तीन साल बाद भरी पालना गृह की 'गोद’, पहली बार कोई छोड़ गया बच्चा

झुंझुनूं में मंगलवार रात को बीडीके अस्पताल के पालना गृह में पहली बार कोई अपना नवजात बच्चा छोड़ गया तो अस्पताल प्रशासन सकते में आ गया.

Imtiyaz Bhati | News18 Rajasthan
Updated: April 24, 2019, 1:57 PM IST
तीन साल बाद भरी पालना गृह की 'गोद’, पहली बार कोई छोड़ गया बच्चा
तीन साल बाद भरी पालना गृह की 'गोद’, पहली बार कोई छोड़ गया बच्चा
Imtiyaz Bhati
Imtiyaz Bhati | News18 Rajasthan
Updated: April 24, 2019, 1:57 PM IST
राजस्थान के झुंझुनूं में मंगलवार रात को बीडीके अस्पताल के पालना गृह में पहली बार कोई अपना नवजात बच्चा छोड़ गया तो अस्पताल प्रशासन सकते में आ गया, जिसके बाद बच्चे को अस्पताल प्रशासन ने एनआईसीयू में रखा और उसका इलाज शुरू कर दिया है.

जानकारी के अनुसार झुंझुनूं में मंगलवार रात को आखिरकार तीन साल बाद बीडीके अस्पताल में स्थित पालना गृह की 'गोद’ भी भर गई. दरअसल जून 2016  में बीडीके अस्पताल में पालना गृह स्थापित किया गया था. इस पालने में नवजात को छोड़ने का यह पहला मामला है.

मंगलवार रात करीब आठ बजे जैसे ही किसी ने बच्चे को पालने में रखा, उसके कुछ क्षण बाद अलार्म बज उठा. वहां मौजूद मेल नर्स कुछ ही पल में पालने तक पहुंचे और बच्चे को वहां से लाकर गहन शिशु इकाई तक पहुंचाया. वहां इसे तत्काल उपचार मिल गया. फिलहाल नवजात बच्चे को एनआईसीयू में रखा गया है. बच्चे का वजन भी कम बताया जा रहा है और उसकी डिलीवरी भी प्री-मेच्योर बताई जा रही है.

बता दें कि जिले में लावारिस हालत में मिले बच्चों के बाद कई बार ना केवल जिला प्रशासन, बल्कि महिला अधिकारिता विभाग भी अनचाहे बच्चों को पालना गृह में छोडऩे की अपील कर चुका है, ताकि बच्चों की जिंदगी बचाई जा सके. साथ ही परिजनों पर भी कोई कानूनी कार्रवाई ना हो.

यह भी पढ़ें- भरतपुरः अस्पताल के पालना गृह में बच्ची को छोड़कर फरार हुई मां

यह भी पढ़ें- एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडे

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए झुंझुनूं से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: April 24, 2019, 1:57 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...