भरतपुर एवं धौलपुर के जाट समुदाय के अभ्यर्थियों को बड़ी राहत

भरतपुर एवं धौलपुर के जाट समुदाय के अभ्यर्थियों को बड़ी राहत दी गई है. अब इन्हें लंबित चल रही भर्तियों में ओबीसी वर्ग में आरक्षण का लाभ मिलेगा. कार्मिक विभाग ने गुरुवार को इसके आदेश जारी कर दिए हैं.

Prem Meena | News18 Rajasthan
Updated: May 17, 2018, 8:19 PM IST
भरतपुर एवं धौलपुर के जाट समुदाय के अभ्यर्थियों को बड़ी राहत
फोटो: न्यूज 18 राजस्थान
Prem Meena | News18 Rajasthan
Updated: May 17, 2018, 8:19 PM IST
भरतपुर एवं धौलपुर के जाट समुदाय के अभ्यर्थियों को बड़ी राहत मिली है. अब इन्हें पेंडिंग चल रही भर्तियों में ओबीसी वर्ग में आरक्षण लाभ मिलेगा. कार्मिक विभाग ने गुरुवार को आदेश जारी कर भर्ती एजेंसियों को आवश्यक कार्यवाही सुनिश्चित करने के निर्देश जारी कर दिए हैं.

राज्य में चल रही लंबित भर्तियों में भरतपुर एवं धौलपुर के जाट समुदाय के अभ्यर्थियों को पिछड़ा वर्ग यानि ओबीसी में आरक्षण मिलेगा. कार्मिक विभाग ने आरपीएससी, राजस्थान अधीनस्थ एवं मंत्रालयिक चयन बोर्ड और सभी विभागों के अतिरिक्त मुख्य सचिव, प्रमुख सचिव और सचिवों को आदेश की पालना सुनिश्चित करने के निर्देश जारी कर दिए हैं. इसका मौजूदा सरकार को सियासी फायदा मिल सकता है, क्योंकि दोनों जिले जाट बहुल इलाके हैं. राजस्थान में जाटों को आरक्षण का लाभ 1998 में दिया गया था, लेकिन उस समय भरतपुर और धौलपुर के जाटों को सामंत वर्ग से माना गया था. क्योंकि यहां जाट राजाओं का शासन रहा था. ऐसे में इन दो जिलों के जाटों को लाभ नहीं दिया गया था.

गौरतलब है कि राज्य सरकार ने 23 अगस्त, 2017 को भरतपुर एवं धौलपुर के जाटों को अन्य पिछड़ा यानि ओबीसी वर्ग में आरक्षण का लाभ देने की अधिसूचना जारी की थी. दोनों जिलों के जाटों को केंद्र की यूपीए सरकार ने ओबीसी में आरक्षण का लाभ दिया था. लेकिन सुप्रीम कोर्ट ने इस आदेश को खारिज कर दिया था. इसी आधार पर राजस्थान हाईकोर्ट ने भी अगस्त 2015 में इन दोनों जिलों के जाटों को आरक्षण को समाप्त कर दिया था। बाद में आरक्षण की मांग को लेकर जाट समुदाय ने हिंसक आंदोलन किया था.
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर