जालोर : सोनू सूद की दरियादिली से होगी मजदूर की नवजात बेटी सोनू के दिल की सर्जरी

जालोर के मजदूरी की मजबूरी की दूर करने पहुंच गई सोनू सूद की टीम.

जालोर के मजदूरी की मजबूरी की दूर करने पहुंच गई सोनू सूद की टीम.

परिवार के लोग जब वीडियो कॉल पर सोनू सूद के सामने हाथ जोड़कर धन्यवाद करने लगे तो वे बोले कि धन्यवाद की कोई बात नहीं. बच्ची को पूर्ण रूप से स्वस्थ करके जल्द घर भेंजेगे. उसके बाद जरूर एक बार आपके घर आऊंगा और राजस्थानी भोजन करूंगा.

  • Share this:

श्याम विश्नोई

जालोर. देशभर में मदद के लिए हाथ बढ़ाने वाले अभिनेता सोनू सूद अब जालोर के दिहाड़ी मजदूर की बेटी के दिल का ऑपरेशन करवाएंगे. जालोर के भगाराम के घर 1 जून को बेटी का जन्म हुआ. लेकिन सेहत संबंधी परेशानी होने पर चिकित्सकों ने नवजात बच्ची की जांच की तो पाया कि मासूम के दिल में छेद है और दिल की नसें भी गलत जुड़ी हुई हैं. डॉक्टरों ने बताया कि बगैर ऑपरेशन इसे ठीक नहीं किया जा सकता और यह ऑपरेशन जोधपुर जैसे बड़े शहर में ही हो सकता है. तब भगाराम बेटी को लेकर जोधपुर गए. वहां चिकित्सकों ने ऑपरेशन का खर्च 8 लाख रुपये बताया.

एक समाजसेवी ने इस बारे में सोनू सूद को ट्वीट किया

मजदूर पिता की मजबूरी कि ऑपरेशन का खर्च वह उठा पाने में नाकाम था. थक-हार कर वह घर में बैठ गए. इसी बीच पड़ोस में रहने वाले एक युवक को जब इसका पता चला तो उसने सांचौर के रहनेवाले एक समाजसेवी से संपर्क किया. उन्होंने बच्ची और उसके पिता के इस संकट के बारे में दरियादिल सिने स्टार सोने सूद को ट्वीट कर बताया. कुछ ही समय बाद सोनू सूद ने ट्वीटर के जरिए संपर्क किया. बच्ची के परिजनों की जानकारी ली और आश्वासन दिया की मुंबई के बड़े चिकित्सकों से उनकी बेटी का ऑपरेशन करवाएंगे और सारा खर्चा उनका फाउंडेशन उठाएगा.
वीडियो कॉल कर कहा - बच्ची ठीक होने के बाद आपके घर राजस्थानी भोजन करेंगे

बच्ची को एंबुलेंस से ले जाने के लिए जोधपुर से सोनू टीम के हितेश जैन पहुंचे. रवाना होने से पहले हितेश जैन से सोनू सूद से परिजनों की बातचीत करवाई. परिवार सोनू सूद के सामने हाथ जोड़कर धन्यवाद करने लगा तो वे बोले कि धन्यवाद की कोई बात नहीं, आप चिंता नहीं करें. बच्ची को पूर्ण रूप से स्वस्थ करके जल्द घर भेंजेगे. उसके बाद जरूर एक बार आपके घर आऊंगा और राजस्थानी भोजन करूंगा.

परिवार ने बेटी का नाम भी सोनू रख दिया



परिजनों ने बच्ची का नाम सोनू रख लिया है. पिता भगाराम का कहना है कि बच्ची का इलाज इतना महंगा था, हम करने में समक्ष नहीं थे. हमारे लिए सोनू सूद एक भगवान की तरह हैं. इसलिए हमने इस बच्ची का नाम सोनू सर के नाम पर ही रखा है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज