झालावाड़: ऑक्सीजन के लिए तड़पता रहा अस्पताल में भर्ती मरीज, दो घंटे बाद पहुंचा मेडिकल स्टाफ

राजस्थान के झालावाड़ जिले के ग्रामीण इलाके में सरकारी अस्पताल में भर्ती मरीज ऑक्सीजन के लिए तड़प रहा है, लेकिन वहां पर कोई स्टॉफ मौजूद नहीं है.

राजस्थान के झालावाड़ जिले के ग्रामीण इलाके में सरकारी अस्पताल में भर्ती मरीज ऑक्सीजन के लिए तड़प रहा है, लेकिन वहां पर कोई स्टॉफ मौजूद नहीं है.

राजस्थान के झालावाड़ के अस्पताल से दिल दहला देने वाला वीडियो आया सामने है, जिसमें अस्पताल में भर्ती मरीज बिना ऑक्सीजन के लिए तड़प रहा है, लेकिन अस्पताल में न तो कोई डॉक्टर औ न ही मेडिकल स्टॉफ है. परिवार ही ऑक्सीजन सिलेंडर चढ़ाने के लिए जद्दोजहद कर रहा है.

  • Share this:

झालावाड़. राजस्थान के झालावाड़ जिले में इन दिनों पर्याप्त चिकित्सा सुविधाएं व संसाधन होने के बावजूद अस्पतालों में मरीज तड़प-तड़प कर अपनी जान दे रहे हैं. झालावाड जिले के पिड़ावा में स्थापित कोविंड-19 वार्ड में बीती रात भर्ती मरीज के परिजनों की सूचना के बाद कोई भी डॉक्टर और स्वास्थ्यकर्मी मरीज की सुध लेने नही पहुंचे, जिसके कारण मरीज की तड़प तड़प सांसें उखडती हुई दिखाई दे रही हैं.

अपने मरीज को बचाने के लिए परिजन जद्दोजहद करते दिखाई दे रहे हैं. मरीज के परिजनों को स्वास्थ्य कर्मियों ने एक सिलेंडर थमा दिया गया, जिससे अपने मरीज को लगाकर वह सिलेंडर चालू करने की मशक्कत कर रहा है और महिलाएं मरीज के हाथ पैर में मालिश कर रही हैं.

जानकारी के मुताबिक, पिड़ावा सीएचसी में स्थापित कोविंड सेंटर में ऑक्सीजन सिलेंडर लगाने की मशक्कत करने वाला यह युवक गोविंद मेघवाल है, जो कि अस्पताल के बेड पर तड़प रहे मरीज का बेटा है. मरीज की छाती दबाती महिलाएं मरीज की रिश्तेदार है, जोकि अपने प्रयासों से मरीज को बचाने की कोशिश कर रही हैं. बीती रात यह सिलसिला करीब 2 घंटे तक चला. इसके बाद स्वास्थकर्मी उस समय मरीज के पास पहुंचे, जब गोविंद खुद मशक्कत करके पिता के लिये के लिए ऑक्सीजन लगा चुका था.

गोविंद ने तो अपने पिता की जान बचा ली, लेकिन ऐसे कितने ही मामले जिसमें चिकित्सा और स्वास्थ्यकर्मियों की लापरवाही के कारण मरीज की सांस उखड़ रही हैं. बदहाल स्वास्थ्य सिस्टम की यह बानगी भर है, इससे भी भयंकर तस्वीर तीन दिन पुरानी है, जहां झालावाड जिले के सुनेल में एक महिला की कोविंड से मौत के बाद एम्बुलेंस उपलब्ध नही कराई गई तो महिला के बेटे ने पीपीई किट पहनकर एक ठेले में खुलेआम अपनी मां का शव लेकर श्मशान तक ले गया और अंतिम संस्कार कराया.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज