होम /न्यूज /राजस्थान /राजस्थान के इस गांव को क्यों कहते है 'हॉकी' वाला गांव, कई खिलाड़ियों ने राष्ट्रीय स्तर पर लहराया है परचम

राजस्थान के इस गांव को क्यों कहते है 'हॉकी' वाला गांव, कई खिलाड़ियों ने राष्ट्रीय स्तर पर लहराया है परचम

Jhunjhunu News: रवां गांव के पुष्पेंद्र ने हॉकी में दो बार राष्ट्रीय स्तर पर खेल कर अपनी धाक जमाई है. सरकार ने उन्हें ह ...अधिक पढ़ें

रिपोर्ट- इम्तियाज अली

झुंझुनूं. झुंझुनूं के खेतड़ी उपखंड का रवां गांव की पहचान हॉकी वाले गांव के रूप में बनी हुई है. क्योंकि गांव से कई युवा राष्ट्रीय स्तर पर खेल चुके हैं. हॉकी खेल कोटे से गांव के एक युवक ने नौकरी भी प्राप्त की है. गांव की गलियों में बच्चे क्रिकेट बेट लिए नहीं मिलेंगे, बल्कि हॉकी की स्टिक के साथ दौड़ते-खेलते नजर आएंगे. हॉकी के प्रति बच्चों-युवाओं में दीवानगी की शुरुआत 2007 में हुई. इससे पहले गांव में हॉकी कोई नहीं खेलता था.

2007 में शारीरिक शिक्षक उमेश कुमार स्वामी ने राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय के छात्र-छात्राओं को हॉकी खिलाना शुरू किया. देखते ही देखते स्कूली खेलों में खिलाड़ियों ने परचम लहराना शुरू कर दिया. इसके बाद यही बच्चे स्टेट व नेशनल तक में सलेक्ट हो गए. मेडल लाने पर गांव में जश्न हुआ तो दूसरे बच्चों ने भी हॉकी को ही अपना खेल बना लिया. यानी 15 साल के दौरान रवां गांव हॉकी की नर्सरी बन गया है और राष्ट्रीय स्तर तक इस गांव के खिलाड़ियों ने अपने नाम और गांव का परचम लहराया है.

नंगे पैर खेलकर सीखी हॉकी की बारीकियां
छात्र नंगे पैर तक खेलने को मजबूर हुए, लेकिन एक मन में जिद्द और जुनून था कि गांव में राष्ट्रीय खेल हॉकी के खिलाड़ियों को तैयार करने की. शुरुआत में छात्रों को भी खेल अटपटा लगा, लेकिन लगातार अभ्यास और मेहनत रंग लाई और 2007 में ही जिला स्तर पर प्रथम और गांव की पूरी टीम राज्य स्तर पर द्वितीय स्थान प्राप्त किया.

इन खिलाड़ियों ने राष्ट्रीय स्तर पर भी बनाई पहचान
रवां गांव की छात्र-छात्राओं ने राज्य और राष्ट्रीय स्तर पर भी अपनी धाक जमाई है. अभी तक 14 छात्र व दो छात्राएं राष्ट्रीय स्तर पर खेल चुकी हैं, जबकि सैकड़ों छात्र राज्य स्तर पर खेल चुके हैं. राष्ट्रीय स्तर पर छात्राओं में ममता अवाना और पूजा मीणा खेल चुकी है. छात्रों में कपिल, दीपक, विक्रम, मोहित, पवन, हरीश, भूप सिंह, गौतम, अजय, पुष्पेंद्र, रवि दत्त, सरजीत और शुभम ने खेला है. एक खिलाड़ी राष्ट्रीय स्तर पर भी खेल कर आया है. राज्य स्तर पर लगभग 80 छात्र-छात्राएं खेल चुके हैं.

 खेल कोटे से मिली है नौकरी
रवां गांव के पुष्पेंद्र ने हॉकी में दो बार राष्ट्रीय स्तर पर खेल कर अपनी धाक जमाई है. सरकार ने उन्हें हॉकी खेल कोटे से राजस्थान पुलिस में एएसआई के पद पर नौकरी प्रदान की है. वर्तमान में वह जयपुर में रहकर हॉकी का अभ्यास कर रहे हैं.

हॉकी के अन्य खिलाड़ियों में सचिन, जांगिड़ और आशीष भारतीय नौसेना में और मोनू जांगिड़ सेना में हॉकी के खिलाड़ी के रूप में कार्यरत है.

Tags: Hockey News, Indian Hockey Team, Jhunjhunu news, Rajasthan news

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें