अपना शहर चुनें

States

जैसलमेर: पूर्व महारावल बृजराज सिंह के निधन पर पाकिस्तान के भुट्टो परिवार ने जताया शोक

जैसलमेर के वांशिदों ने भी पूर्व महारावल बृजराज सिंह के निधन को अपूरणनीय क्षति बताया है.
जैसलमेर के वांशिदों ने भी पूर्व महारावल बृजराज सिंह के निधन को अपूरणनीय क्षति बताया है.

पूर्व महारावल बृजराज सिंह (Former Maharawal Brijraj Singh) के निधन से पूरा जैसाणा गमगीन है. सिंह के निधन पर पाकिस्तान के भुट्टो परिवार (Bhutto Family) ने शोक जताया है. पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री बेनजीर भुट्टो और पूर्व राष्ट्रपति आसिफ अली जरदारी भुट्टो परिवार से है.

  • Share this:
जैसलमेर. पूर्व महारावल बृजराज सिंह (Former Maharawal Brijraj Singh) के निधन पर पाकिस्तान के भुट्टो परिवार ने शोक जताया है. भुट्टो परिवार (Bhutto Family) के मुजीब भुट्टो ने ट्वीट कर उन्हें कृष्ण का वंशज बताया है. उन्होंने उन्हें भट्टी और भुट्टो राजपूतों का हेड बताते हुये कहा कि बृजराज सिंह को जैसलमेर के विकास के लिये हमेशा याद किया जायेगा. पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री बेनजीर भुट्टो और पूर्व राष्ट्रपति आसिफ अली जरदारी (Benazir Bhutto and Asif Ali Zardari) भुट्टो परिवार से है. भुट्टो, भट्टी, भट्टल और भाटिया भाटी वंश से ही निकले माने जाते हैं.

पूर्व महारावल बृजराज सिंह का इलाज के दौरान सोमवार को गुरुग्राम के मेदांता अस्पताल में निधन हो गया था. वे पिछले कुछ दिनों से लीवर की बीमारी से पीड़ित थे. सोमवार को सिंह के निधन की सूचना मिलते ही जैसलमेर में शोक की लहर छा गई थी. सोशल मीडिया के जरिये लोगों ने उनको जहां श्रद्धांजलि दी वहीं उनके जीवनकाल और विकास कार्यों को याद किया. मंगलवार को अलसुबह महारावल की पार्थिव देह को दिल्ली से जैसलमेर लाया गया.

जैसलमेर: महारावल बृजराज सिंह की अंतिम यात्रा में उमड़ा जनसैलाब, दोनों बेटों ने दी मुखाग्नि

जैसलमेर शहर के व्यापारियों ने नहीं खोले बाजार


शोक में डूबा जैसलमेर शहर के व्यापारियों ने बाजार नहीं खोले. शहर पूरी तरह से बंद रहा. पूर्व राज परिवार की परम्परा के अनुसार महारावल की बैंकुंठ यात्रा निकाली गई. यह यात्रा मन्दिर पैलेस और हनुमान चौराहा से होती हुई बड़ाबाग पहुंची. उसके बाद दोपहर में पूर्व महारावल बृजराज सिंह की की पार्थिव देह को पूरे विधि विधान से पंचतत्व में विलीन किया गया.





अंतिम यात्रा में उमड़ा जनसैलाब
इससे पहले जब उनकी अंतिम यात्रा निकाली गई तो वहां जनसैलाब उमड़ पड़ा. जैसलमेर के हजारों लोगों ने पूर्व महारावल को अश्रुपूरित श्रद्धाजंलि दी. जैसलमेर के वांशिदों ने सिंह के निधन को अपूरणनीय क्षति बताया. महारावल के अंतिम संस्कार में कई जनप्रतिनिधि और पुलिस तथा प्रशासन के आला अधिकारी मौजूद रहे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज