Jodhpur: सेंट्रल जेल में कैदी ने गुदा में छिपाया मोबाइल, तबीयत बिगड़ी, अस्पताल में कराना पड़ा भर्ती

फिलहाल जेल प्रशासन इस मामले में कुछ भी बोलने के लिये तैयार नहीं है.
फिलहाल जेल प्रशासन इस मामले में कुछ भी बोलने के लिये तैयार नहीं है.

जोधपुर सेंट्रल जेल (Jodhpur Central Jail) में एक अजीब वाकया सामने आया है. यहां एक कैदी ने मोबाइल (Mobile) को छिपाने के लिये उसे गुदा में डाल लिया, जिससे उसकी तबीयत बिगड़ गई. कैदी को अस्पताल में भर्ती कराया गया है.

  • Share this:
जोधपुर. जेलों में कैदी चोरी छिपे मोबाइल (Mobile) मंगवाकर उसे छिपाकर रखने में कोई कसर बाकी नहीं रखते, उसके बावजूद भी वे पकड़ में आ जाते हैं. लेकिन सर्यनगरी जोधपुर की सेंट्रल जेल (Jodhpur Central Jail) में आज जो वाकया सामने आया है वह बेहद चौंकाने वाला है. यहां एक कैदी ने मोबाइल छिपाने के लिये उसे अपने मल द्वार (गुदा) में डाल लिया. इससे उसकी तबीयत बिगड़ गई. उसे संभाग के सबसे बड़े मथुरादास माथुर अस्पताल में शिफ्ट कर दिया गया है. वहां उसका इलाज जारी है.

जेल प्रशासन इस मामले में कुछ भी बोलने के लिये तैयार नहीं है
जोधपुर सेंट्रल जेल में शुक्रवार को एक कैदी की तबीयत खराब हो गई. उसने अपने पेट में दर्द होने की शिकायत की. डॉक्टर ने जब उसका चैकअप किया तो सामने आया कि उसके गुदा में मोबाइल था. इस पर कैदी को महात्मा गांधी अस्पताल ले जाया था लेकिन वहां भी डॉक्टर मोबाइल निकालने में सफल नहीं हुए. इस पर उसे संभाग के सबसे बड़े मथुरादास माथुर अस्पताल में शिफ्ट कर दिया गया. वहां उसका इलाज जारी है. फिलहाल जेल प्रशासन इस मामले में कुछ भी बोलने के लिये तैयार नहीं है.

Rajasthan: कोरोना पॉजिटिव प्रत्याशी के लिए नया दिशा-निर्देश, पर्चा भरने से पहले जान लें ये बातें
रसद सामग्री की आपूर्ति करने वाले ठेकेदार के मार्फत आते हैं मोबाइल !


लेकिन सूत्रों की मानें तो जेल में रसद सामग्री की आपूर्ति करने वाले ठेकेदार के मार्फत से यह मोबाइल जेल तक पहुंच रहे हैं. आज ठेकेदार ने कैदी देवाराम को कुछ मोबाइल दिए थे. उनमें से एक उसने गुदा में डाल लिया. उसके बाद से उसकी तबीयत बिगड़ी तो उसे अस्पताल ले जाया गया. वहां उसका इलाज जारी है. सूत्रों का कहना है कि जेल प्रशासन ने इस मामले की जांच शुरू कर दी है और प्रथम दृष्टया यही मामला सामने आया है. लेकिन वह कुछ भी बोलने को तैयार नहीं है.

Rajasthan: गहलोत सरकार का बड़ा फैसला, नई परियोजनाओं में अब केवल ड्रिप और स्प्रिंकलर सिस्टम से ही होगी सिंचाई

जेलों में कैदियों के पास आये दिन मिलते हैं मोबाइल
उल्लेखनीय है कि प्रदेश की सभी छोटी-बड़ी जेलों में आये दिन कैदियों के पास मोबाइल पाये जाते हैं. हालांकि जेल प्रशासन लगातार सर्च अभियान चलाता भी है, लेकिन कैदी जेल स्टाफ से सांठगांठ कर अपनी जरुरत की सभी चीजें मंगवा लेते हैं. चंद रुपयों के लालच में जेल स्टाफ के कई कर्मचारी इसमें उनका पूरा साथ देते हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज