Rajasthan crisis: बसपा से कांग्रेस में आये 6 विधायकों को शिफ्ट करने की सुगबुगाहट, गहलोत आज लेगें विधायक दल की बैठक
Jaisalmer News in Hindi

Rajasthan crisis: बसपा से कांग्रेस में आये 6 विधायकों को शिफ्ट करने की सुगबुगाहट, गहलोत आज लेगें विधायक दल की बैठक
राजस्थान में चल रहे सियासी संग्राम में अभी अशोक गहलोत और सचिन पायलट खेमों की चुप्पी को तूफान से पहले की शांति मानी जा रही है.

बसपा से कांग्रेस में शामिल हुए 6 विधायकों को हाईकोर्ट से नोटिस (Notice) जारी होने के बाद कांग्रेस का अशोक गहलोत खेमा सतर्क हो गया है. कांग्रेस के रणनीतिकार अब इस मसले पर कानूनी राय लेने के साथ जवाब की तैयारी में भी जुट गए हैं.

  • Share this:
जैसलमेर. बसपा से कांग्रेस में शामिल हुए 6 विधायकों को हाईकोर्ट से नोटिस (Notice) जारी होने के बाद कांग्रेस का अशोक गहलोत खेमा (Ashok Gehlot camp) सतर्क हो गया है. कांग्रेस के रणनीतिकार अब इस मसले पर कानूनी राय लेने के साथ जवाब की तैयारी में भी जुट गए हैं. बसपा से कांग्रेस में आये सभी 6 विधायकों जैसलमेर-बाड़मेर की सीमा से बाहर शिफ्ट करने का सुझाव भी चर्चा में आया है. इस बीच सीएम अशोक गहलोत का शु्क्रवार को जैसलमेर आने का कार्यक्रम है. सीएम यहां विधायक दल की बैठक लेकर आगे की रणनीति बनायेंगे.

फिलहाल कोई सकारात्मक प्रतिक्रिया नहीं आई है
कांग्रेस के रणनीतिकारों के एक धड़े ने छहों विधायकों को जैसलमेर-बाड़मेर की सीमा से बाहर शिफ्ट करने की भी सलाह दी है. इस सलाह के पीछे तर्क यह दिया जा रहा है कि हाई कोर्ट का नोटिस अगर तामील होने में देरी होती है तो फैसला आगे खिसक सकता है, लेकिन इस सलाह पर फिलहाल कोई सकारात्मक प्रतिक्रिया नहीं आई है. बताया जा रहा है कि कांग्रेस के रणनीतिकारों ने विधायकों की शिफ्टिंग को लेकर चर्चा की, लेकिन कानूनी जानकारों ने इससे कोई फायदा मिलने से इनकार कर दिया.

Rajasthan: गहलोत सरकार का बड़ा फैसला, अब वसुंधरा राजे को नहीं खाली करना होगा सरकारी बंगला
स्थानीय अखबारों में नोटिस छपवाने के हैं आदेश


हाई कोर्ट ने नोटिस तामील करवाने की जिम्मेदारी जैसलमेर जिला जज को दी है. हाई कोर्ट ने स्थानीय अखबारों में नोटिस छपवाने के साथ ही मैसेंजर भेजकर व्यक्तिगत रूप से भी नोटिस तामील करवाने के आदेश दिए हैं. पूरे हालात के मद्देनजर सीएम अशोक गहलोत आज जैसलमेर दौरे पर आयेंगे. उनका दोपहर बाद जैसलमेर पहुंचने का कार्यक्रम है. गहलोत होटल सूर्यगढ़ में बाड़ाबंदी में बंद कांग्रेस एवं समर्थित निर्दलीय विधायकों के साथ बैठक करेंगे. बैठक में बसपा से आकर पार्टी में शामिल होने वाले 6 विधायकों को हाई कोर्ट के नोटिस के मामले पर भी चर्चा होगी.

Rajasthan: गहलोत सरकार के मंत्री शांति धारीवाल बोले, वसुंधरा राजे हैं दमदार नेता

तूफान से पहले की चुप्पी
उल्लेखनीय है कि राजस्थान में चल रहे सियासी संग्राम में अभी अशोक गहलोत और सचिन पायलट खेमों की चुप्पी को तूफान से पहले की शांति मानी जा रही है. दोनों खेमे अपनी अपनी तैयारियों में जुटे हैं. अब दोनों खेमों को आगामी 11 अगस्त का इंतजार है. 11 अगस्त को हाई कोर्ट की एकल पीठ बसपा के विधायकों के कांग्रेस में विलय को लेकर अहम फैसला सुना सकती है. इस तनातनी के बीच दोनों खेमे आत्मविशवास से लबरेज भी हैं तो कहीं ना कहीं चिंतित भी नजर आ रहे हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज