्सव की थीम ऐतिहासिक, आधुनिक और काल्पनिक इसलिए रखी गई है क्योंकि जैसलमेर का समृद्ध इतिहास है. आज के परिपेक्ष्य में यह महोत्सव आयोजित हो रहा है, ऐसे में पर्यटकों के लिए तमाम वर्तमान जरूरतों का ध्यान रखा गया. काल्पनिक इसलिए है कि इस महोत्सव में यहां आने वाला प्रत्येक व्यक्ति कल्पना लोक में खो जाएगा और अपनी यादों में महोत्सव को संजोकर रखेगा.

Tags: Jaisalmer news, Rajasthan news

टॉप स्टोरीज
अधिक पढ़ें