Home /News /rajasthan /

आसाराम के एक इशारे पर मरने-मारने को तैयार हैं 2000 समर्थक!

आसाराम के एक इशारे पर मरने-मारने को तैयार हैं 2000 समर्थक!

आश्रम में नाबालिग के यौन उत्पीड़न मामले में सलाखों के पीछे दिन काटने को मजबूर आसाराम पर जेल से गवाहों पर हमले कराने से जुड़ा एक और खुलासा हुआ है.

आश्रम में नाबालिग के यौन उत्पीड़न मामले में सलाखों के पीछे दिन काटने को मजबूर आसाराम पर जेल से गवाहों पर हमले कराने से जुड़ा एक और खुलासा हुआ है.

आश्रम में नाबालिग के यौन उत्पीड़न मामले में सलाखों के पीछे दिन काटने को मजबूर आसाराम पर जेल से गवाहों पर हमले कराने से जुड़ा एक और खुलासा हुआ है.

  • News18
  • Last Updated :
    आश्रम में नाबालिग के यौन उत्पीड़न मामले में सलाखों के पीछे दिन काटने को मजबूर आसाराम पर जेल से गवाहों पर हमले कराने से जुड़ा एक और खुलासा हुआ है.

    शाहजहांपुर में आसाराम के खिलाफ गवाही देने वाले कृपाल सिंह की हत्या के आरोपी नारायण पांडे ने पुलिस गवाही में यह खुलासा किया है. पांडे के अनुसार आसाराम के पास 2000 समर्थकों की फिदायीन फौज है. इसमें शामिल शख्स आसाराम के एक इशारे पर कुछ भी कर सकता है. इन सभी समर्थकों को एकमात्र लक्ष्य है आसाराम के लिए जीना या मरना. ये आसाराम के खिलाफ जाने वालों (गवाहों) को कभी भी मार सकते हैं.

    उल्लेखनीय है कि दो सप्ताह पूर्व आसाराम मामले के मुख्य गवाह कृपाल सिंह की शाहजहांपुर में हत्या हो गई थी.  पुलिस ने भले ही कृपाल सिंह के हत्यारे नारायण पांडे को गिरफ्तार कर लिया हो लेकिन इस मामले पर से कई अहम खुलासे होना अभी बाकी हैं. जोधपुर पुलिस और उत्तर प्रदेश की शाहजहांपुर पुलिस ने संयुक्त कार्रवाई करते हुए गत 22 जुलाई को गवाह कृपाल सिंह के हत्यारे नारायण पांडे को जोधपुर से गिरफ्तार किया था.

    अन्य गवाहों की जान पर भी खतरा:

    इस मामले में एक पुलिस विरिष्ठ अधिकारी ने खुलासा किया है कि नारायण पांडे के अलावा एक अन्य संदिग्ध भी है जो अन्य गवाहों को मारने की कोशिश कर सकता है. मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार पुलिस का कहना है कि यह संदिग्ध जोधपुर में छिपा हो सकता है. तथा यह पुलिस की नजर से बचने के लिए जल्द ही गुजरात भाग सकता है. पुलिस को अंदेशा है कि आसाराम मामले में अब तक जितने भी गवाहों पर हमले हुए है उनमें इस शख्स का हाथ हो सकता है.

    आसाराम जेल से दे रहे निर्देश:

    हाल ही उत्तर प्रदेश पुलिस को एक ऑडियों टेप भी बरामद हुआ है जिसमें कई अहम तथ्य सामने आ रहे है. इस टेप में आसाराम द्वारा जोधपुर सेंट्रल जेल से फोन पर बात करने की पुष्टि हुई है. इस टेप में गवाह कृपाल सिंह को रिश्वत देने की पेशकश पर बातचीत हुई है. कहा जा रहा है कि आसाराम जेल के भितर से ही अपने समर्थकों को निर्देश दे रहा है.

    गवाहों की सुरक्षा व्यवस्था बढ़ाई:

    ऑडियो टेप मिलने और गवाह कृपाल सिंह की हत्या के बाद से पुलिस ने मामले के अन्य गवाहों की सुरक्षा बढ़ा दी है. जांच अधिकारी चंचल मिश्रा जो की इस मामले की एक अहम गवाह है उनकी सुरक्षा को लेकर पुलिस काफी सतर्क नजर आ रही है, क्यूंकि चंचल मिश्रा के बयान ही इस केस एक दिशा तय कर सकते हैं. इसके अलावा अभियोजन पक्ष के वकीलों को भी पुलिस की ओर से सुरक्षा प्रदान की गई है. चंचल मिश्रा को एक अतिरिक्त सुरक्षा गार्ड भी दिया गया है.

    Tags: Jodhpur Central Jail

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर