जोधपुर: कोरोना संक्रमित आसाराम आयुर्वेद से कराना चाहते हैं इलाज, हाई कोर्ट में सुनवाई आज

आसाराम कोरोना संक्रमण की चपेट में हैं. उनका जोधपुर एम्स में इलाज चल रहा है. (फाइल फोटो)

आसाराम कोरोना संक्रमण की चपेट में हैं. उनका जोधपुर एम्स में इलाज चल रहा है. (फाइल फोटो)

Asaram Corona infected: कोरोना संक्रमण से जूझ रहे आसाराम ने हाई कोर्ट में अर्जी दाखिल कर आयुर्वेदिक इलाज की इजाजत मांगी है. आसाराम का कहना है कि उन्हें एलोपैथी का इलाज सूट नहीं करता है.

  • Share this:

जोधपुर. कोरोना के कारण आसाराम (Asaram Corona infected) का स्वास्थ्य लगातार गिर रहा है. इस बीच इलाज के लिए हाईकोर्ट में दाखिल आसाराम की अर्जी पर शुक्रवार को सुनवाई होगी. जस्टिस संदीप मेहता और जस्टिस देवेंद्र कछवाहा की खंडपीठ सुबह 9 बजे सुनवाई करेगी. आसाराम ने हाईकोर्ट में अर्जी पेश कर आयुर्वेदिक इलाज (Ayurveda cure) की इजाजत मांगी है. आसाराम फिलहाल जोधपुर एम्स में भर्ती हैं. वहां उनका कोरोना का इलाज चल रहा है.

पहले आसाराम की अर्जी पर सुनवाई गुरुवार को होनी थी, लेकिन राजस्थान के पूर्व सीएम जगन्नाथ पहाड़िया के निधन के कारण गुरुवार को प्रदेश में राजकीय शोक घोषित किया गया था. लिहाजा, अदालतों में भी अवकाश रहा था. आसाराम ने अपनी अर्जी में कहा है कि उनको एलोपैथी का इलाज नहीं बैठता है, इसलिये उन्हें आयुर्वेद इलाज की इजाजत दी जाए. हाई कोर्ट उनकी अर्जी पर महत्वपूर्ण आदेश दे सकता है.

हाई कोर्ट से की है यह मांग

आसाराम की ओर से कोर्ट के समक्ष यह मांग की गई है कि उनका एलोपैथी चिकित्सा पद्धति से इलाज नहीं बैठता है. वह हमेशा आयुर्वेद चिकित्सा पद्धति से इलाज लेते आए हैं और यह चिकित्सा पद्धति ही उनके माफिक है. आसाराम की ओर से इस बात का हवाला भी दिया गया है कि उनके शरीर में हीमोग्लोबिन की लगातार कमी हो रही है. यह उनके जीवन के लिए घातक हो सकता है. ऐसे में उनका इलाज आयुर्वेद चिकित्सा पद्धति से करवाया जाए.
लगातार गिर रहा है हीमोग्लोबिन का स्तर

कोरोना वायरस संक्रमण के इलाज के दौरान आसाराम के पेट में अल्सर की आशंका हुई थी. उनके शरीर से रक्त बहा था. उसके बाद उन्हें मथुरादास माथुर अस्पताल ले जाया गया. वहां उनकी एंडोस्कोपी कराई गई. आसाराम के हीमोग्लोबिन के स्तर में गिरावट दर्ज की गई थी. पूर्व में भी आसाराम की लगातार गिरती तबीयत के बाद जब डॉक्टर ने पाया कि उनके शरीर में हीमोग्लोबिन की कमी हो गई तो उन्हें दो यूनिट रक्त भी चढ़ाया गया था.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज