2 मासूम बच्चे जंजीरों से बांध हुए कमरे में बंद थे और मां-बाप...

Rajendra Prasad Sharma | News18 Rajasthan
Updated: September 6, 2019, 1:27 PM IST
2 मासूम बच्चे जंजीरों से बांध हुए कमरे में बंद थे और मां-बाप...
माता-पिता इन दो मासूम बच्चों को कमरे में जंजीरों से बांध कर छोड़ चले गए.

झुंझुनूं (Jhunjhunu) जिले के चिड़ावा (Chirawa) इलाके में दो मासूम बच्चों के हाथ-पैर जंजीरों से बांध कर माता-पिता गोगामेड़ी (Gogamedi) की धार्मिक यात्रा पर चले गए.

  • Share this:
झुंझुनूं. राजस्थान के झुंझुनूं (Jhunjhunu) जिले के चिड़ावा (Chirawa) इलाके में दो मासूम बच्चों के हाथ-पैर जंजीरों से बांध कर माता-पिता गोगामेड़ी (धार्मिक यात्रा) चले गए. महज डेढ़ और ढाई साल के इन मासूम बच्चों को रोते-बिलखते की खबर जब पड़ोसियों को लगी तो दोनों को बाहर निकाला. कमरे बंद होने से दोनों बच्चों की तबियत बिगड़ गई थी. ऐसे हालात में पड़ोसियों ने दोनों को अस्पताल पहुंचाया. उधर, गोगामेड़ी गए माता-पिता देर रात लौट आए. फिलहाल पुलिस पूछताछ कर रही है. उधर, अब दोनों बच्चों की हालत में सुधार है. उन्हें अस्पताल से छुट्टी भी दे दी गई है. चिकित्सकों ने बताया कि 14 या 15 घंटे कुछ भी नहीं पाया तो पानी की कमी आ गई थी.

ये भी पढ़ें- हरियाणा के बाद इस गैंग ने राजस्थान में मचाया आतंक

दोनों को एक कमरे में बंद किया

चिड़ावा के रहने वाले महेंद्र बाल्मीकि और उसकी पत्नी रेखा दर्शन करने के लिए गोगामेडी गए थे.  इस दौरान दोनों ने अपने एक डेढ़ साल के बेटे और एक ढाई साल के बेटे को घर पर ही छोड़ दिया था. दोनों को एक कमरे में बंद कर दिया चारपाई पर उन्हें रस्सी से बांध दिया था.

दूध पीने वाले बच्चों ने नहीं खाया खाना

बच्चों के पास चपाती बनाकर छोड़ दी गई. जबकि दोनों बच्चे अभी तक दूध ही पीते हैं. खाना भी कोई खिलाएं तो हाथ से ही खिलाना पड़ता है.  ऐसी स्थिति में दोनों बच्चे ना कुछ खा पाए और ना कुछ भी पानी पी पाए और उनकी तबियत बिगड़ गई.

अस्पताल में भर्ती कराया, मां-बाप को सूचना दी
Loading...

दोनों बच्चों के रोने की आवाज सुनकर स्थानीय लोग घर पहुंचे. बच्चों के रोने की आवाज जिस कमरे से आ रही थी वहां देखा तो दोनों बच्चे एक कमरे में चारपाई पर बंधे हुए थे. स्थानीय लोगों ने पुलिस को सूचना दी. पुलिस मौके पर पहुंची दोनों बच्चों को अस्पताल में भर्ती करवाया. उसके बाद उसके मां-बाप को सूचना दी. सूचना मिलने के बाद  महेंद्र और रेखा वहां से रवाना हुए और देर रात चिड़ावा पहुंचे. अपने बच्चों को आकर संभाला.

ये भी पढ़ें- 
शिक्षक दिवस पर सरकारी स्कूल के टीचर्स के लिए बड़ी खबर
सांसद हनुमान बेनीवाल ने वसुंधरा राजे और अशोक गहलोत को लेकर ये क्या कह दिया?

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए जयपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 6, 2019, 8:51 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...