लोकसभा चुनाव: ओला परिवार को बाहर करने के लिए एक जाजम पर आया विरोधी खेमा
Jhunjhunu News in Hindi

लोकसभा चुनाव: ओला परिवार को बाहर करने के लिए एक जाजम पर आया विरोधी खेमा
पूर्व केन्द्रीय मंत्री स्व. शीशराम ओला. फाइल फोटो

शेखावाटी में कांग्रेस के दिग्गज नेता रहे पूर्व केन्द्रीय मंत्री स्व. शीशराम ओला के परिवार से झुंझुनूं लोकसभा क्षेत्र की परंपरागत टिकट छीनने के लिए ओला विरोधी नेता एक जाजम पर आना शुरू हो गए हैं.

  • Share this:
शेखावाटी में कांग्रेस के दिग्गज नेता रहे पूर्व केन्द्रीय मंत्री स्व. शीशराम ओला के परिवार से झुंझुनूं लोकसभा क्षेत्र की परंपरागत टिकट छीनने के लिए ओला विरोधी नेता एक जाजम पर आना शुरू हो गए हैं. इसके लिए ओला विरोधी नेताओं ने गांव-गांव संपर्क करना शुरू कर दिया है.

इनकी अगुवाई कर रहे हैं सूरजगढ़ से पूर्व विधायक श्रवण कुमार. इस बार लोकसभा की टिकट के लिए कई दावेदार सामने आ रहे हैं. इनमें श्रवण कुमार का नाम खासा चर्चा में है. श्रवण कुमार के अलावा हरियाणा के पूर्व सीएम भूपेंद्र हुड्डा के करीबी रिश्तेदार सुरेश कटेवा भी दावेदारों में शुमार हैं.

शीशराम ओला पांच बार झुंझुनूं संसदीय क्षेत्र का लोकसभा में प्रतिनिधित्व कर चुके हैं. ओला के निधन के बाद गत बार उनकी पुत्रवधू पूर्व जिला प्रमुख डॉ. राजबाला ओला को पार्टी ने लोकसभा का टिकट थमाया था, लेकिन उन्हें बीजेपी की संतोष अहलावत से करारी हार का सामना करना पड़ा था. संतोष अहलावत को 4,88,182 मत मिले थे. वहीं राजबाला को महज 2,54,347 मतों से संतोष करना पड़ा था. अब लोकसभा चुनाव आते ही ओला विरोधी खेमे में हलचल शुरू हो गई है. ओला विरोधी खेमा अब लोकसभा की राजनीति से ओला परिवार को दूर करना चाहता है.



यह भी पढ़ें: झुंझुनूं लोकसभा सीट: यहां पांच दशक से 'नहर' पर चल रही है राजनीति



ये नेता आए एक साथ 
इसके लिए पिछले दिनों श्रवण कुमार ने सूरजगढ़ में किसान सभा कर शक्ति प्रदर्शन किया और विरोधियों पर जमकर निशाने साधे. उनकी इस सभा में ओला विरोधी खेमे के मंडावा की पूर्व विधायक रीटा चौधरी, पिलानी विधायक जेपी चंदेलिया और उदयपुरवाटी से वरिष्ठ कांग्रेस नेता रविंद्र भडाना भी मौजूद थे. चूंकि सीकर जिले का फतेहपुर विधानसभा क्षेत्र भी झुंझुनूं लोकसभा क्षेत्र में शामिल है. ऐसे में फतेहपुर से पूर्व विधायक एवं कांग्रेस नेता नंदकिशोर महरिया भी इस किसान सभा में शामिल हुए. महरिया ने कहा कि वे मंच पर किसी का नाम तो नहीं लेंगे, लेकिन जो कांग्रेस के गद्दार हैं, उन्हें अब सबक सिखाने का वक्त आ गया है.

यह भी पढ़ें:  प्रदेश में लड़खड़ा रही है कांग्रेस की देन महात्मा गांधी नरेगा योजना, रोजगार का आंकड़ा गिरा  

मनरेगा योजना बनी सरकार की प्राथमिकता, 24 दिन में बढ़ गए करीब 9 लाख श्रमिक

डॉ. राजबाला इस बार फिर कर रही है दावेदारी
गत लोकसभा चुनावों में हार का सामना कर चुकी ओला की पुत्रवधु डॉ. राजबाला ओला के पति बृजेन्द्र ओला वर्तमान में झुंझनूं से विधायक हैं. विधायक बृजेंद्र ओला का भी जिले की आधी से ज्यादा विधानसभा क्षेत्रों में विरोध हो रहा है. क्योंकि उन पर आरोप है कि उन्होंने पिलानी, नवलगढ़, सूरजगढ़ और मंडावा में कांग्रेस प्रत्याशियों को हरवाने में कार सेवा की थी. इनमें से दो जगह सूरजगढ़ व मंडावा में वे कामयाब रहे, लेकिन पिलानी और नवलगढ़ में कांग्रेस प्रत्याशी जीत गए.

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading