होम /न्यूज /राजस्थान /खौफनाक: झुंझुनूं में मोबाइल के कारण 13 साल की बच्ची ने फांसी लगाकर दे दी जान

खौफनाक: झुंझुनूं में मोबाइल के कारण 13 साल की बच्ची ने फांसी लगाकर दे दी जान

मनो-चिकित्सक पहले भी सैंकड़ों बार सावचेत कर चुके हैं कि बच्चों को मोबाइल से दूर रखें. (सांकेतिक तस्वीर)

मनो-चिकित्सक पहले भी सैंकड़ों बार सावचेत कर चुके हैं कि बच्चों को मोबाइल से दूर रखें. (सांकेतिक तस्वीर)

मोबाइल की लत के कारण बच्चे केवल चिड़चिड़े ही नहीं, बल्कि जिद्दी भी होते जा रहे हैं. इसकी लत के कारण बच्चे सुसाइड तक करन ...अधिक पढ़ें

झुंझुनूं. मोबाइल की लत (Mobile addiction) के कारण बच्चे केवल चिड़चिड़े ही नहीं, बल्कि जिद्दी भी होते जा रहे हैं. इसकी लत के कारण बच्चे सुसाइड (Suicide) तक करने में भी नहीं हिचकिचा रहे हैं. ऐसा ही एक वाकया झुंझुनूं शहर (Jhunjhunu city) में सामने आया है, जहां 13 साल की एक नाबालिग लड़की ने मोबाइल नहीं मिलने से फांसी लगाकर जान दे दी. पुलिस ने शव का पोस्टमार्टम करवाकर उसे परिजनों को सौंप दिया है.

छोटे भाई से मोबाइल लेने की जिद कर रही थी
यह खौफनाक घटना बुधवार को गुढ़ा मोड़ स्थित आजाद कॉलोनी में हुई. मृतका के परिजनों ने बताया कि सुबह नाबालिग अपने 10 वर्षीय छोटे भाई के साथ खेल रही थी. छोटे भाई के पास मोबाइल था. नाबालिग ने उसे लेने की जिद की. लेकिन भाई ने मोबाइल नहीं दिया और वो आपस में उसके लिए झगड़ा करने लगे. इसी दौरान उनकी मां आई और उसने लड़ाई करने पर दोनों को डांट दिया. इस पर नाबालिग नाराज होकर अपने कमरे में चली गई और कुछ देर बाद देखा तो वह फांसी पर लटकी हुई मिली. सूचना पर पुलिस ने मौके पर पहुंचकर शव को बीडीके अस्पताल की मोर्चरी में रखवाया. वहां पोस्टमार्टम कराकर परिजनों को सौंप दिया.

Rajasthan: सुप्रीम कोर्ट के आदेश से बदले हालात, 3878 ग्राम पंचायतों के चुनाव आगे खिसकना लगभग तय

मनो-चिकित्सक कई बार अभिभावकों को सचेत कर चुके हैं
इस घटना ने एक बार फिर साबित कर दिया कि मोबाइल की लत बच्चों के लिए कितनी खतरनाक साबित हो रही है. खासकर लॉकडाउन में जब अभिभावक बच्चों को बाहर नहीं जाने दे रहे हैं तो वे घर में दिनभर मोबाइल या फिर टीवी से चिपके रहते हैं. इसको लेकर मनो-चिकित्सक पहले भी सैंकड़ों बार सावचेत कर चुके हैं कि बच्चों को मोबाइल से दूर रखें. अन्यथा भले-बुरे अनजान मासूम बच्चों को यह लत किसी भी हद तक ले जा सकती है. हालांकि इस केस में परिजनों का यह भी कहना है कि नाबालिग मानसिक रूप से बीमार भी थी, लेकिन मौत का कारण मोबाइल ही बना.

Tags: Jhunjhunu news, Mobile Phone, Rajasthan News Update, Suicide

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें