Home /News /rajasthan /

Jalore News: मुआवजे को लेकर ग्रामीणों की प्रशासन से तकरार, SDM ने किसान को मारी लात, हंगामा मचा

Jalore News: मुआवजे को लेकर ग्रामीणों की प्रशासन से तकरार, SDM ने किसान को मारी लात, हंगामा मचा

एसडीएम यादव का कहना है कि किसान लाठी लेकर उनकी तरफ बढ़ रहा गया था इसलिए बचाव में लात मारनी पड़ी.

एसडीएम यादव का कहना है कि किसान लाठी लेकर उनकी तरफ बढ़ रहा गया था इसलिए बचाव में लात मारनी पड़ी.

Jalore News: जालोर में भारतमाला प्रोजेक्ट के तहत बन रहे हाईवे के निर्माण के दौरान मुआवजे की बात को लेकर प्रशासन और किसानों के बीच झड़प हो गई. इस दौरान सांचौर एसडीएम ने एक किसान को लात (Kick) दे मारी.

    श्याम विश्नोई

    जालोर. जालोर जिले के सांचौर इलाके में किसानों के साथ प्रशासनिक अमले की ओर से की गई बर्बरता (Vandalism) सामने आई है. यहां प्रतापपुरा में गांव में भारत माला प्रोजेक्ट के तहत बनने वाले हाईवे के कारण मुआवजे की मांग पर किसानों (Farmers) ने जब काम रोका तो सांचौर एसडीएम (SDM) ने उनको लातें मारी. इतना ही नहीं प्रशासनिक अमले के एक कर्मचारी ने 15 साल की एक बच्ची को चलती गाड़ी में कुछ देर तक घसीटा और फिर नीचे फेंक दिया. इससे आक्रोशित किसानों और पुलिस के बीच धक्कामुक्की हुई. पुलिस ने ग्रामीणों को मौके से हटाकर मामला शांत कराया. इस मामले को लेकर किसान आज सांचोर उपखंड कार्यालय का घेराव करेंगे.

    प्रतापपुरा गांव में गुरुवार को हुये इस घटनाक्रम के वीडियो सोशल मीडिया में वायरल हो रहे हैं. एक वीडियो में एसडीएम भूपेंद्र यादव किसान नरसिंहराम चौधरी को लात मारते हुये साफ दिख रहे हैं. दूसरे वीडियो में बच्ची को चलती गाड़ी में घसीटने और नीचे भी फेंकने की घटना दिखाई दे रही है. बच्ची अगर टायर के नीचे आ जाती तो उसकी मौत भी हो सकती थी. अमृतसर से जामनगर तक बनने वाले एक्सप्रेस-वे 754 का निर्माण प्रतापपुरा की सरहद में गुरुवार को ही शुरू हुआ था और उसे ग्रामीणों ने रुकवा दिया. एसडीएम यादव का कहना है कि किसान लाठी लेकर उनकी तरफ बढ़ रहा गया था इसलिए बचाव में लात मारनी पड़ी.

    यह है पूरा मामला
    दरअसल यहां यहां जमीन की बाजार दर करीब 10 लाख रुपये बीघा बताई जा ही है. जबकि उसे डीएलसी दर से 45 हजार रुपये प्रति बीघा की दर से अवाप्त किया जा रहा है. इसको लेकर किसान 2019 में हाई कोर्ट गए थे. वहां किसानों के खिलाफ फैसला आने पर अभी मामला डबल बेंच में है. कोरोना काल में मामले की सुनवाई नहीं हो पाई. किसानों का कहना है अवार्ड राशि जारी हो चुकी है, जबकि मकान, पेड़ और कुएं समेत अवाप्ति राशि आनी है जो काफी कम है. यह मामला बड़सम से गुजरात बॉर्डर तक 10 किमी के बीच का है. फैसले तक काम रोकने के लिए कंपनी नहीं मान रही है. अभी तक 90 फीसदी किसानों ने अवॉर्ड नहीं लिया है.

    यह सीन रहा मौके पर
    वीडियो में दिख रहा कि पेड़ व खेत की माठ हटाने के दौरान एसडीएम वहां मौजूद हैं. एक किसान जेसीबी के आगे जाकर बैठ गया. एसडीएम एक किसान की ओर धमकी देते हुये उसकी तरफ बढ़ रहे हैं. इस दौरान वहां मौजूद दूसरे ग्रामीणों ने एक पुलिसकर्मी के हाथ से लाठी उठानी की कोशिश की तो एसडीएम ने किसान को लात मार दी.

    Tags: Agitation, Ashok Gehlot Government, Farmer, Rajasthan latest news

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर