अपना शहर चुनें

States

OMG! शिवरात्रि पर प्राचीन मंदिर का रास्ता बंद, VIRAL हुआ बिजली के खंभे का जलाभिषेक

 बिजली के खंभे का ही जलाभिषेक करती महिलाएं.
बिजली के खंभे का ही जलाभिषेक करती महिलाएं.

शिवरात्रि के दिन प्राचीन शिव मंदिर का रास्ता बंद किए जाने के विरोध में लोगों ने बिजली के खंभे का ही जलाभिषेक कर दिया. विरोध स्वरूप इस जलाभिषेक का यह वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया है.

  • Share this:
राजस्थान के जोधपुर जिले की पीपाड़ शहर में सोमवार को महाशिवरात्रि के अवसर पर भी प्राचिन शिव मंदिर में लोग पूजा-अर्चना को वंचित रह गए. स्थानीय लोगों के अनुसार कुछ प्रभावशाली लोगों के जरिए शिव मंदिर तक जाने वाला रास्ता बंद कर दिया गया. भुंडाना गांव स्थित इस प्राचीन मंदिर में शिवरात्रि को पूजा करने पहुंचे लोगों ने रास्ता बंद देखा तो आक्रोशित हो गए और पुलिस और प्रशासन के खिलाफ जमकर नारेबाजी की. उधर, कुछ महिलाओं ने वहीं पर एक बिजली के खंभे का जलाभिषेक कर अनूठे अंदाज में विरोध जताया. यह विरोध स्वरूप पूजा अर्चना का एक वीडियो किसी ने सोशल मीडिया पर शेयर कर दिया, देखते ही देखते यह VIDEO वायरल हो गया.

ये भी पढ़ें- भारतीय सीमा पर पाकिस्तान के मानव रहित विमान को वायु सेना ने मार गिराया

गांव के बगाराम जाखड़ ने बताया कि पुरातत्व विभाग के जरिए संरक्षित श्रेणी का यह सदियों पुराना मंदिर आसपास के हजारों लोगों की श्रद्धा का केंद्र है. शिवरात्रि के अवसर पर कुछ लोगों ने महादेव मंदिर का रास्ता बंद कर दिया और पत्थर एवं कंटीली झाड़ियां डाल दी.



ये भी पढ़ें- लोकसभा चुनाव: इन 5 सीटों पर टिकी हैं सबकी निगाहें, दो पर राजघरानों की साख पर दांव!
दो महीने पहले चेताया था, कलेक्टर ने कोरा आश्वासन दिया

ग्रामीण भीमा राम ने बताया कि गांव के लोगों ने मंदिर और उसके रास्ते को लेकर दो महीने पहले ही जिला कलेक्टर को अवगत कराया था. कलेक्टर ने तब कोरा आश्वासन दिया लेकिन हकीकत में आम आदमी शिवरात्रि को भी परेशान ही रहा.

ये भी पढ़ें- SURGICAL STRIKE 2.0: राजस्थान में फौजी के घर पैदा हुआ 'मिराज सिंह'

सरकार ने मंदिर के जीर्णोद्धार के लिए दिए 44 लाख

यह प्राचीन मंदिर पुरातत्व विभाग के अधीन है  और इसके रखरखाव और जीर्णोद्धार के लिए हाल ही सरकार ने 44 लाख रुपए भी स्वीकृत किए हैं. हालांकि शिवरात्रि के दिन भी श्रद्धालुओं के लिए प्रशासन रास्ता भी नहीं खुलवा पाया, जिससे स्थानीय लोगों में खास रोष है.

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज