Home /News /rajasthan /

राजस्थान बॉर्डर पर कैसे पाक खुफिया एजेंसी ISI रच रही है साजिश? जानें पूरी हकीकत

राजस्थान बॉर्डर पर कैसे पाक खुफिया एजेंसी ISI रच रही है साजिश? जानें पूरी हकीकत

    पाकिस्तानी की खुफिया एजेंसी आईएसआई भारतीय सेना और एयर फोर्स को नुकसान पहुंचाने के लिए एक बड़ी सजिश रच रही है. इस बार उसके निशाने पर रेगिस्तान इलाके बाड़मेर ओर जैसलमेर जिले के आर्मी और एयर बेस है.

    इसके लिए पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई ने रेगिस्तान इलाकों में एक विशेष मिशन चला रखा है. पाकिस्तान हर हाल में बाड़मेर, जैसलमेर के सेना और वायुसेना के हर मूमेंट की जानकारी जुटाने के मिशन पर लगा है.

    ऐसा ही एक मामला सामने आया है, जंहा बालोतरा पोस्ट ऑफिस में आईएसआई ने सेंध मारकर उच्च अधिकारी बनकर सामरिक सूचनाएं हासिल कर लीं और कर्मचारियों के बीच घुसपैठ बनाने में कामयाब हो गए.

    इन्हें किया था एसएसबी ने अरेस्ट
    बाड़मेर जिले के बालोतरा में पाकिस्तान के आईएसआई को भेजी गई सूचना के आधार पर पुलिस व एसएसबी की टीम ने डाक विभाग के पोस्टमास्टर और लिपिक को सामरिक सूचनाएं लीक करने के आरोप में गिरफ्तार कर उनके कब्जे से एक लैपटॉप कम्प्यूटर और मोबाइल जब्त करने के साथ आरोपी इस्लामुद्दीन के कब्जे से स्पाई कैमरा, ३ लाख दस हजार रूपए सहित कुछ अन्यसामग्री बरामद कर जांच शुरू कर दी है.

    हमेशा से आईएसआई करती आई जासूसी
    जासूसी का यह कोई पहला मौका नहीं है पाकिस्तान से लगती राजस्थान की 1070 किलोमीटर में बाड़मेर और जैसलमेर जिले की पाक सीमा पर पाकिस्तानी खुफिया एजेन्सी आईएसआई की हमेशा ही विशेष नजर रही है, क्योंकि इन इलाकों में आर्मी ओर वायुसेना आए दिन युद्धाभ्यास और मूमेंट करती रहती है. साथ ही भारत ने 1965-71 की लड़ाई में इन इलाकों से घुसकर ही पाकिस्तान को धूल चटाई थी और इसलिए पाकिस्तान हमेशा ही इन इलाकों की जासूसी करता रहा है. लेकिन, इस बार तो आईएसआई ने अपनी जासूसी का तरीका ही बदल दिया है. अब सेना और वायुसेना की जानकारी जुटाने के लिए सरकारी दफ्तरों में अधिकारियों और कर्मचारियों को बरगला कर पैसों के लालच की आड़ में सेना की जानकारी जुटा रहा है.

    आईएसआई ने बना रखे कॉल सेंटर
    आपको बता दें कि सीमा के उस पार आईएसआई ने कॉल सेंटर बना रखा है, जो कि इंटरनेट पर बाड़मेर ओर जैसलमेर के सरकारी दफ्तरों में काम करने वाले लोगों के मोबाइल नंबर को सर्च करते हैं. उसके बाद जहां पर भी सेना या वायुसेना का मूमेंट होता है उसके आसपास के सरकारी दफ्तरों में काम करने वाले लोगों के बारे में जानकारी जुटाई जाती है. फिर उस अधिकारी या कर्मचारी को मोबाइल पर काल किया जाता है. उसमें खुद वो बड़ा अधिकारी बताकर उससे जानकारी भेजने को कहते हैं और यही से शुरू होता है पाकिस्तानी खुफिया एजेन्सी आईएसआई का मिशन. फिर उस विभाग के बारे में जानकारी और जुटाई जाती है.

    लड़कियों के जाल में भी फंसते है अधिकारी
    जानकारी के लिए आईएसआई अधिकारी और कर्मचारी को पैसे का लालच दिया है तो कभी उस काल सेंटर में बैठने वाली लड़कियां इन अधिकारी और कर्मचारियों को अपने जाल में फंसाकर उन से दोस्ती करती हैं. सोसियल मीडिया के जरिए बातें शुरू हो जाती हैं और इसकी आड़ में कर्मचारी से खुफिया जनकारिया मांगी जाती हैं. ऐसा ही कुछ हुआ बालोतरा में बाड़मेर पुलिस अधीक्षक परिस देशमुख के अनुसार.

    मेजर बनकर की थी कॉल
    चिमना राम को पाकिस्तान से किसी ने मेजर बनकर काल किया और उससे सेना के सामरिक व गोपनीय क्रियाकलापों, युद्धाभ्यासों के संबंध में सूचनाओं व 56 ए.पी.ओ से संबंधित जानकारी मुहैया कराने को कहा गया तो उसने सारी सूचनाएं उपलब्ध करा दीं.

    पुलिस अधीक्षक ने की लोगों से ये अपील
    इस पूरे मामले के उजागर होने के बाद बाड़मेर के पुलिस अधीक्षक परिस देशमुख ने बाड़मेर के सभी लोग उसमें सरकारी कर्मचारी, पुलिस, पत्रकार और जनता से अपील की है कि आपके पास मोबाइल पर कोई भी किसी भी प्रकार की सूचना मांगे तो न दें और अगर देनी है तो पहले उसके बारे में पता करके दें अन्यथा उसकी जनकारी पुलिस को दें

    आईएसआई के निशाने पर हैं ये
    पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई के निशाने पर सिर्फ पोस्ट ऑफिस, पटवार घर ही नहीं है इसके अलावा बॉर्डर पर बसे थाने, एसपी ऑफिस, पत्रकार सहित कई अन्य लोगों को आईएसआई के कॉल सेंटर से कॉल किए जा रहे हैं और उन्हें झांसे में लेने की हर सजिस रची जा रही है. आईएसआई के इस मिशन को देखते हुए बाड़मेर एसपी बैठक कर पुलिस के साथ अन्य विभागों में इस तरह के जागरूकता लाने वाले हैं ताकि सामरिक सूचना पाकिस्तान में बैठकर आईएसआई हासिल नहीं कर सके.

    Tags: Barmer news, Hindi news, Rajasthan news

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर