अपना शहर चुनें

States

आसाराम को जेल में पूरे हुए 2 साल, पीड़िता को अब तक न्याय का इंतजार, आज जांच अधिकारी से जिरह

यौन उत्पीड़न के आरोपी आसाराम पर मुकदमा चलते मंगलवार को दो वर्ष हो चुके है लेकिन अभी तक पीड़िता को न्याय नहीं मिला है.
यौन उत्पीड़न के आरोपी आसाराम पर मुकदमा चलते मंगलवार को दो वर्ष हो चुके है लेकिन अभी तक पीड़िता को न्याय नहीं मिला है.

यौन उत्पीड़न के आरोपी आसाराम पर मुकदमा चलते मंगलवार को दो वर्ष हो चुके है लेकिन अभी तक पीड़िता को न्याय नहीं मिला है.

  • Share this:
यौन उत्पीड़न के आरोपी आसाराम पर मुकदमा चलते मंगलवार को दो वर्ष हो चुके है लेकिन अभी तक पीड़िता को न्याय नहीं मिला है.

उल्लेखनीय है कि आसाराम को जोधपुर पुलिस ने 1 सितंबर 2013 को गिरफ्तार किया था. सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर पाॅक्सो (प्रोटेक्शन ऑफ चिल्ड्रन फ्रॉम सेक्सुअल ओफ्फेंसस एक्ट) के तहत मामले में लगभग हर दिन सुनवाई हो रही है. अभियोजन पक्ष के अंतिम गवाह से बचाव पक्ष की ओर से जिरह चल रही है. इसके बाद मुल्जिम बयान, बचाव पक्ष के गवाहों से जिरह, अंतिम बहस आदि अभी बाकी है. यानी पीड़िता को न्यास मिलने में भी और समय लग सकता है.

पीड़िता को मिली रही धमकियां-



जेल में बंद आसाराम पर गवाहों को जेल के अंदर से ही फोन पर धमकाने के आरोप हैं. इस केस से जुड़े कुछ महत्वपूर्ण गवाहों पर आसाराम के इशारे पर हमले तक हो चुके है. कई गवाह तो जान से भी हाथ धो बैठे है.
एक सुनवाई पर आ रहा था 2 लाख खर्च, अब तक 6 करोड़:

आसाराम यौन शोषण मामले को लेकर कोर्ट का लिया गया निर्णय सही है. लेकिन इस निर्णय को लेने में कोर्ट ने कुछ ज्यादा समय ले लिया. दरअसल, आसाराम मामले की सुनवाई जनवरी, 2014 से ही कोर्ट में की जा रही है. इस केस पर अब तक हुई सुनवाई के खर्चे पर नजर डाली जाए तो यह खर्चा 6 करोड़ के ऊपर बैठता है. इसका गणित इस हिसाब से समझिए आसाराम की प्रत्येक पेशी पर लगभग 2 लाख रुपए का खर्चा आता है. अब तक आसाराम केस की 300 पेशियां हो चुकी है. इस प्रकार आसाराम पर अब तक 6 करोड़ से ज्यादा खर्च किए जा चुके है. ऐसे में यही कहा जा सकता है कि कोर्ट ने इस सन्दर्भ में पहले सोचा होता तो इस खर्चे में कटौती हो सकती थी.


जांच अधिकारी से कोर्ट में जिरह:
नाबालिग से उत्पीड़न के आरोप में जेल में बंद आसाराम की ओर से जमानत के लिए लगाई चौथी याचिका पर मंगलवार को सुनवाई होगी. साथ ही मंगलवार को जांच अधिकारी से कोर्ट में जिरह की जाएगी.

 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज