लोहार की बेटी सना ने लिखी सफलता की इबारत, CA बनकर किया जिले का नाम रोशन

झुंझुनूं की पहली मुस्लिम सीए बनीं सना

झुंझुनूं (Jhunjhunu) जिले में लोहार (Blacksmith) परिवार से ताल्लुक रखने वाली सना ने चार्टर्ड एकाउंटेंट (chartered accountant) बनकर जिले और अपने परिवार का नाम रोशन किया है.

  • Share this:
झुंझुनूं. राजस्थान के झुंझुनूं (Jhunjhunu) जिले में लोहार ( Blacksmith) परिवार से ताल्लुक रखने वाली सना ने चार्टर्ड एकाउंटेंट (chartered accountant) बनकर जिले और अपने परिवार का नाम रोशन किया है. पिता नूर मोहम्मद की बेटी सना सिंघानची ने कड़ी मेहनत कर पिता का सपना पूरा किया है. सना के पिता नूर मोहम्मद 10वीं पास है और चबूतरा चौक के पास ही अपने घर के बाहर वे छोटा सा लोहार का काम कर घर चलाते हैं. सना ने हाल ही में सीए क्लियर किया और अब वे केवल सना सिंघानची नहीं, बल्कि सीए सना सिंघानची बन चुकी है.

पिता नूर मोहम्मद करते हैं लोहार का काम

सना बताती हैं कि उन्होंने कभी सोचा नहीं था कि वह सीए बनेंगी. बचपन में तो पता भी नहीं था कि वह 8-10 क्लास से ज्यादा पढ़ पाएगी भी या नहीं, लेकिन आठवीं की मार्कशीट (Marksheet) देखने के बाद ही उनके पिता नूर मोहम्मद ने उन्हें कह दिया था कि वह उन्हें कभी पढ़ाई छोड़ने के लिए नहीं कहेंगे और जितना वो पढ़ना चाहें, पढ़ सकती हैं. उसने बताया कि सीपीटी के एग्जाम तक तो उसे भी सीए के बारे में नहीं पता था और जब उसे पता चला कि ये होता है, तब वह घर आकर बताती थी, तो काफी खुशी होती थी.

सना ने दुकान को स्टडी रूम बनाकर की पढ़ाई
सना ने दुकान को स्टडी रूम बनाकर की पढ़ाई


स्टडी मैटर के लिए सोशल मीडिया का किया इस्तेमाल

सना ने बताया कि यदि लड़कियों को फैमिली का सपोर्ट हो तो वे भी आगे आ सकती है. इसलिए धारणा तो बदल रही है, लेकिन अभी मुस्लिम कौम में भी इसे बदलना जरूरी है. उन्होंने बताया कि उन्होंने अपनी पढ़ाई के दौरान कभी भी सोशल मीडिया (social media) को हावी नहीं होने दिया. उन्होंने फेसबुक (facebook) हो या फिर यू ट्यूब (Youtube) सभी का उपयोग तो किया, लेकिन केवल स्टडी मैटर के लिए. वहीं परीक्षा से दो महीने पहले तो उन्होंने सोशल मीडिया को बाय-बाय ही कह दिया था.

CA बनने के बाद परिवार में खुशी का माहौल
CA बनने के बाद परिवार में खुशी का माहौल


जिस कमरे में की पढ़ाई, उसे भी बना रखा है स्टोर

सना के पिता लोहार का काम करते है. छोटे से मकान में ही उनकी छोटी सी दुकान है और बच्चों के स्टडी रूम को ही उन्होंने स्टोर भी बना रखा है. स्टडी रूम में भी एक छोटा सा बल्ब रखा हुआ है, जिसकी रोशनी केवल एक टेबल से ज्यादा किसी पर नहीं पड़ती. नूर मोहम्मद ने बताया कि पहली बार जब उसने अपनी बेटी सना की मार्कशीट आठवीं में देखी तभी तय हो गया था कि वे बेटी को पढ़ाएंगे. वहीं अब सना के सीए बनने के बाद परिजनों में खुशी का माहौल है.

यह भी पढ़ें- श्रीगंगानगर: शोरूम संचालक ने ट्रायल रूम में महिला के अश्लील फोटो खींचे, फिर किया रेप

यह भी पढ़ें- CAA पर जयपुर के विद्याधर नगर में होगी राहुल गांधी की रैली, CM आवास पर हुई प्लानिंग

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.