• Home
  • »
  • News
  • »
  • rajasthan
  • »
  • झालावाड़-बारां लोकसभा नतीजे: न 'महारानी' का तिलस्म टूटा, न प्रमोद शर्मा का 'माटी का लाल' नारा चला

झालावाड़-बारां लोकसभा नतीजे: न 'महारानी' का तिलस्म टूटा, न प्रमोद शर्मा का 'माटी का लाल' नारा चला

प्रमोद शर्मा.

प्रमोद शर्मा.

राजस्थान लोकसभा नतीजे jhalawar baran Election Result: 'महारानी' का तिलस्म तोड़ने में कामयाब होंगे प्रमोद शर्मा! pramod sharma to fight for loksabha elections 2019

  • Share this:
    लोकसभा चुनाव 2019 में राजस्थान की हाई प्रोफाइल सीट झालावाड़-बारां के नतीजे आ चुके हैं. झालावाड़-बारां लोकसभा क्षेत्र से पूर्व सीएम वसुंधरा राजे के बेटे भाजपा (BJP) के उम्मीदवार दुष्यंत सिंह ने फिर मैदान मार लिया है. 23 मई को जारी मतगणना के चलते आ रहे रुझानों में लगातार बढ़त बनाए रहे दुष्यंत ने बाज़ी मार ली. दुष्यंत के खिलाफ इस सीट से कांग्रेस के प्रमोद शर्मा प्रतिद्वंद्वी रहे. इस बार कांग्रेस को प्रमोद शर्मा के जीतने की उम्मीद थी लेकिन नतीजों की ताज़ा स्थिति ये है कि दुष्यंत को 3,85,893 वोट मिले जबकि शर्मा को 2,01,141 वोट हासिल हुए यानी करीब 1 लाख 84 हज़ार मतों के अंतर से शर्मा मुकाबला हार गए और महारानी का तिलिस्म नहीं टूटा.

    राजस्थान की  झालावाड़-बारां लोकसभा सीट पर पिछले 30 साल से 'महारानी' का तिलस्म बरकरार है. पहले 5 लोकसभा चुनाव में वसुंधरा राजे  और पिछले 3 लोकसभा चुनाव में उनके बेटे दुष्यंत सिंह इस सीट पर कब्जा जमाए हुए हैं. बीजेपी का गढ़ कही जाने वाली इसी सीट पर अब तक हुए 16 चुनाव में से 8 बार बीजेपी को जीत मिली है. लेकिन तीन दशक से यहां बीजेपी के एकछत्र राज को पार्टी के ही युवा नेता ने चुनौती दी है. हम बात कर रहे हैं विधानसभा चुनाव 2018 के दौरान  बीजेपी छोड़ कांग्रेस में शामिल हुए प्रमोद शर्मा की.

    ये भी पढ़ें- लोकसभा चुनाव 2019: नतीजे आने में लग सकते हैं 2-3 दिन, रुझान आने में भी होगी दोपहर
    'तीन बार महारानी का बेटा, अबकी बार माटी का लाल' नारे के साथ स्थानीय और करीब 1 लाख ब्राह्मण वोटों के दम पर जीत का दम भरने वाले प्रमोद शर्मा बीजेपी के वोट बैंक में सैंध लगा सकते हैं. यूं तो एग्ज़िट पोल में यहां दुष्यंत सिंह का पलड़ा भारी बताया गया है लेकिन कांग्रेस को अब भी उम्मीद है कि प्रमोद शर्मा दुष्यंत पर भारी पड़ेंगे.

    ये भी पढ़ें- राजनीति नहीं, इस वजह से चर्चित हैं वैभव गहलोत की पत्नी हिमांशी!

    pramod-sharma
    कांग्रेस प्रत्याशी प्रमोद शर्मा.


    झालावाड़ पीजी कॉलेज में छात्रसंघ में अध्यक्ष पद पर जीत के साथ बीजेपी के युवा मोर्चे में भी प्रमोद शर्मा ने कई साल काम किया है. युवा मोर्चा में प्रदेश उपाध्यक्ष भी रहे लेकिन झालावाड़ में वसुंधरा राजे के वंशवाद को मुद्दा बनाते हुए  2018 के विधानसभा चुनाव में पार्टी से अलग हो गए. वसुंधरा राजे के खिलाफ कांग्रेस टिकट पर मैदान में उतरे मानवेंद्र सिंह को भरपूर सहयोग दिया.

    पार्टी को उम्मीद है कि प्रमोद शर्मा जिस कदर विधानसभा चुनाव में वसुंधरा राजे के खिलाफ झालरापाटन में मानवेंद्र सिंह के लिए 81 हजार से अधिक वोट कांग्रेस को दिलाने में सफल रहे, इस बार बाजी पलटने में कामयाब रहेंगे. अब देखना है कि पिछले 30 सालों से वसुंधरा और दुष्यंत के पक्ष में वोट करने वाली झालावाड़-बारां लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र की जनता किसे अपना मत और समर्थन दिया है.

    ये भी पढ़ें- बीएसपी के टिकट पर इमरान खान इस लोकसभा सीट पर आजमा रहे हैं किस्मत

    झालावाड़ लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र
    अब तक हुए कुल 16 लोकसभा चुनाव
    बीजेपी- 8 बार जीत दर्ज
    कांग्रेस- 4 बार जीत
    भारतीय जनसंघ- 2 बार जीत
    भारतीय लोकदल- 1 बार जीत
    जनता पार्टी- 1 बार जीत

    30 सालों से वसुंधरा राजे और दुष्यंत सिंह को जनमत

    इस सीट पर पिछले 30 सालों से बीजेपी का कब्जा है. 1989 से 1999 तक लगातार 5 बार वसुंधरा राजे यहां से सांसद बनीं. 2004 से अब तक लगातार तीन बार दुष्यंत सिंह यहां से सांसद हैं. दुष्यंत ने इस मर्तबा चौथी बार बीजेपी के टिकट पर इस सीट से चुनाव लड़ा है..

    ये भी पढ़ें- BJP ने इस नेता के लिए छोड़ी लोकसभा सीट, जानें कौन हैं हनुमान बेनीवाल?

    जातिगत समीकरण
    झालावाड़-बारां सीट पर गुर्जरों का खासा प्रभाव बताया जाता है. यहां गुर्जरों बहुलता के बाद सर्वाधिक वोट अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति के हैं. जैन और मुस्लिम समुदायों का वोट भी यहां निर्णायक भूमिका अदा करते हैं.

    pramodi-sharma
    झालावाड़ से कांग्रेस प्रत्याशी प्रमोद शर्मा.


    Know Your Leader: प्रमोद शर्मा
    नाम- प्रमोद शर्मा
    1992 में एबीवीपी से जुड़े
    1996 में झालावाड़ कॉलेज छात्रसंघ अध्यक्ष बने
    2002 में बीजेपी कंज्यूमर सेल के प्रदेश महासचिव
    2006-08 तक युवा मोर्चा के प्रदेश उपाध्यक्ष रहे
    2014 तक भाजपा में सक्रिय रहे
    2018 में विधानसभा चुनाव से एक महीने पहले नवंबर में कांग्रेस में शामिल

    ये भी पढ़ें- ये हैं राजस्थान में कांग्रेस के सबसे बुजुर्ग सिपहसलार, 'राजकुमारी' से होगा सामना!

    अपने  WhatsApp  पर पाएं लोकसभा चुनाव के लाइव अपडेट्स

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज