अपना शहर चुनें

States

शिल्पी की याचिका पर आसाराम को हाईकोर्ट से मिली 28 सितंबर तक राहत

नाबालिग के साथ यौन दुराचार के आरोप में फंसे आसाराम को उनकी सेवादार शिल्पी की याचिका पर हाईकोर्ट से राहत मिली है.
नाबालिग के साथ यौन दुराचार के आरोप में फंसे आसाराम को उनकी सेवादार शिल्पी की याचिका पर हाईकोर्ट से राहत मिली है.

नाबालिग के साथ यौन दुराचार के आरोप में फंसे आसाराम को उनकी सेवादार शिल्पी की याचिका पर हाईकोर्ट से राहत मिली है.

  • Share this:
नाबालिग के साथ यौन दुराचार के आरोप में फंसे आसाराम को उनकी सेवादार शिल्पी की याचिका पर हाईकोर्ट से राहत मिली है.

शिल्पी की याचिका पर आसाराम की सेंट्रल जेल में सुनवाई के आदेशों पर कोर्ट ने 28 सितंबर तक रोक लगा दी है. राजस्थान हाईकोर्ट के जस्टिस गोविन्द माथुर की खंडपीठ में सह आरोपी संचिता उर्फ शिल्पी की ओर से दायर चुनौती याचिका पर यह रोक लगाई गई है.

कोर्ट ने सशर्त्त दी राहत:
कोर्ट ने आसाराम को जेल में सुनवाई से राहत देने से पहले एक शर्त्त रखी है. शर्त्त के अनुसार कोर्ट में सुनवाई की इजाजत तभी मिलेगी जब तब उनके समर्थक जेल से कोर्ट तक रास्ते में नहीं आएंगे.
सोमवार को भी नहीं हो पाई सुनवाई:


11 सितम्बर को हुई पिछली सुनवाई के दौरान हाईकोर्ट ने आसाराम मामले की सुनवाई सेंट्रल जेल में करने पर रोक लगा दी थी. इसके चलते सोमवार को भी सेंट्रल जेल में सुनवाई नहीं हो पाई.
अभियोजन की अर्जी खारिज:
हाईकोर्ट में नोटिफिकेशन को चुनौती देने वाली याचिका पर सुनवाई हुई. वहीं अभियोजन पक्ष की ओर से भी राजस्थान हाईकोर्ट में पूरक आरोप पत्र को लेकर एक अपील दायर की गई. अनुसंधान अधिकारी द्वारा पेश किए गए पूरक आरोप पत्र को रिकाॅर्ड में लेने की अभियोजन की अर्जी को डीजे कोर्ट ने खारिज कर दिया था. जिसके खिलाफ अब हाईकोर्ट में अपील पेश की गई. दोनों ही याचिकाओं पर हाईकोर्ट में सुनवाई हुई.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज