लाइव टीवी

प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना में एक करोड़ का घोटाला, 7230 गर्भवती महिलाओं का नहीं मिला कोई रिकॉर्ड

News18 Rajasthan
Updated: October 19, 2019, 2:56 PM IST
प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना में एक करोड़ का घोटाला, 7230 गर्भवती महिलाओं का नहीं मिला कोई रिकॉर्ड
जैसलमेर में प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना में एक करोड़ का घोटाला आया सामने

जैसलमेर में प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना में अनियमितताएं सामने आई हैं, इसके तहत करीब 1 करोड़ रुपए का घोटाला उजागर हुआ है. इसके साथ ही 80 लाख रुपए खातों में जमा होने से पहले ही रुकवा दिए गए.

  • Share this:
जैसलमेर. राजस्थान के जैसलमेर (Jaisalmer) जिले में प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना (Pradhan Mantri Matru Vandana Yojana) में अनियमितताएं सामने आई हैं, इसके तहत करीब 1 करोड़ रुपए का घोटाला (1 Crore Scam) उजागर हुआ है. इसके साथ ही 80 लाख रुपए खातों में जमा होने से पहले ही रुकवा दिए गए.

गौरतलब है कि गर्भवती महिलाओं को पौष्टिक आहार उपलब्ध करवाने के उद्देश्य से चल रही इस योजना में जैसलमेर महिला एवं बाल विकास विभाग में अनियमितताएं सामने आई हैं. मामले के उजागर होने पर कलेक्टर के निर्देशानुसार लेखाधिकारी देरावरसिंह की अध्यक्षता में गठित आंतरिक जांच कमेटी ने प्राथमिक जांच में यह पाया कि पूरे जिले में इस योजना के कुल 18 हजार 853 लाभार्थी महिलाएं हैं, इनमें से 7230 लाभार्थी महिलाएं ऐसी पाई गईं, जिनका कोई आवेदन रिकॉर्ड संबंधित सीडीपीओ कार्यालय में उपलब्ध ही नहीं है. इस तरह प्राथमिक जांच में 1 करोड़ रुपए से अधिक की राजकोष हानि पहुंचाने की पटिहरी है.

उपनिदेशक ने 80 लाख रुपए का भुगतान रुकवाया

इस अनियमितता की जानकारी उपनिदेशक कार्यालय को होते ही बिना आवेदन के भुगतान के लिए प्रोसेस किए गए फोर्मो को उपनिदेशक राजेन्द्र कुमार चौधरी ने 26 सितंबर , 2019 को ही उच्चाधिकारियों को सूचित कर भुगतान रुकवा दिया, जिससे लगभग 80 लाख रुपए की हानि को बचाया गया है.

रिकवरी की कार्रवाई हुई शुरू

राजकोष में होगी जमा अनियमित भुगतान की सूची तैयार हो चुकी है. उपनिदेशक चौधरी ने अपील की है कि जिस किसी का भी इस सूची में नाम है. वह वहां पर उपलब्ध खाता संख्या के माध्यम से राशि राजकोष में जमा करवाएं. उन्होंने बताया कि यह निर्देश उन लोगों के लिए है, जिनकी हार्डकॉपी में भरे हुए आवेदन पत्र सीडीपीओ कार्यालयों में नहीं पाए गए हैं, जिनके आवेदन पत्र सीडीपीओ कार्यालयों में उपलब्ध है उन व्यक्तियों को कोई भी कार्रवाई करने की आवश्यकता नहीं है.  उनसे किसी भी प्रकार की वसूली नहीं की जाएगी. चौधरी ने बताया कि चूंकि यह राशि अप्रूवल के पश्चात सीधे केन्द्र सरकार से खातों में जमा होती है अतः गलत अप्रूवल करने वालों के खिलाफ पुलिस कार्रवाई जारी है, लेकिन आमजन से अपील की है कि यदि गलती से भी उनके खातों में राशि आ गई है तो लौटाकर वह ईमानदारी का परिचय दें.

यहां आई तबादलों की बाढ़, एक ही रात में बदल डाले करीब 8 हजार शिक्षक
Loading...

छात्राओं की साइकिलों का सियासी रंग, भगवा की हुई विदाई-काले रंग की आई

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए जैसलमेर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 19, 2019, 2:52 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...