आरोपों से आहत हुए नवलगढ़ MLA डॉ. राजकुमार, सीमेंट कंपनियों और किसानों का मुद्दा छोड़ा

Imtiyaz Bhati | News18 Rajasthan
Updated: September 9, 2019, 7:15 PM IST
आरोपों से आहत हुए नवलगढ़ MLA डॉ. राजकुमार, सीमेंट कंपनियों और किसानों का मुद्दा छोड़ा
आरोपों से आहत विधायक डॉ. राजकुमार शर्मा ने कहा कि कुछ लोग इस मामले में उनके परिवार पर आक्षेप लगा रहे है, जो उन्हें और उनके कार्यकर्ताओं को बर्दाश्त नहीं है.

नवलगढ़ विधानसभा (Nawalgarh ) क्षेत्र से कांग्रेस विधायक डॉ. राजकुमार शर्मा (MLA Dr. Rajkumar Sharma) ने सीमेंट कंपनियों और किसानों (Cement companies and farmers) के समझौते मामले से खुद को अलग कर लिया है.

  • Share this:
झुंझुनूं. जिले के नवलगढ़ विधानसभा (Nawalgarh ) क्षेत्र से कांग्रेस (Congress) विधायक डॉ. राजकुमार शर्मा (MLA Dr. Rajkumar Sharma) ने सीमेंट कंपनियों और किसानों (Cement companies and farmers) के समझौते मामले से खुद को अलग कर लिया है. आरोपों (Allegations) से आहत विधायक डॉ. शर्मा ने कहा कि कुछ लोग इस मामले में उनके परिवार पर आक्षेप लगा रहे है, जो उन्हें और उनके कार्यकर्ताओं को बर्दाश्त नहीं है. लिहाजा वे खुद को इस समझौते के मसले से अलग कर रहे हैं.

किसानों की 14 मांगें मनवाई
डॉ. राजकुमार शर्मा ने इस मुद्दे को लेकर सोमवार को परसरामपुरा में आयोजित प्रेसवार्ता में कहा कि किसानों और सीमेंट कंपनियों के बीच भूमि अधिग्रहण को लेकर चल रहे विवाद का उन्होंने गत दिनों किसानों के आग्रह पर सुलटारे का प्रयास किया था. किसान जिन 15 मांगों को लेकर वार्ता में आए थे, उनमें से 14 मांगें तो उन्होंने कंपनियों के मैनेजमेंट से बातचीत कर ज्यों की त्यों मनवा दी थी. लेकिन जमीनों के मुआवजे को लेकर बात अटक गई थी.

जो आक्षेप लगाए जा रहे हैं वे बर्दाश्त नहीं हैं

किसान 12-13 लाख रुपए प्रति कच्ची बीघा के मांग रहे थे, जबकि कंपनी 8.35 लाख रुपए पर देने पर अड़ी थी. लेकिन उन्होंने इसमें भी बीच का रास्ता निकालकर 10 लाख रुपए प्रति कच्ची बीघा में बात तय करवाई. बकौल डॉ. शर्मा यह दर उनकी नजर में सही और वाजिब है. लेकिन इसके बावजूद भी कुछ लोग उन पर और उनके परिवार पर आक्षेप लगा रहे हैं. यह उन्हें और उनके कार्यकर्ताओं को बर्दाश्त नहीं है.

कंपनियां, प्रशासन और रीको सभी स्वतंत्र हैं
डॉ. शर्मा ने कहा कि उन पर जो आरोप लगाए जा रहे हैं, इससे वे आहत हैं. लिहजा खुद को समझौते से अलग कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि आज के बाद कंपनियां, प्रशासन और रीको सभी स्वतंत्र हैं. वे खुद कंपनियों के पक्ष हैं, क्योंकि उनके लगने के बाद रोजगार के अवसर पैदा होंगे.
Loading...

Article 370 और 35-A हटने से जम्मू-कश्मीर में विकास के द्वार खुले हैं: RSS

राजस्थान: जिला परिषद की बैठक में BJP के सदस्य ने कांग्रेस MLA को दिखाया जूता

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए झुंझुनूं से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 9, 2019, 7:13 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...