• Home
  • »
  • News
  • »
  • rajasthan
  • »
  • Bhanwari Devi Murder case : मास्टरमाइंड इंद्रा विश्नोई ने 5 साल काटी थी फरारी, अब मिली जमानत

Bhanwari Devi Murder case : मास्टरमाइंड इंद्रा विश्नोई ने 5 साल काटी थी फरारी, अब मिली जमानत

भंवरी देवी की हत्या होने के बाद से इन्द्रा फरार हो गई थी. इन्द्रा की तलाश में पुलिस को बहुत दर-दर ठोकरें खानी पड़ी थी.

भंवरी देवी की हत्या होने के बाद से इन्द्रा फरार हो गई थी. इन्द्रा की तलाश में पुलिस को बहुत दर-दर ठोकरें खानी पड़ी थी.

Indra Vishnoi Got bail: राजस्थान की राजनीति में भूचाल लाने वाले बहुचर्चित भंवरी देवी अपहरण और हत्या के मामले की मास्टरमांइड मानी जाने वाली इंद्रा विश्नोई ने अपनी फरारी के दौरान नर्मदा के तट पर पांच साल गुमनामी में गुजारे थे. पांच लाख रुपए की इनामी इंद्रा बहुत मुश्किल से पकड़ में आई थी. अब इंद्रा विश्नोई को जमानत मिल गई है.

  • News18Hindi
  • Last Updated :
  • Share this:

    जोधपुर. बहुचर्चित भंवरी देवी हत्याकांड (Bhanwari Murder case) मामले में जोधपुर सेंट्रल जेल में बंद आखिरी आरोपी इंद्रा विश्नोई (Mastermind Indra Vishnoi) को भी बुधवार को जमानत मिल गई. हाईकोर्ट से इस मामले में पूर्व मंत्री महिपाल मदेरणा, इंद्रा के भाई व पूर्व विधायक मलखान सिंह विश्नोई समेत 16 आरोपियों को पहले ही जमानत मिल चुकी है. इंद्रा विश्नोई को जमानत मिलने के साथ ही इस मामले में सभी आरोपियों की जमानत हो चुकी है. इस केस में सुप्रीम कोर्ट के निर्णायक आदेश के बाद सभी की जमानत की राह खुली.

    भंवरी अपहरण और हत्या के मामले की सबसे अहम किरदार रही इंद्रा ने अपनी फरारी के समय साढ़े पांच साल तक नर्मदा के तट पर गुमनाम जिन्दगी गुजारी थी. पांच लाख रुपए की इनामी इंद्रा बहुत मुश्किल से पकड़ में आई थी. वह साल 2017 में पकड़ी गई और तभी से जेल में बंद थी. उसे इस मामले में मुख्य मास्टरमाइंड माना जा रहा है. भंवरी देवी की हत्या होने के बाद से वह फरार हो गई थी. इन्द्रा की तलाश में पुलिस ने बहुत दर-दर ठोकरें खानी पड़ी थी.

    मलखान के बेटे संजय ने पूरा किया अपना लक्ष्य
    इस मामले में अधिवक्ता एवं मलखान के बेटे संजय विश्नोई को बड़ी सफलता मिली है. उन्होंने न केवल अपने पिता, चाचा, भाई बल्कि बुआ को भी जेल से बाहर निकाल लिया. संजय विश्नोई मलखान विश्नोई का छोटा बेटा है. मलखान विश्नोई के जेल जाने के बाद अपने पिता के केस को लड़ने के लिए उन्होंने वकालत की और अब वह अपने लक्ष्य में सफल भी हुआ.

    मामले में सुप्रीम कोर्ट का आदेश रहा निर्णायक
    उल्लेखनीय है कि इस मामले के आरोपी परसराम विश्नोई ने जेल में बंद रहने के दौरान उसने अपनी जमानत को लेकर अधीनस्थ न्यायालय से लेकर सुप्रीम कोर्ट गुहार लगाई. सुप्रीम कोर्ट की सुनवाई के समय जब यह तथ्य सामने आया कि 10 वर्षों से मामले के आरोपी जेल की सलाखों के पीछे है और अभी तक सिर्फ सुनवाई चल रही है. पूरे गवाह भी नहीं किए जा सके हैं. इस पर सुप्रीम कोर्ट ने मामले में गंभीरता दिखाते हुए आरोपी परसराम की जमानत अर्जी को 27 जुलाई 2021 को स्वीकार कर लिया था.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज