अपना शहर चुनें

States

Jodhpur: नगर निगम में कुर्सी की लड़ाई खत्म हुई तो अब बीजेपी-कांग्रेस में भवन को लेकर मचा है घमासान

प्रदेश में नगरीय निकायों में अभी परिसीमन की प्रक्रिया पूरी नहीं हुई है
प्रदेश में नगरीय निकायों में अभी परिसीमन की प्रक्रिया पूरी नहीं हुई है

जोधपुर में नगर निगम चुनाव के बाद अब भवन को लेकर घमासान (Fight) मचा हुआ है. इसको लेकर बीजेपी-कांग्रेस (BJP-Congress) आमने-सामने हैं.

  • Share this:
जोधपुर. शहर में भले ही नगर निगम चुनाव (Municipal election) में कुर्सी की लड़ाई खत्म हो चुकी हो लेकिन अब बैठने (Building) को लेकर जंग शुरू हो गई है. चुनाव से पहले नगर निगम उत्तर और नगर निगम दक्षिण का भवन अलग अलग था. लेकिन अब चुनाव के बाद नगर निगम उत्तर का भवन नगर निगम दक्षिण में शिफ्ट करने के आदेश को लेकर बीजेपी-कांग्रेस (BJP-Congress) आमने-सामने हो गई हैं. बीजेपी जहां कांग्रेस पर सत्ता के दुरुपयोग का आरोप लगा रही है वहीं कांग्रेस आपसी तालमेल बैठाकर साथ काम करने की बात कह रही है.

जोधपुर नगर निगम दक्षिण का भवन काफी बड़ा है. नगर निगम दक्षिण में बीजेपी का बोर्ड बना है. चुनाव में जीत हासिल करने के बाद बीजेपी की महापौर वनिता सेठ और उनके बोर्ड ने यहां अपना कामकाज शुरू कर दिया. लेकिन महज कुछ ही दिनों में नगर निगम उत्तर का कार्यालय भी दक्षिण में शिफ्ट करने का सरकारी आदेश आ गया. आदेश आते ही फिर घमासान शुरू हो गया. बीजेपी बोर्ड ने कांग्रेस सरकार पर भेदभाव करने का आरोप लगाया है. नगर निगम दक्षिण की महापौर विनीता सेठ ने सीएम अशोक गहलोत के सामने इस फैसले को लेकर विरोध दर्ज कराया है. उन्होंने कहा कि जोधपुर में मुख्यमंत्री ने दो नगर निगम कर दिए. अब दो नगर निगम करने के बाद एक ही भवन में दोनों निगमों को शिफ्ट करने का क्या तुक है ?

Rajasthan: चुनाव लड़ने वाले नेताओं और कार्यकर्ताओं को नहीं मिलेंगी राजनीतिक नियुक्तियां

महापौर ने कहा कि भवन को लेकर कोई विवाद नहीं होना चाहिए


वहीं बीजेपी के आरोप पर नगर निगम उत्तर की कांग्रेस की महापौर कुंती देवड़ा आपसी तालमेल बैठाकर काम करने की बात कह रही हैं. देवड़ा ने कहा कि जनता ने दोनों ही बोर्ड को विकास कार्यों को लेकर सत्ता सौंपी है. ऐसे में भवन को लेकर कोई विवाद नहीं होना चाहिए. उन्होंने कहा कि नगर निगम उत्तर का पुराना भवन छोटा पड़ रहा है. इसके साथ ही वहां पर पार्किंग की बड़ी परेशानी सामने आ रही थी. लिहाजा उन्होंने यूडीएच मंत्री को इस परेशानी के बारे में बताया. इस पर उन्होंने नगर निगम दक्षिण में ही दोनों ही बोर्ड के कार्यालय अलग-अलग खोलने का आदेश दिया है. देवड़ा का कहना है कि वह बीजेपी के बोर्ड के साथ तालमेल बैठाकर काम करेंगी.

अगले दो दिन में विवाद निपटने की जताई जा रही है संभावना
इन सबके बीच नगर निगम कमिश्नर रोहिताश तोमर ने इस विवाद पर इतना ही कहा कि एक दो दिन में निगम दक्षिण व निगम उत्तर के कमरों की अलग अलग व्यवस्था कर दी जाएगी. बहरहाल नगर निगम भवन को लेकर बीजेपी और कांग्रेस आमने-सामने है. उम्मीद जताई जा रही है कि अगले 2 दिन के बाद यह साफ हो जाएगा उत्तर की महापौर और दक्षिण की महापौर कहां और किस कमरे में बैठेंगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज