राजस्थान: जालोर में 90 फीट गहरे बोरवेल में गिरा 4 साल का मासूम, अंदर रो रहा है, ऑक्सीजन पहुंचाई

90 फीट की गहराई तक खोदे गए इस बोरवेल को लोहे की तगारी से ढका हुआ था. सुबह करीब सवा दस बजे मासूम इसमें गिर गया.

90 फीट की गहराई तक खोदे गए इस बोरवेल को लोहे की तगारी से ढका हुआ था. सुबह करीब सवा दस बजे मासूम इसमें गिर गया.

4 years innocent dropped in 90 feet deep borewell: जालोर के सांचौर इलाके में हुये इस हादसे के करीब साढ़े चार घंटे बाद भी अभी तक संसाधनों के अभाव में रेस्क्यू ऑपरेशन शुरू नहीं हो पाया है. मासूम बोरवेल में रो रहा है. उसे ऑक्सीजन पहुंचाई जा रही है.

  • Share this:

श्याम बिश्नोई

जालोर. गुजरात से सटे राजस्थान के जालोर जिले (Jalore District) में आज बोरवेल (Borewell) में 4 साल का एक मासूम बच्चा गिर गया. यह बोरवेल 90 फीट गहरा बताया जा रहा है. बच्चे को निकालने के लिये एसडीआरएफ (SDRF) की टीम मौके पर पहुंच गई है, लेकिन संसाधनों के अभाव में अभी तक विधिवत रूप से रेस्क्यू ऑपरेशन (Rescue operation) शुरू नहीं किया जा सका है. बोरवेल में मासूम के रोने की आवाज आ रही है. बोरवेल में कैमरा डाला गया है. उसके बाद रस्सी से मासूम के पास पानी की बोतल पहुंचाई गई है. मासूम ने बोरवेल में बोलत से पानी भी पीया है.

जानकारी के अनुसार घटना जालोर के जिले के सांचौर उपखंड के लाछड़ी गांव में हुई है. यहां नगाराम देवासी के खेत में नया बोरवेल खुदवाया गया था. 90 फीट की गहराई तक खोदे गए इस बोरवेल को लोहे की तगारी से ढका हुआ था. सुबह करीब सवा दस बजे नगाराम के चार वर्ष का बेटा अनिल खेलते हुए बोरवेल को अंदर से देखने का प्रयास करने लगा. इस दौरान संतुलन बिगड़ा और वह अंदर जा गिरा. निकट ही खड़ा एक परिजन उसे अंदर गिरते देख जोर से चिल्लाया. लेकिन तब तक काफी देर हो चुकी थी.

बोरवेल में ऑक्सीजन छोड़ना शुरू कराया
इसकी सूचना पर मौके पर भारी भीड़ जमा हो गई. ग्रामीणों ने पुलिस और प्रशासन को घटना की सूचना दी. इस पर उपखण्ड अधिकारी भूपेंद्र यादव, तहसीलदार देसलाराम, ब्लॉक चिकित्सा अधिकारी ओमप्रकाश सुथार, पुलिस उपाधीक्षक वीरेन्द्र सिंह, थानाधिकारी प्रवीण आचार्य और सरपंच दिनेश राजपुरोहित मौके पर पहुंचे. उन्होंने तुरंत एक ऑक्सीजन सिलेंडर की व्यवस्था की और एक नली के माध्यम से बोरवेल में ऑक्सीजन छोड़ना शुरू कराया.

एनडीआरएफ की टीम आने पर शुरू हो पायेगा राहत कार्य

एसडीआरएफ की टीम मौके पर पहुंच गई है जबकि गुजरात से एनडीआरएफ की टीम को बुलाया गया है. बच्चा ऊपर से नजर आ रहा है. वह जो कुछ बोल भी रहा है. लेकिन संसाधनों के अभाव में अभी तक रेस्क्यू ऑपरेशन शुरू नहीं हो पाया है. गांधी धाम से एननडीआरएफ की टीम को बुलाया गया है. उनके पहुंचने में ही चार घंटे लगने का अनुमान है. इसके आने के बाद सही मायनों में राहत कार्य शुरू हो पाएगा. फिलहाल जेसीबी की सहायता से बोरवेल के पास खुदाई करने पर विचार किया जा रहा है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज