लाइव टीवी

कागजों में झुंझुनूं बन गया स्मार्ट सिटी पर अभी भी आधे-अधूरे पड़े हैं कई काम

Imtiyaz Bhati | News18 Rajasthan
Updated: October 22, 2019, 6:52 PM IST
कागजों में झुंझुनूं बन गया स्मार्ट सिटी पर अभी भी आधे-अधूरे पड़े हैं कई काम
झुंझुनूं शहर की हालत हकीकत में बदतर हैं.

झुंझुनूं को सपनों का शहर व स्मार्ट सिटी बनाने के लिए कागजी सपने खूब दिखाए गए, लेकिन हकीकत में हालत बदतर हैं.

  • Share this:
झुंझुनूं. राजस्थान के झुंझुनूं (Jhunjhunu) को सपनों का शहर व स्मार्ट सिटी (Smart City) बनाने के लिए कागजी सपने खूब दिखाए गए, लेकिन हकीकत में हालत बदतर हैं. करोड़ों रुपए खर्च करने के बावजूद शहर की सड़कें टूटी (Broken Road) हुई हैं. नालियां बनने के बाद ही टूट गई. लाखों के डिवाइडर जवाब दे गए. उनको लोहे के पेंच लगाकर जुगाड़ के सहारे रोका जा रहा है. टूटी सड़कों से आमजन परेशान हो चुके हैं. स्टेडियम के आगे मंडावा मोड़ पर पानी भरा हुआ है, लेकिन सुनवाई नहीं हो रही है. कलक्टर के दौरों का भी खास असर नहीं हो रहा है.

पांच में से तीन पार्कों को ही किया गया है विकसित

झुंझुनूं शहर में अमृत योजना के तहत शहर को सुंदर बनाने के लिए पार्कों का सौंदर्यीकरण और जल निकासी के लिए टैंक बनाए जाने थे, परंतु तय समय में यह कार्य पूरा नहीं होने से जनता को राहत नहीं मिल पा रही है. जिम्मेदारों की लापरवाही के चलते ड्रेनेज के कार्य की बात तो दूर, अभी तक पार्कों को सुंदर बनाने का कार्य पूरा नहीं हो पाया है. नगर परिषद की ओर से अमृत योजना के तहत जल निकासी में वर्षा जल निस्तारण व हरित क्षेत्र में पार्कों को विकसित करने का काम अभी अधूरा है. इसके तहत झुंझुनूं में पांच पार्कों को विकसित किया जाना था.



स्टोरेज टैंक का काम नहीं हुआ है पूरा

वहीं, जल निकासी को लेकर अभी तक कोई खास कार्य नहीं हो पाया है. 11 करोड़ रुपए की लागत से तीन जगह स्टोरेज टैंकों का निर्माण किया जाना था. इसमें रीको में रेलवे लाइन के पास वाला स्टोरेज टैंक का कार्य पूरा हो चुका है. इसके अलावा सीतसर में बनने वाले स्टोरेज टैंक का निर्माण पूरा नहीं हो पाया है. इसके अलावा तीसरा स्टोरेज टैंक पंचयत समिति के पीछे बनना था, परंतु यहां पर जनता का विरोध होने के चलते अभी तक काम शुरू नहीं हो पाया है. वहीं, सीतसर वाले स्टोरेज टैंक का कार्य अक्टूबर के अंत तक पूरा होने की संभावना है.

इन पार्कों का सौंदर्यीकरण का कार्य अभी भी बाकी
Loading...

हरित क्षेत्र के तहत पांच पार्कों नेहरू पार्क, चूणा चौक, इंदिरा नगर पार्क, हाउसिंग बोर्ड और बसंत विहार के पार्कों को विकसित किया जाना था. इनमें से नेहरू पार्क, चूणा चौक स्थित पार्क, इंदिरा नगर पार्क को विकसित किया जा चुका है, जबकि हाउसिंग बोर्ड व बसंत विहार स्थित पार्क के सौंदर्यीकरण का कार्य अभी चल रहा है.

Smart City
झुंझुनूं में करोड़ों रुपए खर्च करने के बावजूद शहर की सड़कें टूटी हुई हैं. नालियां बनने के बाद ही टूट गई.


नगर पार्षद के आयुक्त का ये है कहना

अटल मिशन फार रिजुवनेशन एंड अर्बन ट्रांसफार्मेशन (अमृत) स्कीम में सीकर, चूरू व झुंझुनूं को शामिल किया गया था. सरकार ने अमृत योजना में विकास के लिए शहरी निकाय की जिम्मेदारी तय की थी. इसमें जल निकासी व पार्कों का सौंदर्यीकरण किया जाना था. नगर परिषद के आयुक्त देवीलाल कहते है कि योजना के तहत कार्य चल रहा है. अभी तक तीन पार्कों को विकसित किया जा चुका है. ड्रेनेज में रीको स्थित टैंक का काम पूरा हो चुका है. पंचायत समिति के पीछे बनने वाले टैंक में जनता के विरोध के चलते भी काम शुरू नहीं हो पाया है.

यह भी पढ़ें: कोटा शहर की सड़कों पर रात को मगरमच्छ मचाते हैं धमाचौकड़ी, देखें VIDEO

बहू ने सास को ईंट मारकर किया घायल, जान से मारने की रोज देती थी धमकी

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए झुंझुनूं से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 22, 2019, 6:52 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...